Posted On: Saturday, August 1, 2020

Vinaash: Woman raped in Corona Isolation Ward, dies. Gaya, Bihar (Ep 192 on 27 Jul, 2020 Crime Patrol Satark Black Headlines)


विनाश
Vinaash

(Black Headlines, Ep. 192)
The incident was reported on 8 April this year when a 24-year-old woman who returned from Ludhiana, after the lock-down was molested and a few days after she died. Due to the nationwide lock-down, where the migration of the working class people from all over the country was going on, in the meantime, an incident came from Gaya district of Bihar.

Dharmendra Chaudhary and his wife returned to their home from Ludhiana on March 25. Dharmendra used to work as a bicycle painter in Ludhiana and due to the lock-down, when his business stopped, he faced shortage of money. In Ludhiana, his wife was 2 months pregnant, but had to undergo an abortion due to excessive bleeding. Still, due to non-stop bleeding and loss of livelihood, Dharmendra brought the her to Bihar on March 25 by an Ambulance and after reaching Gaya, she was admitted to the emergency ward of Anugrah Narayan Magadh Medical College and Hospital.

Dharmendra's mother said that the ambulance took 40 thousand rupees to bring them from Ludhiana. Dharmendra's family and in-laws together arranged this money. Dharmendra's wife was first shown in a government hospital in Sherghati, but when they saw no improvement in her health, she was taken to medical college from where on 1 April she was admitted to the isolation ward due to the possibility of Kovid infection during treatment and her travel history.

During that time she used to live alone in the ward and after taking advantage of this, a doctor raped her on 2 and 3 April.
inside story
YouTube | Dailymotion
घटना रिपोर्ट हुई थी इसी साल 8 एप्रिल को जब बिहार के गया में अस्पताल में अड्मिट एक 24 साल की महिला के साथ दुराचार और मृत्यु का मामला सामने आया था. देशव्यापी लाक्डाउन के चलते जहाँ समूचे देश से मज़दूर तबके के लोगों का पलायन जारी था, उसी बीच बिहार के गया जिले से ये एक घटना सामने आइ थी. दरअसल धर्मेंद्र चौधरी और उसकी पत्नी 25 मार्च को लुधियाना से अपने घर बिहार लौटे थे. धर्मेंद्र लुधियाना में साइकल पैंट का काम करता था और लाक्डाउन के चलते जब उसका काम धंधा बंद हो गया तो रुपए की किल्लत हो गई. लुधियाना में उसकी पत्नी 2 महीने गर्भ से थी मगर अक्केस्सिवे ब्लीडिंग होने की वजह से गर्भपात करवाना पड़ा था. उसके बाद भी ब्लीडिंग ना रुकने की वजह से और रोज़ी-रोटी छिन जाने की वजह से धर्मेंद्र 25 मार्च को महिला को ऐम्ब्युलन्स से बिहार लेकर आया और गया पहुचने के बाद इसको अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज व अस्पताल के इमर्जन्सी वार्ड में अड्मिट कराया गया था.

धर्मेंद्र की माँ का कहना था की ऐम्ब्युलन्स ने लुधियाना से यहाँ तक लाने की 40 हज़ार रुपए लिए थे जो की धर्मेंद्र के घरवालों और ससुराल ने मिल कर चुकाए थे. धर्मेंद्र की पत्नी को पहले शेर घाटी के सरकारी अस्पताल में दिखाया गया मगर कुछ फ़ायदा ना होने पर उसको वहाँ से मेडिकल कॉलेज ले गए जहाँ इलाज के बाद महिला में कोविड के संक्रमण होने की आशंका से 1 एप्रिल को आयसलेशन वार्ड में भर्ती किया गया था. उस दौरान वार्ड में वो अकेली रहती थी और ये सुनने में आया था की इसी का फ़ायदा उठा कर एक डॉक्टर ने 2 और 3 एप्रिल को उसके साथ दुराचार किया.

Online Episode on SonyLiv:
www.sonyliv.com...27-Jul-2020

Online Episode on YouTube (Available in few countries):
www.youtube.com/watch?v=w_B8A8DRFgU
Search Tags:
gaya, bihar, magadh hospital, anugrah medical college,

No comments:

Post a Comment