INSIDESTORIES.CO.IN BANNER

ads header

Crime Patrol | Beyond the religions: Muslim child Akbar raised by a Hindu tea vendor Aikulal Sandil (Episode 69, 70 on 23, 24 Dec 2011)


Aiku & Akbar: Two religions, one family, and a court approval

The story is about Aiku Lal Sandil (Ekulaal), a tea seller from Baradari in Lucknow. Aiku Lal found Akbar, who was around six years old, near his shop in a sad condition and crying. After a doctor's examination, it was determined that Akbar had weak liver, lung infections, and foot infections that prevented him from walking. Aikulal's neighbor Kusumavati also played a significant role in Akbar's upbringing.

Aikulal says, "Akbar cried as soon as he was brought to our home and told us that his name is Akbar and that he lived in Paan Dariba."

Kusumavati, who had five children of her own, took care of Akbar like a foster mother.

"I took him to the doctor and massaged him. His arm seems broken so I bought him to Itaunja." Itaunja is a town of  Lucknow district.

Aikulal's own background is similar to Akbar's. He was raised by a Muslim.

"I am a Hindu who was raised by a Muslim. When I met Akbar, I felt like God was telling me that it is now my turn to repay the dept of my foster father. I was never forced to change my religion, so now it is my responsibility to take care of this child in the same way." - Aikulaal.

Mujtaba Hussain, a court clerk in Lucknow, adopted Aiku Lal as his son and was responsible for taking care of the historical Baradari in Lucknow. Mujtaba Hussain taught Aiku Lal to read and write in English, Hindi, and Urdu. Although Aiku Lal never went to school, he did not want to be like Akbar, who was illiterate, so he took on the responsibility of educating Akbar despite his limited income.

"I have seen Aiku Lal with Abbu since I was very small" - Chaudhary Hasan Imam, son of Muztaba Hussain

"Akbar started his education from the primary school, Refujee Camp and then he went to Queen's Inter College and now he is in Mumtaz Inter College, Amainabad. My income is not very high but my effort is that Akbar's school fees never decreases." - Aiku lal

Akbar definitely goes to the mosque every Friday.

"I don't remember the namaz now, but I definitely go to the mosque on each Thu." - Akbar

Aikulal was met by Akbar in 2002. But they were seen by Akbar's real father and mother when a news channel was airing an interview of the two on television. The interview took place in the office of a political party's in Aminabad. In 2002, Akbar, who was six years old at the time, disappeared when he went with his father to a liquor shop. His father, who was drunk at the time, forgot about him at the shop and went home. Akbar's parents live in Aligarh and he was found in Lucknow after he went missing. The most unusual thing is that Akbar's parents did not file a report about his disappearance with the police, which made it difficult for Aikulal to find him. Eventually, Aiku Lal found Akbar and admitted him to a school, where neither he changed his name and nor his religion. He took Akbar's fostering as his perpose of life and decided that he will never get marry.

When Akbar's real mother and father found out about Akbar, they asked for his custody. However, Akbar's caretaker, Ekulaal, refused as he did not want to lose Akbar. Akbar's mother and father filed a case against Ekulaal alleging that he kept Akbar as a bonded laborer. This case was heard in the High Court of Delhi in 2002 by Justice Barkat Ali Jaidi. The judge ordered that Akbar should stay with Ekulaal. The argument of the mother of the child that the child was being kept as a bonded laborer was rejected by the court. The court looked at Akbar's marksheet and saw that it was good and that he was getting good grades in school. Justice Barkat Ali Jaidi said that Akbar's marksheet was good.

"Our country is a secular country. Caste and religion should not come in the way of justice. If inter-caste marriages can happen, then inter-caste or inter-religion father-son relationships can also happen." -- The Supreme Court

The Supreme Court's decision in the case also favored Aikulaal. Justices D. Jain and H.L. Dattu asked Akulaal's biological mother, Shehnaaz, why when Akbar's father had forgotten him at a liquor shop and when Akbar was lost, a report of his missing was not written. The custody of Akbar's mother could have been given because he was young and his actual guardian was his mother, but it is also necessary to know the child's welfare and the child does not want to leave his foster father.

In 2002, Akulaal and Akbar were also honored in a festival in Delhi called "Phool Walon Ki Sair." "Phool Walon Ki Sair" is a festival started by a Mughal Emperors. This festival was started to also popularize it among Hindus and Muslims. According to a popular story, Mughal Emperors invited his Hindu workers and gave them a bedsheet and flowers of the size of a wing, which they took to the temple of their Hindu goddess Yogmaya. This festival is celebrated as a symbol of Hindu-Muslim unity, in which Aikulal and Akbar were in the center of attraction. It is fortunate for our country that despite the prevailing casteism and religious discrimination, unity prevails within us as a solid foundation.


VIDEO
Watch the video to know more about the case

The Crime Patrol Version of the case is shown as below:

Imran meets Kishan das, a tea seller in his mid-30s, in the Kesarbagh area of Lucknow. Kishandas finds Imran in poor condition, suffering from high fever and later diagnosed with jaundice. The doctor urges Kishandas to admit Imran to a nearby hospital, which he does with his own money. Thanks to the doctor's efforts, Imran's life is saved. Kishandas informs the police that Imran was found abandoned and only remembers his name, but nothing else. When asked about his father, the only word Imran can say is "Abbu". The police search for Imran's photo in the surrounding area, but to no avail. Kishandas is concerned about what will happen to the child if his parents are not found.

Kishandas searches for information about the missing child by visiting the mosque and madrasa near him, but finds no information about Imran's parents. He is advised to send Imran to an orphanage, but instead decides to raise the child himself despite the challenges posed by the high inflation and his limited income from the tea shop. People criticize his decision, calling him crazy and foolish. However, he remains resolute in his determination to care for Imran.

Allahabad high court approval

Kishandas enrolls Imran in school and also decides to have him trained in Islam. Despite objections from those who say it's enough to raise a Muslim child without religious education, Kishandas takes Imran to the nearby mosque to be taught by a Maulvi Sahib. The Maulvi is impressed and asks Kishandas to also teach Imran about the Bhagavad Gita. Over time, the story of Kishandas, a Hindu, raising a Muslim son becomes well-known. However, after five years, a surprising twist occurs when the pair is interviewed on a news channel.


किशनदास, एक 34-35 साल का लखनऊ के केसरबाग़ इलाके का एक चाय वाला जिसको इमरान अपनी चाय की दूकान के पास बहुत ही बुरी हालत में मिलाता है. जब तीन साल का इमरान मिला था उस समय उसके तेज बुखार था. उसको डॉक्टर के पास ले जाने पर पता चला की उसको पीलिया है और बच्चे के पास बहुत कम वक़्त है अगर उसका इलाज तुरंत न शुरू किया गया तो. डॉक्टर के कहने पर किशन इमरान को पास के अस्पताल ले जाता है और भर्ती करता है. डॉक्टर उसको कुछ दावा लाने को कहते हैं किशनदास अपने पैसो से दावा लेकर आता है. डॉक्टरों की कोशिशों के बाद इमरान की जान बचाई जाती है. उसके बाद आसपास के लोगों को कहने पर किशनदास इमरान के लावारिस पाए जाने की खबर पुलिस स्टेशन में देता है और बताता है की इस बच्चे को सिर्फ अपना नाम याद था 'इमरान' उसके अलावा कुछ नहीं बता पाया. पिता का नाम पूछने पर उसके मुह से 'अब्बू' ही निकला. पुलिस कोशिश करती है आसपास के सारे एरिया में इमरान की फोटो से उसका पता लगाने में मगर कुछ नहीं मिलता है. किशनदास परेशान है की इमरान के माँ-बाप अगर नहीं मिले तो इस बच्चे का क्या होगा. किशनदास खुद भी पास की मस्जिद और मदरसे में जाकर एक तीन साल के बच्चे के गुमशुदा होने की खबर देता है मगर बच्चे के माँ-बाप के बारे में कुछ पता नहीं चल पता. सब उसको ये राय देते हैं की वो इमरान को लखनऊ के किसी अनाथालय में सौंप दे. किशनदास दुविधा में है की क्या करे. आखिरकार वो इमरान को अपने ही साथ रख लेता है. लोग उसे सनकी और बेवकूफ कहते हैं. इतनी मेहेंगाई के समय में जब किशनदास के लिए एक चाय की दूकान से अपना खर्चा निकालना मुश्किल है, ऐसे में वो एक बच्चे को कैसे पालेगा?

किशनदास इमरान का स्कूल में दाखिला भी कराता है और उसके बाद एक अजीबोगरीब फैसला लेता है की वो इमरान को इस्लाम की तालीम भी दिलवाएगा. चूँकि इमरान एक मुस्लिम है तो उसे उसके धर्म से वंचित रखना बिलकुल भी ठीक नहीं है. लोग उसको समझाते है की ये सही नहीं है, एक मुस्लिम बच्चे को पालना ही बहुत है और उसे इस्लाम की तालीम दिलवाना सही नहीं होगा मगर किशनदास उसे पास की मस्जिद में ले जाकर वहां की मौलवी साहब से मिलवा कर इस्लाम की शिक्षा दिलवाने की बात करता है. मौलवी साहब को बहुत अच्छा लगता है और वो भी किशन से ये वादा लेते हैं की किशनदास भी इमरान को भगवत गीता पढ़ायेगा. दिन, हफ्ते, साल गुज़रते हैं. पुलिस इमरान के माता-पिता का पता लगाने में असमर्थ है. हिन्दू बाप और मुस्लिम बेटे की ये कहानी धीरे धीरे सार्वजनिक होती जाती है. लोग उन दोनों को जानने लगते हैं. मगर इस कहानी में पांच साल बाद अचानक मोड़ तब आता है जब इन दोनों का एक इंटरव्यू एक न्यूज़ चैनल पे दिखाया जाता है.

ये कहानी लखनऊ निवासी,बारादरी के एक चायवाले एकूलाल सांदिल की है. एकुलाल को अकबर अपनी दुकान के पास मिला था. उस समय अकबर की उम्र छः साल के आसपास थी. अकबर उस समय बहुत गुमसुम हालत में था और रो रहा था. डॉक्टर के पास के जाने आर पता चला की उसका लीवर कमजोर है, फेफड़ों में इन्फेक्शन है और पैरों में भी इन्फेक्शन है जिसकी वजह से वो चल नहीं पा रहा था. एकुलाल की पडोसी कुसुमावती का भी अकबर के पालन पोषण में बड़ा हाथ रहा.

"हम इसको जैसे ही घर लेकर आये इसने रोना शुरू कर दिया. उसने अपना नाम अकबर बताया और जब ये पूछा की वो कहाँ रहता है, उसने कहा की वो पान दरीबा में रहता है."

कुसुमावती के पांच बच्चे हैं. और वो अकबर का पालन पोषण एक पालक माँ की तरह करती है.

"मै इसको डॉक्टर के पास ले गई और मैंने इसकी मसाज़ भी करी. मुझे लग रहा था की इसका हाथ टूटा हुआ है सो मै इसको इलाज के लिए इटोंजा ले गई "

एकूलाल की खुद की कहानी भी अकबर से मिलती जुलती है. एकुलाल का पालनपोषण भी एक मुस्लिम के द्वारा ही किया गया था.

"मै एक हिन्दू हूँ जिसका पालनपोषण एक मुस्लिम के द्वारा किए गया था. जब मुझे अकबर मिला तो मुझे लगा की अब भगवन मुझसे कह रहे हैं कि अब मेरी बारी है की मै अपने पालक पिता का क़र्ज़ उतारूँ. मुझे कभी भी धर्म बदलने को मजबूर नहीं किया गया तो अब मेरी ज़िम्मेदारी है की मै भी इस बच्चे की ऐसे ही देखभाल करू” - एकूलाल.

एकूलाल को चौधरी मुजतबा हुसैन ने पालपोस के बड़ा किया था जो की एक सरकारी कर्मचारी थे और लखनऊ की एतिहासिक बारादरी की देखभाल करना उनकी ज़िम्मेदारी में था. मुजतबा हुसैन ने एकूलाल को इंगलिश, हिंदी और उर्दू लिखाना व पढना सिखाया. एकूलाल खुद तो कभी स्कूल नहीं जा पाए मगर वो नहीं चाहते थे की अकबर के साथ भी ऐसा ही हो इसलिए उन्होंने अपनी कम आय होने के बावजूद अकबर को पढ़ने की ज़िम्मेदारी ली.

"मैंने एकूलाल को तभी से अब्बू के साथ देखा है जब में काफी छोटा था"- चौधरी हसन इमाम, मुजतबा हुसैन के पुत्र।

"अकबर ने प्रार्थमिक विद्यालय, रिफ्यूजी कैंप से शिक्षा पानी शुरू की उसके बाद वो क्वीनस इंटर कॉलेज में आ गया और अब वो मुमताज इंटर कॉलेज, अमीनाबाद में है. मेरी आमदनी बहुत ज्यादा नहीं है मगर मेरी ये कोशिश है की अकबर की स्कूल फीस कभी भी कम न पड़े. " - एकूलाल

अकबर हर शुक्रवार मस्जिद ज़रूर जाता है.

"अभी नमाज़ तो याद नहीं है मगर में जुमे के जुमे मस्जिद ज़रूर जाता हूँ "- अकबर

एकूलाल को अकबर 2002 में मिला था जब की अकबर के माँ-बाप का पता 2007 में चला जब एक न्यूज़ चैनल पर इन दोनों का इंटरव्यू दिखाया जा रहा था. ये इंटरव्यू एक राजनैतिक पार्टी के कैसरबाग ऑफिस में हुआ था. 2002 में छः साल का अकबर उस समय गायब हो गया जब वो अपने पिता के साथ एक शराब की दूकान पर गया था. नशे में धुत पिता घर वापस आते वक़्त उसको दुकान पर ही भूल आये. अकबर के माता-पिता इलाहबाद में रहते हैं और अकबर इलाहबाद में गुम हुआ था जब की उसको लखनऊ में पाया गया. सबसे अजीब बात ये है की अकबर के गुमशुदा होने के बाद उसके माँ-पिता ने पुलिस में उसकी गुमशुदगी की कोई रिपोर्ट नहीं दर्ज कराई जिसकी वजह से एकूलाल भी अकबर के माँ-बाप को ढूँढने में असमर्थ रहा और इसके बाद उसका दाखिल एक स्कूल में करा दिया. बच्चे का नाम नहीं बदला, वही रखा न की धर्म बदला और इस बच्चे को अपने जीवन का एक मकसद बना कर ये निर्णय लिया की वो शादी नहीं करेगा.

जब अकबर के असली माँ-बाप को अकबर के बारे में पता चला तो उन्होंने अकबर की कस्टडी की मांग की मगर एकूलाल ने मन कर दिया क्यूँ की अकबर एकूलाल को चूर कर कहीं नहीं जाना चाहता था. अकबर के माँ बाप ने एकूलाल पर केस किया की एकूलाल ने अकबर को एक बंधुआ मजदूर की तरह रखा हुआ है. ये मामला 2002 में इलाहबाद हाईकोर्ट में जस्टिस बरकत अली जैदी की अदालत में सुनवाई के लिए आया. न्यायमूर्ति ने ये आदेश दिया की अकबर एकूलाल के साथ ही रहेगा. बच्चे की माँ का तर्क की बच्चा बंधुआ मजदूर की तरह से रखा गया है, कोर्ट ने सिरे से नकार दिया. उन्होंने अकबर की मार्कशीट पर गौर किया. अकबर की मार्कशीट अच्छी थी और उसके स्कूल में अच्छे नंबर आ रहे थे. जस्टिस बरकत अली जैदी का कहना था,

"अपना देश के धर्मनिरपेक्ष देश है. जाति -धर्म की बातों को न्याय के रस्ते में नहीं आने देना चाहिए. जब अंतर जातीय विवाह हो सकते हैं तो तो अंतर-जातीय या अंतर-धर्म पिता-पुत्र भी हो सकते हैं. "


मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला भी एकूलाल के पक्ष में ही आया. जस्टिस डी के जैन और एच एल दत्तु की बेंच ने अकबर की जैविक माँ शेहनाज़ से ये सवाल पूछा की जब अकबर के पिता उसको शराब की दूकान पर भूल आये थे और जब अकबर गुम हुआ था उस समय उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट क्यों नहीं लिखवाई गई? कानूनन अकबर की कस्टडी उसकी माँ को दी जा सकती थी क्यों की इसने कम उम्र के बच्चे की स्वाभाविक गार्जियन उसकी माँ ही होती है मगर बच्चे की मर्ज़ी जानना भी ज़रूरी है, और इस मामले में बच्चा अपने पालक पिता को छोड़ कर नहीं जाना चाहता. सन 2002 में ऐकूलाल और अकबर को दिल्ली के के एक त्यौहार "फूल वालों की सैर" में पुरस्कृत भी किया गया। "फूल वालों की सैर" एक मुग़ल बादशाह द्वारा शुरू किया गया त्यौहार है। इस त्यौहार को इस्लाम को हिन्दुओं के बीच भी प्रसिद्द करने के लिए शुरू किया गया था। एक प्रसिद्द कहानी के अनुसार मुग़ल बादशाह अपने हिन्दू कर्मचारियों को इसमें आमंत्रित करता था और उनको एक पंखे के आकार की चादर और फूल उसे देता था जिसको वो हिन्दू अपनी देवी योगमाया के मंदिर में ले जाते थे. ये त्यौहार हिन्दू-मुस्लिम की एकता के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है जिसमे एकूलाल और अकबर विशेष आकर्षण के केंद्र थे. धन्य है हमारा देश जहाँ आज के समय में जातिवाद और धर्मवाद के बीच एकूलाल ने इन सब विषम परिस्थितियों से हट कर अपने आप में एक मिसाल कायम की है।

Online Episode on YouTube:
Part 2: Judge Reveals His Final Judgement In Regards To Imran's Case - Episode 70 - 24th December 2011

Online Episode on YouTube (Bangla):

Read other 165 comments from The Old Blog:


Search Tags: Aikulal Sandil, Akbar, Lucknow, muslim child raised by a hindu, two religion one family and court approval, kusumawati, kishandas, imran, baradari, tea seller, tea vendor, geetanjai mishra, harsh khurana, phool walon ki sair, chaudhary hasan imam, chadhary mujtaba hussain

« Previous Post
title loading...
Next Post »
...title loading

Post a Comment

1 Comments