Posted On: Monday, September 8, 2014

In The Name Of Love: Shabnam, the first woman could get hanged since 1947 (Episode 413, 414 on 6th, 7th Sep 2014)

In The Name Of Love
प्यार के नाम
2008, Lucknow
Farukh (real name Saleem) falls in love with Noori (real name Shabnam). He proposes her and waits for her reply. Noori also in love with him and agrees with it. They start meeting and decides to get married soon. A day she tells her father Ismail​ (real name Shaukat Khaton)​ that she loves Farukh and wants to marry him. His father shouts at her and slaps her. He warns Noori not to think again about him otherwise she would have to pay for it. He also forcibly stops her from doing the job.
A day Noori's boss calls Ismail and asks him about Noori why she is not coming to the office from ​the last few days. Ismail tells him that due to some family issue she can not continue her job and she will not come office. Her boss forces him to send her for the next few days because there are few clients to entertained by Noori only. Ismail allows Noori to attend office for the next few days but don​'​t ever think to meet Farukh.
Noori again has a chance to meet him. They start meeting again and meets each other for the next few days. Farukh also gives her a cell phone and tells her not to disclose anyone about this phone. During their meets, Noori gets pregnant. She still does not tell anything to their parent and plans something very shocking with him to eliminate everyone between them.
inside story
YouTube

2008, लखनऊ
वेल्डिंग का काम करने वाले एक युवक फारुख को प्यार हो जाता है एक आईटी कंपनी में काम करने वाली नूरी से। वो उसके सामने अपने प्यार का प्रस्ताव रखता है और इंतज़ार करता है नूरी के जवाब का। नूरी उसका ये प्रस्ताव मान लेती है. दोनों के बीच मुलाकाते बढ़ने लगती है और एक दिन नूरी अपने अब्बू इस्माइल से बोलती है की वो फारुख से प्यार करती है और उससे शादी करना चाहती है। इस्माइल उसको मारता है और उसको धमकी देता है की आगे से वो फारुख से किसी भी तरह का कोई नाता न रखे। वो उसकी नौकरी भी छुडवा देता है।
नूरी घर में बंद हो जाती है मगर एक दिन उसके बॉस का फ़ोन उसके अब्बू को जाता है। बॉस उसके अब्बू से उसके बार में पूछता है और अब्बू इस्माइल ये बोल देता है की कुछ निजी मामलों की वजह से नूरी अब नौकरी नहीं करेगी। बॉस जोर देता है की उसको कुछ दिन के लिए नूरी की ज़रुरत है किसी ज़रूरी काम के लिए वो अगर इस्माइल उसको आने दे तो काम अच्छे से हो सकेगा। इस्माइल नूरी को जाने की इजाज़त देता है और ये धमकी भी देता है की वो फारुख से मिलने की सोचे भी न।

नूरी को वापस फारुख से मिलने का मौका मिल जाता है। इनदोनो के मिलने का सिलसिला काफी दिनों तक चलता रहता है और इसी बीच नूरी प्रेग्नेंट हो जाती है। इसके बाद भी वो अपने घर पर कुछ नहीं बताती है और फारुख के साथ मिलकर अपने परिवार को रास्ते से हटाने का एक घिनोना षड़यंत्र रचती है।

YouTube:
Part 1: https://www.youtube.com/watch?v=RKAuPGL-SkA
Part 2: https://www.youtube.com/watch?v=KvQZKmE3O-k

SonyLiv:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-413-september-6-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-414-september-7-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/09/crime-patrollovers-get-death-for.html

No comments:

Post a Comment