Posted On: Friday, October 31, 2014

Burnt Alive: Murder of RTI Activist Deepak Upadhyaya (Episode 428, 429 on 31st Oct & 2nd Nov 2014)


Burnt Alive
दहन


Deepak Upadhyaya is a RTI Activist. RTI activists are such people who requests information from a "public authority" (a body of Government or "instrumentality of State") which is required to reply expeditiously or within thirty days. Anyone can become a RTI Activist who is willing to check funding of these authorities.

Deepak is getting threatened by some land contractors to take by his RTI from concerned department otherwise he would have to pay for it. He is a married man who lives with his wife Garima (real name Savita and played by Geetanjali Mishra) and two sons. Upset couple knocks police’s door. Police assures them that soon they will get protection. On the other hand one of the friends of Deepak tells him to get rid of these matters.

A day Deepak leaves from his home and goes missing. Garima has tried his phone many times but phone is continuously switched off. Garima also calls her brother (real name Videsh and played by Gyanedra Tripathi). After sometimes she gets a call from police and polices asks her to reach police station immediately. They both reaches police station where police shows them Deepak’s dead boy. His body is totally burnt so Garima identifies his through his wrist watch and wallet.

According to police Deepak was burnt along with the Car. While car was burning, he did not tired to get out of the car. Police also probing it as a suicide case.
aam aadmi party, AAP, Aasit Redij, Chandra Mohan Sharma, Dahan, geetanjali mishra, Greater Noida, Gyanendra Tripathi, Moin Azam, Nandini, nissar khan, RTI Activist, shahab khan, Trishna Mukherjee,
Geetanjali Mishra

दीपक उपाध्याय एक आर.टी.आई. (राइट टू इनफार्मेशन) एक्टिविस्ट है. आर.टी.आई. एक्टिविस्ट वो होते हैं जिनको सरकारी महकमो के अन्दर क्या हो रहा है इसकी सूचना पाने का अधिकार होता है. जैसे की एक सरकारी ऑफिस ने किस जगह कितना पैसा लगाया और बाकि पैसा कहाँ गया आदि. कोई भी व्यक्ति आर.टी.आई. के द्वारा किसी भी सरकारी काम की जानकारी ले सकता है.

दीपक को कुछ कॉन्ट्रैक्टर्स के धमकी मिल रही है की वो अपनी आर.टी.आई. वापस लेले वरना वो उसको नुक्सान पंहुचा सकते हैं. दीपक शादीशुदा है जो की अपनी वीबी गरिमा और दो बेटों के साथ रहता है. फ़ोन आने के बाद से वो सब घबराये हुए हैं और इसके बाद वो पुलिस के पास भी जाते हैं. पुलिस उन्हें आश्वासन देती है की जल्द ही उनको सुरक्षा दी जाएगी. दूसरी तरफ दीपक के ऑफिस का एक दोस्त उसे किसी बात को लेकर समझाता है की वो इन सब पचड़ो में न पड़े.

एक सुबह दीपक के घर से निकलने के बाद उसका कोई पता नहीं है. शाम को गरिमा उसको फ़ोन कई बार ट्राई करती है मगर वो लगातार स्विच ऑफ जा रहा है. गरिमा परेशान है और वो अपने भाई को फ़ोन कर के बुलाती है. इसी बीच गरिमा को पुलिस का फ़ोन आता है जो की उनको पुलिस स्टेशन आने को बोलते हैं. गरिमा और उसका भाई पुलिस स्टेशन जाते हैं जिसके बाद पता चलता है की दीपक की मौत हो चुकी है. उसके चार बुरी तरह से जली हुई है जिसके अन्दर से उसकी लाश मिली है. उसके आईडी कार्ड के बसे पर ही गरिमा को बुलाया जाता है. गरिमा दीपक के शव की शिनाख्त करती है. दीपक की घडी, पर्स इत्यादि से ये सत्यापित होता है की वो लाश दीपक की है है.

पुलिस के अनुसार दीपक जिस चार में था उसी कार को आग लगा दिया गया. और इस बीच दीपक ने चार से बहार आने का प्रयास भी नहीं किया. पुलिस को ये भी लग रहा है की ये एक सुसाइड का केस है.

Based of case of faking own death by Chandra Mohan Sharma. Sharma was a part time RTI Activist. He was working at maintenance department of Honda Siel manufacturing unit at Greater Nioda. As an activist he filed around 300 applications to expose illigal lang encroachment in Noida-Delhi region. He was one of the early members of the Anna Hazare-led 2011 anti-corruption movement, and later the Aam Aadmi Party (AAP).



Sharma's wife Savita was the secretary of the western Uttar Pradesh wing of the Aam Aadmi Party (AAP). On 2 May, the AAP demanded a probe in the alleged murder, and also asked the state government to reprimand the police for their alleged laxity. Two days later, the AAP members organised a candle march in Greater Noida, and shouted slogans against the police. They condemned the alleged police apathy, and threatened to intensify their stir if no arrests were made in the case. The party's leader Arvind Kejriwal sought a speedy probe into the alleged murder.

Courtesy:
http://en.wikipedia.org/

YouTube:
Part 1: https://www.youtube.com/watch?v=yqlF269CNXY
Part 2: http://www.youtube.com/watch?v=ZD74DjnJtBk

SonyLiv:
Part 1: www.sonyliv.com...Ep-428---Burnt-Alive
Part 2: www.sonyliv.com...Ep-429---Burnt-Alive

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/11/to-fake-death-rti-activist-burned.html


Read More

Posted On: Thursday, October 30, 2014

Fear of Being Caught: Mysterious death of 7 year old Suhani (Episode 427 on 25th Oct 2014)

Fear of Being Caught
पकडे जाने का डर

A man named Kedar Datta (real name Diwakar Hazare) is doing coolie work at Andheri Station. He earns 20-40 rupees for it but he is scared of something. He has a feeling of doing something big which he shouldn't have done. He is sitting on a railway platform and scared of being caught by the police.


 On the other hand somewhere in Jhuggis of Mumbai, Suhani's (real name Beauty Sarkar) mother Nilima comes back from her daily work. She does not find her daughter anywhere in the home. She calls Suhani but Suhani does not appear. Suddenly she sees her daughter in the bathroom with her head in a bucket of water, incautious. She calls some neighbors and her husband and brings Suhani to a hospital. The doctor explains that Suhani was already dead before they brought her to the hospital.


 Police start their investigation and find that one of their neighbors Kedar Dutta is missing. His phone is also not reachable and only her was seen last going Suhani's home. He was a good friend of Suhani's father and a night before he forgot his mobile charger in their home. The afternoon he came their home to get his charger.


 Finally, the police trace Kedar and then he explains why he killed Suhani.


कहानी शुरू होती है मुंबई के अँधेरी स्टेशन से. केदार दत्ता नाम का एक शख्स कूली का काम कर के 20-30 रुपये कमा रहा है मगर वो किसी बात को लेकर बहुत की डरा हुआ है. उसे बार बार ये लग रहा है की उसने बहुत बड़ा गुनाह कर दिया है जो उसे नहीं करना चाहिए था. वो प्लेटफार्म पे बैठा है और डर रहा है की कहीं पुलिस उसको पकड़ न ले.

दूसरी तरफ मुंबई की एक झुग्गी में सात साल की सुहानी की माँ घरों में काम काज निपटा कर वापस आती है तो घर में अपनी बेटी सुहानी को नहीं पाती है. वो सुहानी को आवाज़ लगाती है मगर उसका कोई पता नहीं चलता है. अचानक वो घर के बाथरूम में देखती है वो चौंक जाती है. बाथरूम में उसकी बेटी सुहानी पानी से भरी एक बाल्टी के अन्दर औंधे मुह बेसुध पड़ी है. वो चिल्ला चिल्ला कर पड़ोसियों और अपने पति को बुलवाती है. सुहानी को अस्पताल ले जाया जाता है जहाँ पता चलता है की सुहानी की मौत हो चुकी है.

पुलिस को बुलाया जाता है. पुलिस छानबीन करना शुरू करती है तो पता चलता है की केदार दत्ता नाम का आदमी जो की सुहानी का पडोसी था वो गायब है. उसका फ़ोन भी नहीं लग रहा है और आखिरी बार उसको सुहानी के घर जाते देखा गया था. वो सुहानी के पिता का बहुत अच्छा दोस्त भी है जो की एक रात पहले अपने मोबाइल का चार्जर उसके घर छोड़ आया था और वही लेने दोपहर में गया था.

आखिरकार पुलिस केदार दत्ता को पकड़ लेती है और फिर वो बताता है की उसने सुहानी को क्यों मार दिया.

YouTube: https://www.youtube.com/watch?v=PptRTZl5oxM

SonyLiv: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-427-october-25-2014
Search Tags: Caugth stealing, murder for twenty rupees, man killed minor girl

Read More

Posted On: Saturday, October 18, 2014

A Plot In Rewind: Double Murder of Gangster Bablu and paramour Vandana (Episode 425, 426 on 1th, 19th Oct 2014)

Gurveer Gulati (real name Jagir Singh and played by Yashodhan Rana) is elder brother of Daljeet Gulati (real name Resham Singh and played by Rajiv Kumar). While he is drunk, he dies in a road accident when a heavy vehicle crushes him. A criminal Babloo (real name Mahinder Singh alias Titu) is solely responsible for this murder who was also a friend of Gurveer. Several litigation related to murder, abduction etc are recorded on him. This murder is registered as a hit and run case because police is unable to find any motive or clue behind the murder.

Mystery behind this murder case opens up when city shakes with a double murder case. Victims of this murder are Babloo itself and her paramour Vandana (real name Sushil Joshi). Vandana is wife of Gireesh Sharma (real name Rajesh Joshi and played by Harsh Khurana) who live with his son and criminal Babloo in Gireesh’s home. During investigation police calls Gireesh. Police comes to know that few years before during a procurement case Gireesh was sent to jail. Vandana took Babloo’s help for her release, and after then Vandana and Babloo came closer. Later Babloo turned out Gireesh from his own home and started living with Vandana.

Police’s main suspect is Gireesh but after scrutinizing call details they comes to know that call records of Babloo and Gireesh has one number in common which is of Daljeet Gulati. Now police arrests Daljeet and starts investigation.

गुरवीर गुलाटी दलजीत गुलाटी का बड़ा भाई है. रात को घर वापस आते समय नशे की हालत में उसकी सड़क पर एक भारी वाहन द्वारा कुचले जाने से मृत्यु हो जाती है. उसकी हत्या के पीछे पूरा हाथ उसी के दोस्त बबलू उर्फ़ धर्मजीत सूरी का है जो की एक अपराधी है और उसके उसके ऊपर हत्या, अपहरण जैसे कई मुक़दमे दर्ज हैं. पुलिस दस्तावेजों में ये हत्या एक सड़क दुर्घटना के रूप में दर्ज है क्युकी पुलिस इसका कोई भी सुराग ढूंढ पाने में असमर्थ रही है.

इस सड़क दुर्घटना के पीछे का रहस्य तब खुलता है जब इसके एक साल बाद शहर में एक डबल मर्डर होता है. ये डबल मर्डर उसी अपराधी बबलू और उसकी प्रेमिका वंदना का होता है. वंदना गिरीश शर्मा की पत्नी है जो की अपने बच्चे के साथ गिरीश के ही घर में बबलू के साथ रहती है. पुलिस तफ्तीश के दौरान गिरीश को बुलाती है. पूछताछ के बाद पता चलता है की गिरीश को एक केस के दौरान जेल भेजा गया था और उसको जेल से निकलने के लिए वंदना ने बबलू का सहारा लिया था, तभी से वंदना और बबलू की जान पहचान हो गई और फिर उसने गिरीश को उसके ही घर से निकल दिया और खुद रहने लगा आकर.

पुलिस को शक है की इस हत्या के पीछे गिरीश का हाथ है मगर कॉल रिकार्ड्स निकालने के बाद पता चलता है की बबलू और गिरीश के कॉल रिकार्ड्स में एक मोबाइल नंबर कॉमन है जो की दलजीत गुलाटी का है. अब पुलिस दलजीत गुलाटी से पूछताछ करना शरु करती है.

YouTube:
Part 1: www.youtu.be/LshGD9BRtUo
Part 2: www.youtu.be/rOf9FXNx8Ww

SonyLIV:
Part 1: www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-425-october-18-2014
Part 2: www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-426-october-19-2014

Here is the inside story:
thrill-suspense.blogspot.com/2014/10/a-plot-in-rewind-murder-of-gangster.html

Read More

Posted On: Saturday, October 11, 2014

Money Trail: Murder of Yogesh's mother Damini (Episode 424 on 11th Oct 2014)

Money Trail
लालच


Yogesh (real name Dhananjay Jagtap) is the only son of Damini (real name Durgabai). Damini is a widow whose husband passed away many years ago. Yogesh is a post graduate jobless guy who looking for a job. He is frustrated and sometimes he becomes angry on her mother when she taunts him about his job. He also does not like his mother because he doubts her of having illicit relation with neighbor Kamalnath. Because of this reason he decides to eliminate his mother and he shares this matter with his close friend Sagar Wagh (real name Sunil Baban Pachange alias Avdut Babab Pandav, 28).

After few day police finds body of Damini. Sagar is shocked to know that Yogesh's mother has been killed. He tells police that Yogesh was planning to kill his mother but after Sagar persuaded Yogesh, he aggreed to drop the matter. Missing Yogesh is police's main suspect.

Damini's neighbor tells police that someone told Damini about Yogesh has got a job in Nasik and he wants her mother to reach Nasik. On the way to Nasik, his mother was killed. Police is trying to find out who told her about Yogesh's job because their call records are not showing anything like that.

Police activates their information network and they finds that Yogesh's dead body was also found by another local police. Now police is confused if Yogesh is the murderer of his mother then who killed Yogesh and why?

योगेश उसकी माँ दामिनी का इकलौता बेटा है जो की नौकरी की तलाश कर रहा है मगर कामयाबी नहीं मिल रही है. वो बहुत कुंठाग्रस्त है और कभी कभी अपनी माँ पर भी बहुत क्रोधित हो जाता है जब वो योगेश को नौकरी के लिए ताने देती है. उसकी उसकी माँ इसलिए भी नहीं पसंद है क्योकि उसे लगता है की उसकी माँ का पास के कमलनाथ के साथ नाजायज़ सम्बन्ध है. वो अपनी माँ को इस कदर नापसंद करने लगता है की अपनी ही माँ की हत्या करने की सोचता है और इसके लिए वो अपने दोस्त सागर वाघ को बताता है.

कुछ दिन बाद पुलिस को एक औरत की लावारिस लाश मिलती है जो की बाद में पता चलता है की दामिनी की है. सागर को जब पता चलता है की उसके दोस्त की माँ की लाश मिली है तो वो हक्का-बक्का रह जाता है. वो पुलिस को बताता है की दामिनी का बेटा योगेश जो की अब गायब है, दामिनी की हत्या करना चाहता था मगर सागर के समझाने पर उसने ये विचार त्याग दिया था. पुलिस का पहला शक योगेश ही है क्युकी दामिनी की हत्या के बाद से ही वो गायब है.

पुलिस को पता चलता है की दामिनी को किसी ने ये बताया था की योगेश की नासिक में नौकरी लग गई है और इसके बाद ही नासिक के लिए निकलते समय रास्ते में दामिनी की हत्या कर दी गई. पुलिस को ये भी समझ नहीं आरहा है की दामिनी को योगेश की नौकरी के बारे में बताया किसने क्युकी दामिनी और योगेश दोनों के ही कॉल रिकार्ड्स में ऐसा कुछ नहीं है.

पुलिस अपने खबरियों को एक्टिवेट करती है और तब पता चलता है की पुलिस को योगेश की भी लाश मिल चुकी है. अगर दामिनी की हत्या योगेश ने की है तो योगेश की हत्या किसने की?

YouTube: https://www.youtube.com/watch?v=ufL9fxz68tA

SonyLiv: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-424-11th-october-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/10/crime-patrol-man-kills-friendhis-mother.html


Read More

Posted On: Monday, October 6, 2014

Betrayed By One's Own: Tabassum booked for forcing her minor sister in flesh trade (Episode 423 on 5th October 2014)

Betrayed By One's Own
अपनों से धोखा


Moradabad, Uttar Pradesh
Tabassum (real name Firdosh Khan) is eldest among her three sisters. Their father has no earnings so three out of these four sisters are earners of the family who works as maid and tailor. Tabassum's youngest sister is only eight year old. Though their father does nothing, daily quarrels happening in the home. Tabassum wants to get rid of this. Finally her marriage settles with a Nasik based mechanic Ashfaq (real name Mohammad Irfan). Now she has a hope that finally she is going far from her home. After marriage she goes to Nasik with Ashfaq.

After few days she brings her youngest sister Nusrat to Nasik so that she will get better life and future here. During all this Ashfaq often visits Tabassum's home that Tabassum cant understand. Tabassum has seen her sister Shabnam and Ashfaq very close to each other and the has also shouted on this. A night Tabassum hears some voices coming from the roof. After reaching on the roof she is shocked to see that her sister Shabnam and Ashfaq are having fun together. The matter becomes a big issue and Ashfaq clearly tells Tabassum that he loves Shabnam and will marry her.

तबस्सुम चार बहनों में सबसे बड़ी है. उसने घर के हालत ख़राब है क्यों की उनकी माँ का इंतकाल हो चूका है और पिता कोई काम धाम नहीं करता है. चार में से तीन लड़कियां अलग अलग काम करके घर चला रही हैं. घर में रोज रोज कोई न कोई कलह लगी ही रहती है. किसी तरह तबस्सुम की शादी तय होती है. तबस्सुम को इस बात की तसल्ली है की आखिरकार उसको इस नरक जिंदगी से छुटकारा मिलेगा. उसकी शादी अशफ़ाक के साथ होती है जो की एक मकैनिक है और फिर वो अशफ़ाक के साथ उसके घर नासिक रहने चली जाती है.
Aabid, apno se dhokha, ashfaq, Firdosh Khan, Mohammad Irfan, mumbai, mumtaj, Nusrat, shabnam, Tabassum, Urmila Mahanta, uttar pradesh,
कुछ दिन बाद वो अपनी सबसे छोटी बहन नुसरत को भी अपने घर ले आती है जिससे की उसकी ठीक से परवरिश हो सके. इसी बीच अशफ़ाक बार बार तबस्सुम के घर भी आना-जाना लगाये रहता है जो की तबस्सुम को बिलकुल भी समझ नहीं आ रहा है की वो बार बार उसके घर क्यों जाता है. तबस्सुम अशफ़ाक और उसकी बहन शबनम को कई बार साथ में बातचीत करते देखती है तो वो शबनम को डांटती है की वो अशफ़ाक से दूर रहे और एक रात जब तबस्सुम को छत से कुछ आवाज़े सुने देती है तो वो जाकर देखती है और देख कर हैरान रह जाती है की शबनम अशफ़ाक के साथ हमबिस्तर है. ये देख कर घर में बड़ा हंगामा खड़ा होता है.

अशफ़ाक साफ साफ बोल देता है की वो शबनम से प्यार करता है और उससे शादी करेगा. इसके बाद अशफ़ाक शबनम को भी अपने साथ अपने घर ले आता है. अब अशफ़ाक के घर में उसकी दो बीवियां और सबसे छोटी साली रह रहीं है.

YouTube:
https://www.youtube.com/watch?v=euf3FeCyqT8

SonyLiv:
http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-423-october-5-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/10/crime-patrol-mumbai-woman-forces-sister.html


Read More