Posted On: Friday, December 27, 2013

Insaaf: Umakant Mishra: Indian postman cleared of stealing 57.60 rupee (below $1) after 29 years (Episode 325 on 27th Dec 2013)


इंसाफ
And justice for all...


मेरी आप सभी पाठकों से ये गुज़ारिश है कि ये पोस्ट ज़यादा से ज़यादा लोगों तक पहुचाये, शायद हम सब मिल कर उमाकांत कि मदद कर सके, ठीक उसी तरह जिस तरह हम सब ने सोनाली मुख़र्जी कि सहायता कि थी, सभी लोगों को हमारे भारत देश की इस घटिया न्याय व्यवस्था के बारे में पता चलना ज़रूरी है.

धन्यवाद

ये कहानी है एक ऐसे इंसान कि जिसने अपनी ज़िंदगी के 29 साल एक ऐसे ज़ुर्म के लिए काटे जो शायद उसने किया ही नहीं था, और अगर किया भी होता तो क्या उसे इसकी इतनी बड़ी सजा मिलनी चाहिए थी? ये कहानी है हरजिंदर नगर, कानपुर निवासी उमाकांत मिश्रा कि जिन्होने 57.60 रुपये कि चोरी कि सजा 29 साल तक भुगती. बात है 23 जुलाई 1984 की. उमाकांत हरजिंदर नगर स्थित पोस्ट ऑफीस मे काम करते थे. उनके ऊपर 57 रुपये 60 पैसे चोरी का इल्ज़ाम लगा और उनको नौकरी से निकाल दिया गया.
"उस दिन मुझे कुल 697 रुपये 60 पैसे दिये गये थे जिसको मुझे मनी ऑर्डर के अंतर्गत लोगों के घर पे पहुचना था. मैंने ३०० रूपए के मनीऑर्डर बांटे और बचे हुए रूपए पोस्ट ऑफिस में लौटा दिए. जब शाम को सारा हिसाब किताब हुआ तो 57 रुपये 60 पैसे कम पाये गये. मुझ पर धोखाधड़ी का आरोप लगाया गया और नौकरी से निस्काशित कर दिया गया. मेरे खिलाफ एफ आई आर भी दर्ज की गई."
उमाकांत को धोखाधड़ी के आरोप मे जेल भेजा गया. उनको उस समय तो बेल मिल गई और वो रिहा हो गये मगर इसके बाद उनकी ज़िंदगी मे 29 साल तक चलने वाली लड़ाई शुरू हुई. जब वो सस्पेंड किये गये तब उनकी उम्र 30 साल थी. तब से लेकर आज तक उन्होने कोर्ट मे कुल 348 सुनवाई मे हाज़िर होना पड़ा जिसमे आखिरकार उन्होने अपने आप को निर्दोष साबित किया, मगर 29 साल के दौरान उन्होने जो खोया उसकी भरपाई कोई नहीं कर सकता.
"मॅ 3 साल पेहले रिटायर हुया और 26 साल तक निष्काषित रहा, अब मॅ क्या कहूँ या क्या करू? मुझे 348 बार कोर्ट की तरफ से सम्मन् भेजा गया. मुझे अपना कानपुर का घर बेचना पड़ा और उसके बाद मैने हरदोई स्थित अपना खेत भी बेचा. हम दिवालिया हो गये."
उनकी पत्नी गीता का कहना है-
"हम कोर्ट के न्याय से खुश हैं मगर यदि ये न्याय हमे सही समय पर मिला होता तो आज हम ज़्यादा खुश होते. हमारे बच्चों की शिक्षा अच्छे से हुई होती. हमने 29 साल एक ऐसे कलंक के लिये झेले रुपये हम दोषी नहीं थे. हम आर्थिक रूप से पूरी तरह से खतम हो गये, हमारे बच्चो का भविष्य भी नहीं अच्छा हो पाया. इससे बुरा शायद ही कुछ हो किसी के साथ. हमने सब कुछ खोया. हमे अपनी जीविका चलने के लिये उधार लेना पड़ा क्योंकि हमारी कोई नियमित आय नहीं थी. हमे हमारे बच्चों की शिक्षा और शादी के लिये बहुत परेशानी उठानी पड़ी. हमारी बच्चियों की विवाह के लिये हमे लोगों से डोनेशन लेना पड़ा. हम अपने बच्चों को पढ़ा नहीं पाये जिसकी वजह से हमारा बेटा गंगा एक असुरक्षित नौकरी कर रहा है."
गंगाराम दिल का मरीज़ है और उसकी सर्ज़री का खर्चा पांच लाख के आसपास है.
"हमारे पास बिल्कुल भी पैसे नहीं हैं. हम अपने बच्चे को सिर्फ मरते हुये देख सकते हैं जैसे हमने अपने बाकी तीन बच्चों को देखा है."
सस्पेंड होने के बाद से ही उमकांत तो सरकार से एक पैसे की भी सहायता नहीं मिली जबकि वो निर्वाह भत्‍ते के लिये नामित थे. उनकी तीन साल की बेटी निक्कू की मृत्यु डायरिया की वजह से हो गई. वो उसका इलाज नहीं करवा पाये क्यों की उनके पास पैसे नहीं थे. यही नहीं, उन्होने अपने दस साल के बेटे दयाशंकर और सात साल के बेटे दुर्गेश को भी टीबी और निमोनिया के चलते खोया.

उमाकांत और गीता किसी तरह अपना जीवन निर्वाह कर रहे हैं. कोई नौकरी मिल जाती है तो ठीक वरना मजदूरों की तरह काम करते हैं. उन लोगों को फिलहाल उनकी बकाया तन्खा, पेंशन और गंगाराम के लिये एक नौकरी चाहिये.


Please spread this post to everyone so that may we can help Umakant like we helped Sonali Mukherjee. It is necessary for everyone to understand the ridiculous judiciary system of India. Also, try to find a way if we can help them.

Thanks

The story of a man who spent 29 years of his life for a punishment that probably was not done by him and even it was done by him, he should have got so delayed judgment? Mr. Umakant Mishra, a Harjinder Nagar- Kanpur (Uttar Pradesh) resident who spent 29 years of his life in getting a judgment of a theft of 57 rupees 60 paise. That was on July 13, 1984. He was working at Harjinder Nagar post office. A case was registered against him for stealing 57.60 rupees and immediately got suspended. City police booked him under the criminal case of breach of trust.
"That day I was given 697 rupee and 60 paisa whom I had to distribute with money orders to people. After coming back to office in the evening I returned rest of the money after distributing 300 rupees. When all calculation ended, my senior accused me of stealing 57.60 rupee and lodged FIR against me. I was immediately suspended."
Umakant was sent to jail on the charge of forgery. That time he got bail after that a real fight of his life started. He was 30 years old when he got suspended. From then he attended total of 348 hearings in the court and finally he proved himself innocent. Court sent him free on the basis of lack of evidence from complainant. But during these 29 years, he lost almost everything.
"I retired 3 years back and was suspended during 26 years. What I should do or what i should say? I attended hearing 348 times. I lost my Kanpur home and after that I sold my agricultural land at Hardoi (Uttar Pradesh). We are bankrupt."
His wife Geeta says:

"We are happy with the verdict but if we would have got justice at the right time, our children's career wouldn't have ruined. We lived with stigma and financial trouble for so long. Economically we are totally lost. We lost everything. This was worst. We borrowed money for our livelyhood, children's education and marriage because have no regular income. We passed through every trouble. We sought donation to marry off our two daughters. Since we could not educate our children, our son Gangaram is doing a insecure job."
Gangaram is a heart patient and it will cost 5 lac for his surgery.
"We have no money. We can just see him dying like our other 3 kids."
From the day of suspension, Umakant did not get a single penny form the government though he was entitled to subsistence allowances. His 3-year-old daughter died of diarrhea. She died because they could not avail of her treatment. Not even this, he lost his 10-year-old son Dayashankar and 7-year-old son Durgesh who died of TB and pneumonia.

They are spending their life anyhow doing odd jobs or doing labors. Now they want their pending salary, pension and a government job for their son Gangaram.

SonyLiv:
http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-325-december-27-2013

YouTube:
http://www.youtube.com/watch?v=eFSuB2p3-18


Read More

Posted On: Saturday, December 21, 2013

The business of innocence: NGO helps rescuing innocent kids from a beggar mafia (Episode 322, 323 on 20th - 21st Dec 2013)

The business of innocence
मासूमियत का कारोबार
NGO CCO - Child care organization (real name Bachpan Bachao Aandolan - BBA) is planning to trap a Begging Mafia. They offers parents of kids beggar that they will educate them for free. Their motive is to grab kids confidence and try to arranges clues how they came into begging mafia and who are their leaders. Chanda is one of those kids whoes one leg is badly injured.

Delhi
The episode reveals who these mafia arrange kids for their profession and how they treats them. Lets see how an NGO helps police to rescues them from mafia.


Read More

Posted On: Friday, December 13, 2013

Hit and Run: Father tracks down truck driver who killed his son in a Barat (Episode 320, 321 on 13th, 14th Dec 2013)

Hit and Run
हिट एंड रन


Hit -and-run . It is the story of a father who lost his 17- year-old son in a road accident . Road accident could not have been imagined that to do . There was a Barat through the roads of the Bijnor. Akshay was one of them was inexhaustible Baraati who was enjoying the dance .The baraat was taking place on the main road. All the people were happy to dance and suddenly a high-speed truck comes from. The truck is loaded with concrete. Dancing Akshay unknowingly comes in front of that truck and truck hit him faster. Akshay's friend tries to stop the truck, but the truck crushes him also and runs away. Both of them are killed on the road immediately. rest of the people trying to note down truck's number. Akshay's father and other reaches police station to file an FIR but police inspector files this case as a hit and run case while Akshay's father tries to explain them that it is a unintentional murder commited by that truck driver. That driver could have stopped himself but he killed akshay's friend also!

This is a story not only of a hit and run turned murder case, the story reveals another type of corruption where every person from lower to higher level is involved. This story exposes corruption in loaded cargo trucks how illegally they are running on the roads of India beyond their load permits. And these types of truck commits a crime, police also does not support.

This story reveals how a father did all investigation of his son's murder. Why? Because police did give him any kind of favour. He even arranged vehicle to police, but they but nothing happened. Finally he knocked door of higher authority. We appreciate Mr. Rakesh Singh who unfolded every enigma behind the case without any help and finally he helped police to catch that murderer driver.

His son has passed away. And that driver is also died during his illness in trial of case. We can say that the case is closed, but still after 4 years of Akshay's death he is still fighting against roots of that corruption where trucks are loaded beyond their allowed permits and during high speed, driver becomes unable to control the speed.

हिट एंड रन. ये कहानी है एक ऐसे बाप की जिसने अपना १७ साल का पुत्र खोया एक रोड एक्सीडेंट में. रोड एक्सीडेंट भी ऐसा की जिसकी कोई कल्पना भी नहीं कर सकता था. एक बारात तो बिजनौर की सडको पर जा रही थी. अक्षय उन बारातियों में से एक था जो की डांस करते हुए बारात का मज़ा ले रहे थे. बारात मेन रोड पे चल रही थी. सभी लोग डांस करने में मगन थे तभी एक तेज़ रफ़्तार ट्रक पीछे से आता है. ट्रक कंक्रीट से लोडेड होता है. ट्रक से सामने डांस करते हुए अक्षय आ जाता है और ट्रक तेज रफ्तार टक्कर मारता हुआ आगे बढ़ जाता है. अक्षय का दोस्त उस ट्रक वाले को रोकने की कोशिश करता है मगर वो तेज रफ़्तार ट्रक रुकने और कुछ सुनने की बजे उससे में कुचलता हुआ चला जाता है. उन दोनों की सड़क पर ही तत्काल मृत्यु हो जाती है. बाकी लोग कुछ हद्द तक ट्रक का नंबर नोट करने में सफल हो जाते हैं. अक्षय के पिता और अन्य लोग पुलिस स्टेशन जाकर रिपोर्ट दर्ज करते हैं. पुलिस इन्स्पेक्टर इस केस को साधारण हिट एंड रन के केस के तौर पे दर्ज करते हैं जबकि राकेश सिंह, अक्षय के पापा पुलिस को ये समझाते हैं की की ये हिट एंड रन केस नहीं एक गैर इरादतन मर्डर है. वो ड्राईवर चाहता तो ये घटना रोक सकता था जबकि उसने घटना रोकने के बजाये अक्षय के दोस्त को भी मार डाला.

ये कहानी सिर्फ एक एक्सीडेंट या मर्डर की नहीं है, ये कहानी उजागर करती है एक और तरह के करप्शन को जिसमे भी छोटे दर्जे से लेकर ऊँचे दर्जे तक का आदमी लिप्त होता है. ये कहानी उजागर करती है लोडेड ट्रक में हो रही धांधली को की किस तरह से भारत देश की सड़कों पर हैवी लोडेड ट्रक बेख़ौफ़ दौड़ते हैं और इनमे लोड कानून के मुताबिक नहीं होता. और जब इस तरह के ट्रक कोई एक्सीडेंट करते हैं तब पुलिस भी कोई समर्थन नहीं करती. ये कहानी उजागर करती है की किस तरह से एक बाप ने केस की पूरी तफ्तीश खुद की, इसलिए क्योंकि पुलिस ने उसको कोई साथ नहीं दिया. उसने पुलिस को गाडी तक अरेंज करके दी मगर कुछ नहीं हुआ. मजबूरन उसे हायर अथोरिटी तक जाना पड़ा.

हम सराहना करते हैं मि. राकेश सिंह की हिम्मत की की किस तरह से वो पूरे केस की तह तक बिना किसी की मदद के गये और आखिरकर उन्होंने ही ट्रक ड्राइवर को पकड़वाया.

उनका बेटा अब इस दुनिया में नहीं है, और केस लड़ते लड़ते उस ड्राईवर की भी मृत्यु हो चुकी है. एक तरह से कहें तो उनके बेटे की दुर्घटना में हुई मौत का केस पूरी तरह से बंद हो चुका है, मगर आज ४ साल बाद भी उनकी लड़ाई ज़ारी है भ्रष्टाचार की उन जड़ों से जिनकी वजह से ट्रकों को उनकी मालवाहक क्षमता और अनुमति से ज्यादा लोड किया जाता और इसकी वजह से इस तरह के एक्सीडेंट होने पर ड्राइवर ट्रक की गति पर कंट्रोल नहीं कर पाता.

YouTube:
Part 1: http://youtu.be/ee0CKx4uvRQ
Part 2: http://youtu.be/xaB0tfIn1iU

SonyLiv:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-321-december-13-2013
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-322-december-14-2013

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2013/12/crime-patrol-boy-run-over-father-tracks.html



Read More

Posted On: Friday, December 6, 2013

Forged Marriage: Meenaz forced to marry middle east man in Kerla (Episode 319, 320 on 6th, 7th Nov 2013)


फ़र्ज़ी निकाह
Forged Marriage
Meenaz, a teenage girl lives at a orphan age home at Kerala. She is elder daughter of the family. She lives in orphan age home named Little Angels Orphan Age Home becuase her mother Farzana was not able to affored expences of her kids. Meenaz was forced to marry an elderly wealthy man Misbah-Ul-Haq from middle east (Arab).
After getting marry Misbah is only having physical relation with her. Meenaz is in pain and tells this to her mother using Misbah's cell phone. Her mother comes to meet her but Misbah shouts at her and warns her that she will not come to meet her daughter again.

Lets see what happans after that....

१७ साल की मीनाज़ केरल के एक अनाथालय में रहती है. वो अपने परिवार की सबसे बड़ी बेटी है. वो अनाथालय में इसलिए रहती है क्यों की उसकी माँ फरजाना उसका खर्चा उठाने लायक नहीं है. अनाथालय के लोग उसकी शादी ज़बरदस्ती मध्य पूर्व (अरब) के एक निवासी मिस्बाह-उल-हक़ से उसकी शादी करवा देते हैं. शादी के बाद मिस्बाह सिर्फ उसका इस्तेमाल कर रहा है. मीनाज़ परेशान है. वो मिस्बाह के फ़ोन से अपनी माँ को फ़ोन करती है. उसकी माँ उससे मिलने आती है तो मिस्बाह उनको डांटता है की वो अपनी बेटी से मिलने न आया करे.

आइये देखने की आगे क्या होता है...

YouTube:
Part 1: http://youtu.be/8jrKTuIrwzM
Part 2: http://youtu.be/9pGnED0xbl8

SonyLiv:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-319-december-6-2013
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-320-december-7-2013


Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2013/12/crime-patrol-indian-orphan-forced-to.html

Read More