Posted On: Saturday, September 27, 2014

Guilt or Jilt: Pushpa’s dilemma after fixing marriage of paramour Ashok (Episode 422 on 28th Sep 2014)


Guilt or Jilt?
पछतावा या बदला?

Pushpa (played by Getaanjali Mishra) is a mother of two daughters who works in a hospital and his husband does not do anything also he is a alcohalic person. Pushpa has all the responsibility of her daughters and her home. During this all Pushpa makes physical relations with her neighbour Ashok. Whenever she is alone, she calls Ashok to spent her time. Ashok is trying to convince her that she should leave her husband and marry with him. Pushpa can not do this because she is also a mother of two. Time passes and Pushpa's husband passes away. Now Pushpa also wants to marry Ashok because there os no hurdle now.
When Pushpa asks this with Ashok, he denies and says that she can not marry her because his parent will never be agree with this. In the mean time he gets news of Ashok's wedding with a girl Vanita (played by Sarika Dhillon). Pushpa is shocked to know this, how he can marry another girl! She thinks to meet Vanita but does not meet. Afterwards she approches a TV Reality show where people expresses crucial truths of their lives. She tells them that she also wants to tell them something about her and wants to Antone something very crucial.


पति न कोई काम करता है और न ही कोई नौकरी मिलने पर उसपर टिक पाता है. इसी तनाव के चलते पुष्पा की पड़ोस के अशोक से सम्बन्ध बनने शुरू हो जाते हैं. पुष्पा अक्सर अकेली होने पर अशोक को अपने घर बुला लेती है. अशोक कई बार उसको बोलता है की वो अपने पति को छोड़ कर उससे शादी कर ले क्युकी वो एक बेवडा है और उनके घर का एक बोझ है बस. पुष्पा ऐसा नहीं कर सकती है क्युकी उसकी दो बेटियां भी हैं और उनकी पूरी ज़िम्मेदारी पुष्पा पर ही है. इन्ही सब के चलते पुष्पा के पति की मृत्यु हो जाती है और वो अब चाहती है की अशोक उससे शादी कर ले क्युकी अब उन्दोनो के बीच कोई रुकावट नहीं है.
एक दिन अचानक पुष्पा को पता चलता है की अशोक वनीता नाम की एक लड़की से शादी करने वाला है. वो अशोक से बात करती है की वो वनीता से शादी नहीं कर सकती, और वो वनीता से मिलकर उसको सबकुछ बताने की कोशिश करती है मगर मिल नहीं पाती है. इसके बाद टीवी पर आने वाले एक रियलिटी शो को फ़ोन कर के वो बताती है की वो इस शो में आना चाहती है और एक प्रायश्चित करना चाहती है. इसके बाद वो उस शो में जाती है और रिकॉर्डिंग के दौरान एक ऐसा खुलासा करती है की हर कोई हैरान रह जाता है.

Based on a ZeeTV Tamil’s reality show Solvathellam Unmai aired on 17th Apr 2014, Tamilnadu based 38 year old Babykala accused her 33 year old paramour Gowrishankar of killing her husband Radhakrishnan by strangulating him four years before on July 17th, 2010. Babykala then spread that Radhakrishnan died of cardiac arrest and later cremated her body. Later one Gowrishankar became a revenue inspector and transferred to Thirupattur and decided to marry another girl. In fear of losing his support after his marriage, Babykala exposed this crime to stop him of getting marry. While Gowrishankar said that Babykala forced him to commit this crime.

YouTube:

SonyLIV:

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/09/crime-patrol-aasai-inspired-murder.html

Read More

Posted On: Friday, September 26, 2014

What you see in the mirror: Beena's Blind faith on her second husband (Episode 421 on 26th Sep 2014)


What You See In The Mirror
आइना


Bina (played by Pyumori Mehta) is mother of a daughter Pragati (played by Shriya Popat). She had taken divorce from her husband when Pragati was eight year old and started living separately. After some years she meets Iqbal and falls in love with him. Iqbal is a married man and father of two daughters. After coming closer to Bina, Iqbal decided to leave his first wife and plan to marry Bina. After marriage he starts living with Bina and Pragati.

Bina's daughter Pragati tells Bina that Iqbal often tries to touch her and harass her which she really does not like. According to Bina, Pragati is lying and she thinks that though Iqbal is her step-father, she does not want to adjust with him and making stories to get rid of him. Few other people also informs Bina about Iqbal's character but Bina ignores it. Bina's sister Rashmi also tells her about Iqbal but she ignores that incident also.

A day Pragati leaves a letter for her mom that now she can not tolerate it anymore and going to commit suicide. When Bina asks these incidents to Iqbal, he again traps Bina and tells her that all these allegations are false.

Pragati Played by Shriya Popat
बीना, जो की एक बच्ची की माँ है शादी के आठ साल बाद अपने पति से तलाक लेती है और अपनी छोटी बच्ची के साथ अलग रहने लगती है. इसी बीच वो इक़बाल के संपर्क में आती है और उससे प्यार करने लगती है. इक़बाल, जो की शादीशुदा है और दो बच्चियों का पिता है, अपनी पहली बीवी से अलग होकर बीना से शादी करने का फैसला करता है. बिना से शादी करने के बाद वो बीना और उसकी बेटी प्रगति के साथ रहने लगता है. प्रगति बीना को बताती है की इक़बाल उस पर बुरी नज़र रखता है. उसे जगह जगह पर छूता है जो की उसे बहुत अजीब लगता है और बिलकुल भी पसंद नहीं है. बीना इस बातों को झूठ मानती है और उसे ये लगता है की इक़बाल प्रगति का सौतेला बाप है तभी प्रगति उसको पसंद नहीं करती और मनगढ़ंत कहानी बनाती है.

इक़बाल के बारे में और भी कई लोग बीना को अलग अलग बाते बताते हैं की इकबाल एक बुरी नियत वाला आदमी है. बीना की बहन रश्मी भी अपने और इक़बाल के बीच हुई बात को रश्मि को बताती है मगर बीना इक़बाल के विश्वास में अंधी हो चुकी है. एक दिन प्रगति एक पत्र लिख कर छोड़ देती है जिसमे ये लिखा होता है की वो ये सब सहन नहीं कर पायेगी और आत्महत्या कर लेगी. बीना जब इक़बाल से ये सब पूछती है तो इक़बाल फिर से बीना को अपनी बातों में फसा लेता है और इसके बाद बीना एक बार फिर प्रगति को डांटती है.

YouTube: https://www.youtube.com/watch?v=1JPsjsWvbuE

SonyLIV: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-421-september-26-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/09/crime-patrol-teenage-girl-harassed.html



Read More

Posted On: Wednesday, September 24, 2014

Rishina Kandhari: Crime Patrol Actors and Actresses


Hot and Sexy Rishina Kandhari is a TV actress who was recently seen in a few episodes of Zee TV's Buddha where she played the role of a Ganika. She is basically from Indore and she has worked in CID, Devo ke dev Mahadev, Rishton Se Badi Pratha. She has also played an important role in Anurag Kashyap's TV Show Yudh. In Yudh she portrayed the role of a Kavita who is in a relationship with Amitabh Bachchan's secretary Mona.

She was also seen is the movie Ek Villain where she played the role of a Nurse.










Read More

Posted On: Monday, September 22, 2014

Subjugation: Harjeet's abduction and custodial death gets justice after 24 years (Episode 419, 420 on 20th, 21st Sep 2014)


Subjugation
दमन


आज से चौबीस साल पहले, सन 1989
पंजाब का सिमी झन्डा गाँव जहाँ के गाँव वाले पीड़ित है पुलिस की गुंडागर्दी से. पुलिस वहां के किसी भी व्यक्ति को उठा लेती है और बेवजह सिर्फ शक की बिनाह पर उनको बुरी तरह से मारती पीटती है और अरेस्ट कर के ले जाती है. उसके पास बहुत से बहाने होते हैं व्यक्ति के परिजनों को बताने के लिए जैसे की इस व्यक्ति पर उग्रवादी होने का शक है या ये उग्रवादियों से सम्बन्ध रखता है. इसी बहाने पुलिस वाले इस व्यक्तियों के परिजनों से मोती रकम वसूलते हैं अपनी जेबें भरने के लिए.

Kuljit Singh Dhatt aka Harjeet Rajawat
 Kuljit Singh Dhatt
or Harjeet Rajawat
हरजीत राजावत भी गाँव का एक जागरूक व्यक्ति है. वो एक बार पाने सामने पुलिस को एक व्यक्ति की पिटाई करते देखता है. वो पुलिस वालों को बोलता है की बिना किसी सबूत, या ऍफ़.आई.आर. के बिना वो लोग किसी को इतनी बेरहमी से कैसे मार सकते हैं. इसी तरह से जीत कई लोगों को पुलिस का चंगुल से बचाता है. पुलिस उसको धमकी देती है की वो इस तरह से मामलों में बीच में ना आये वरना उसके साथ भी बुरा होगा.

जीत ये तय करता है की वो गाँव से सरपंची का चुनाव लड़ेगा. जीत गाँव का सरपंच बन जाता है. वो लोगों को पुलिस से जुर्म के विरुद्ध जागरूक करता है. साथ ही साथ वो आसपास के गाँव के लोगों को भी जागरूक करता है. वो बाकी गाँव के सरपंच को साथ लेकर पुलिस से मिलता है और पुलिस को समझाता है की अगर पुलिस को किसी पर शक है तो वो कानून के दायरे में रह कर ही कार्यवाही करे.

पुलिस के लिए जीत एक रस्ते का काँटा बनता जा रहा है. इसी दौरान पुलिस के सामने एक हत्या का केस आता है और वो हत्या के शक के बिनाह पर जीत को गिरफ्तार कर लेते हैं और बहुत निर्दयता से मारते हैं.

Twenty four years ago in 1989
Simi Jhanda Village, Punjab. Villagers are infested of the hooliganism of police. Police arrest any of the villagers as suspects and torture him until his family does not pay some amount for his release. Police arrest them on behalf of the suspect of being a Militant. They never file an FIR or a complaint against that person and start torturing him directly.

Harjeet is one of the villagers who is a literate person also knows the process of arresting a suspect. A day he stops police from beating a villager. Police constable says that he is a suspect but Jeets starts asking him a copy of FIR or complaint. The same kind of thing happens many times and finally, Harjeet becomes a thorn in the eyes of the police. They decide to teach him a lesson.

On the other hand, Harjeet becomes the Sarpanch of the village. He creates awareness in the villagers about the activities of police, he also explains illegal activities of police to villages in the neighborhood.

Finally, police arrest Harjeet after making of accused of a recent murder in the village. They torture him brutally and later tells his family that Harjeet has run away and he is now dead.

Based on the 1989 case of Kuljit Singh Dhatt who was also a nephew of Shaheed Bhagat Singh's Sister. He was picked up by the Punjab police and later eliminated. Kuljeet’s abduction was conspired by five policemen and he was later eliminated. It does still not confirm what they did with his body. Kuljeet’s elder brother Harbhajan Singh Dhatt is the son-in-law of Shaheed Bhagat Singh’s youngest sister Prakash Kaur. Kuljeet was arrested by the police at the midnight of 25th and 26th January 1989 and FIR was lodged after 2 days of arrest. In the FIR, it was mentioned that Kuljeet has confessed to having hidden a load of weapons and ammunition on the banks of the river Beas. According to FIR, Kuljeet brought them to the weapons and jumped into the river after breaking the chain.

In 1990, Kuljeet’s wife and Prakash Kaur headed towards Supreme Court which constituted an inquiry commission. This commission submitted their report in 1993 which indicated of abduction and elimination of Dhatt. They were later booked for criminal conspiracy, abduction and illegal confinement. The case remained pending in the court for near 14 years and Prakash Kaur, who was Canada-based moved to the supreme court for early hearing. During this two of the accused were already passed away.

On 9th May 2014 court sentenced the three accused to five-year rigorous imprisonment under section 364 of IPC and a fine of 2.1 lac each.

Prakash Kaur Passes Away:
Prakash Kaur was the youngest among nine siblings of Shaheed Bhagat Singh. She took her last breath on 28th September 2014 which was also 107th birth anniversary of Shaheed Bhagat Singh. Prakash Kaur was shifted to Canada during the hearings of the case and was living with his son Rupinder Singh Mali. She was paralyzed for the last six years.
Prakash was born during 1921 and she was 12 years old when Bhagat Singh, Sukhdev, and Rajguru were hanged to death by British on that historic date of March 23rd, 1923.

Prakash was married to Harbans Singh Malhi of 5 NN village in Padampur tehsil of Ganganagar district in Rajasthan. Her husband was died before 15 years. According to Kuljeet’s bother Harbhajan, Prakash fought for justice throughout 25 years and also filed a petition of reconsideration of punishment of three accused in Punjab and Haryana high courts.

ये कहानी आज से 25 पहले होशियारपुर निवासी कुलजीत सिंह दत्त पर आधारित है. कुलजीत को पांच पुलिस वालों द्वारा गायब कर दिया गया था जिसके बाद उसे मार दिया गया और लाश किसी को सौंपी गई यहाँ तक की किसी को पता भी नहीं चला की लाश का हुआ क्या. कुलजीत के बड़े भाई हरभजन सिंह दत्त्त शहीद भगत सिंह की सबसे छोटी बहन प्रकाश कौर के दामाद हैं.

कुलजीत को 25 और 26 जनवरी की मध्यरात्रि को पुलिस ने अरेस्ट किया था और लोगों के 2 दिन बाद ऍफ़ आई आर दर्ज करी. ऍफ़ आई आर में ये लिखा गया की कुलजीत ने ये क़ुबूल किया था की उसके पास हथियार और गोल बारूद था जो की उसने व्यास नदी के तट पर छिपा दिए थे. पुलिस के अनुसार कुलजीत उनलोगों को हथियार तक ले गया था और वही पर वो हथकड़ी तोड़ कर नदी में कूद कर भाग गया.

1990 में प्रकाश कौर और कुलजीत की पत्नी ने इन्साफ के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया और इसके बाद इन्क्वारी कमीशन बिठाई गई और 1993 में इस कमीशन ने रिपोर्ट को कोर्ट के समक्ष प्रस्तुत किया जिसके बाद पांच पुलिस वालों को दोषी ठहराया गया. बाद में सुप्रीम कोर्ट ने इन पुलिस वालों के खिलाफ केस को रजिस्टर किया. इन पुलिस वालों को आपराधिक साजिश, अपहरण और अवैध कारावास के आधार बुक किया गया.

ये केस करीब 14 साल तक हाई कोर्ट में पड़ा रहा. प्रकाश कौर जो की कनाडा निवासी हैं, उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया ताकि केस पर तेजी से काम हो सके. इसी बीच इस केस के दो आरोपियों की मृत्यु भी हो गई और 9 मई 2014 को तीन बचे आरोपियों को कोर्ट ने पांच साल की कैद और 2 लाख, 10 हज़ार रुपये जुरमाने की सजा दी.

प्रकाश कौर की मृत्यु
प्रकाश कौर शहीद भगत सिंह के नौ भाई बहनो में सबसे छोटी थी जिनका देहांत 98 उम्र में ब्राम्प्टन,कनाडा में 28 सितम्बर, 2014 को हो गया जो की शहीद भगत सिंह की 107वि जयंती भी थी. प्रकाश कौर इस केस के दौरान ही कनाडा शिफ्ट हो गई थी और अपने बड़े बेटे रुपिंदर सिंह माली के साथ रह रही थी. प्रकाश कौर करीब पिछले छेः साल से पैरलाईज़्ड थी. प्रकाश कौर का जन्म 1921 में हुआ था और जब भगत सिंह को जेल हुई तब वो सिर्फ 12 साल की थी.

प्रकाश कौर की शादी राजस्थान के गंगानगर डिस्ट्रिक्ट के पदमपुर गांव निवासी हरभान सिंह माली से हुई थी और वो कनाडा शिफ्ट हो गए थे. उनकी मृत्यु करीब पंद्रह साल पहले हो चुकी है. हरभजन सिंह के अनुसार प्रकाश कौर ने ये केस पूरे 25 साल तक लड़ा और इस केस का फैसल आने के बाद भी फैसले की सज़ा बढ़ाने की अपील पंजाब और हरयाणा कोर्ट में करी थी.

YouTube:
Part 1: http://youtu.be/TH6hEvNvb30
Part 2: http://youtu.be/9IlJ8qS_R3Y

SonyLiv:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-419-september-20-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-420-september-21-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/09/crime-patrol-25-yrs-after-dhatts-murder.html



Read More

Posted On: Friday, September 19, 2014

Default Suspect: Mistakenly identified Raju tries to commit suicide after police tortue (Episode 409 on 19th September 2014)

Default Suspect
संदिग्ध


एक बैंक में रात के अँधेरे में एक चोरी होती है. पुलिस कुछ संदिग्धों को पकडती है और पूछताछ करती है. उनमे से एक संदिग्ध बताता है की इसमें राजू नाम के एक युवक हाथ है और ये भी बताता है की राजू कहाँ रहता है. पुलिस के दो कांस्टेबल उसी एरिया में जाकर पूछताछ करते हैं तो पता चलता है की राजू एक १६-१७ साल का युवक है जो की मजदूरी का काम करता है. पुलिस उसको मारती हुई ले जाती है जब की वो बार बार बोल रहा है की उसने कुछ नहीं किया है.
Victim Babu Thackeray
पुलिस स्टेशन ले जाने के बाद पुलिस उसकी बुरी तरह से पिटाई करती है मगर उन्हें चोरी के बारे में कोई सुराग नहीं मिल पता है. उसका भाई काफी पूछताछ के बाद सही पुलिस स्टेशन पहुँच पता है जहाँ पर राजू को रखा गया है. पुलिस वाले घायल राजू को छोड़ देते हैं मगर बोलते हैं की उसे अगले दिन हाज़री के लिए आना होगा. राजू बहुत बुरी तरह से घायल है और बहुत डरा हुआ है. अगले दिन सुबह राजू का भाई राजू को बोलता है की वो साथ में चलेगा और राजू डरे नहीं. राजू घर के एक कमरे में कपडे पहनने के लिए जाता है और कमरे को अन्दर से बंद कर लेता है. काफी देर तक बहार न आने पर उसके घर वाले दरवाज़ा खटखटाते हैं और फिर तोड़ देते हैं तो देखते हैं की राजू फांसी का फंदा बना कर लटक गया है. वो लोग राजू को तुरंत उतारते हैं और अस्पताल ले जाते हैं.

A robbery takes place in the night and the day after police captures few suspects. After torturing them one of them tell that Raju is involved in this robbery.

Police starts searching for Raju in some certain area and finally they reaches a 16-17 year old labour with the same name Raju. They beats Raju badly and takes them to the police station. They tortures them to admit the crime but Raju does not know any thing about this robbery.

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/09/crime-patrol-mistaken-identity-innocent.html



Read More

Posted On: Sunday, September 14, 2014

Vultures: Innocent farmers gets trapped in a fraud loan scheme (Episode 416, 417 on 13th, 14th Sep 2014)

Vultures
गिद्ध


2006, Koshpur Village, UP.
An agent Harish Goyal of Rashtriya Lok Jan bank (Syndicate Bank in real) explains villagers a very good scheme where farmer can get easy loan for there farming needs like Tube-well, Cattle, Tractor etc. He also tells them that for this loan they needs to pledge their land and after certain time period when they will pay whole amount, they will get back papers of their land. Innocent farmers follows all the processes and submits all required documents to the bank through Harish Goyal. Under the process they gets their new bank accounts opened and they also get passbook for this. Their all papers get recheck by bank manager Sudhir Mittal but later farmers comes to know that their loan application has been rejected by the bank because everyone of the applications was having some issue.

2010
Four years after they applied for the loan farmers starts getting notices from sam bank about recovery of their loan amount. They all are shocked to see that they has to pay loan amount of three lac to four lac which was never approved. Also at that time they applied for loan of rupees 60,000 and above, while recovery agents are says they took loan more than three lac. They also has to pay additional interest and if they does not pay the amount, their land will be expropriate by bank.

All farmers are scared. They puts their complain to existing bank manager but he is asking for bribe to wave off the interest. During the whole disturbance, two of the farmers passes away...

2006,
उत्तरप्रदेश का कोषपुर गांव, जहाँ बैंक के कामकाज से जुड़ा एक गैर सरकारी आदमी हरीश गोयल गाँववालों को एक नई स्कीम के बारे में बताता है। ये स्कीम राष्ट्रीय लोक जन बैंक ने शुरू की है जिसके अंतर्गत कोई भी किसान अपने ज़मीन के पेपर के एवज में गाय, भैंस, ट्यूबवेल के लिए एक छोटा लोन ले सकता है। गाँव वालों को ये स्कीम बहुत पसंद आती है और काफी सारे किसान हरीश गोयल के कहे अनुसार बैंक में सारे कागज़ात जमा करते हैं। बैंक में अकाउंट खुलने पर उन सबको एक एक पासबुक भी मिलती है। किसानो के सारे पेपर्स बैंक मेनेजर सुधीर मित्तल द्वारा चेक किये जाते हैं जिसके बाद ये पता चलता है की हर पेपर में कोई न कोई खामी है जिसकी वजह से किसी भी किसान का लोन पास नहीं हो पाया है और बात आई गई हो जाती है.

2010
सभी किसान, जिन्होंने ने चार साल पहले इस लोन के लिए सारी औपचारिकतायें पूरी की थी ये देख कर हैरान हो जाते हैं है की उसी बैंक से कुछ रिकवरी एजेंट आये हैं जो की ये बोल रहे हैं की इन लोगों ने चार साल पहले एक लोन लिया था इस लोन की रकम तीन लाख या उससे ज्यादा थी जिसमे ब्याज के बाद पचास-साथ हज़ार और जुड़ गए हैं। अगर किसानो ने ये लोन की रकम अदा नहीं करी तो इनलोगों की ज़मीन को जब्त कर लिया जायेगा।

सभी किसान ये जान कर हैरान हैं की जो लोन उन लोगों ने लिया ही नहीं उसकी वसूली कैसे हो सकती है। जब वो लोग लोन के लिए आवेदन कर रहे थे तब वो रकम पचास से साठ हज़ार के बीच थी तो अब ये तीन लाख और चार लाख कैसे हो गई है? सभी किसान डरे हुए हैं और इस डर के चलते ही एक के बाद एक दो किसानी की मृत्यु हो जाती है.

YouTube:
Part 1: http://www.youtube.com/watch?v=lH2HexUR5aA
Part 1: http://www.youtube.com/watch?v=skeCQ7-e-gQ

SonyLiv:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-416-september-13-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-417-september-14-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/09/crime-patrol-fir-against-bank-manager.html



Read More

Posted On: Saturday, September 13, 2014

10 out of 100: 14 year old mausmi sets herself on fire as her parents couldn't afford pencils and copy (Episode 415 on Sep 13th 2014)


10 out of 100
सौ में से दस


Sarva Shiksha Abhiyan (English: The Education for All Movement), is an Indian Government programme aimed at the universalisation of elementary education "in a time bound manner", as mandated by the 86th amendment to the Constitution of India making free and compulsory education to children of ages 6–14 (estimated to be 205 million in number in 2001) a fundamental right. The programme was pioneered by former prime minister Mr. Atal Bihari Vajpayee.

As an intervention programme, SSA has been operational since 2000-2001. However, its roots go back to 1993-1994, when the District Primary Education Programme (DPEP) was launched, with the aim of achieving the objective of universal primary education. DPEP, over several phases, covered 272 districts in 18 states of the country. The expenditure on the programme was shared by the Central Government (85%) and the State Governments. The Central share was funded by a number of external agencies, including the World Bank, DFID and UNICEF. By 2001, more than US$1500 million had been committed to the programme, and 50 million children covered in its ambit. In an impact assessment of Phase I of DPEP, the authors concluded that its net impact on minority children was impressive, while there was little evidence of any impact on the enrolment of girls. Nevertheless, they concluded that the investment in DPEP was not a waste, because it introduced a new approach to primary school interventions in India.

The Right to Education Act (RTE) came into force on 1 April 2010. Some educationists and policy makers believe that, with the passing of this act, SSA has acquired the necessary legal force for its implementation.

But in real, things are totally different what were implemented because these programs and plan are afterall run by common people. Government particularly recruits people for these schemes who has responsibility to run the plans successfully. Its their responsibility to arrange the scheme sothat thing could reach to the people who really needs it. After doing so many things, there are ten out hundred people are able to take its advantage.

Source:
www.wikipedia.org

Ten year old Mausmi is eldest among her two younger brothers. His father is a daily wage earner and does carpenter related works. He is the only earner in the family and mother is a home maker. Mausmi studies in a government school under Sarva Shiksha Abhiyan, where she studies for free and also get scholarship time by time.

A day his father meets with an accident. Doctor declares that right side of his entire body has become paralyzed. He gets free treatment in the hospital but after his relieving from hospital Mausmi's mother takes responsibility of doing some work to take care of him. She starts working in few homes as maid.

The family now has economic crisis. Mausmi even does not have money to buy one new pencil and notebook which she really wants. She hardly wants ten rupees for this but neither her father, nor her mother has this very small amount. As per their economic condition ten rupee is a big amount for them. She is using her last year's pencil and copy for school works. She asks his school admin about her scholarship but he every time tells her that school's few people are working on this issue and he can not give it until he gets it from block level office. She asks admin many times but every time she get same response from him. Mausami is worrying on his family condition. One hand his father is paralyzed and one the other hand her mother is trying hard to get some money for them.

Mausmi also teaches her brothers daily. One day again they comes to study but Mausmi allows them to go back and play. After her brothers left, Mausmi closes doors of the home and sets herself on fire...

"सर्व शिक्षा अभियान. प्रारंभिक शिक्षा के लिए सरकार द्वारा व्यापक पैमाने पर चलाया जाने वाला प्रमुख कार्यक्रम है. इस 2000-2001 में स्टेट गवर्नमेंट एंड लोकल सेल्फ गवर्नमेंट से साथ में मिल कर शुरू किया. 2010 में राईट टू एजुकेशन एक्ट के लागू होने के बाद से ही सर्व शिक्षा अभियान को पूरी कानूनी देख-रेख मिली ताकि सर्व शिक्षा अभियान को बुनियादी तौर पर कार्यान्वित किया जा सके."

"बुनियादी तौर पर ज़्यादातर जगहों पर ये चीज़े बिलकुल अलग हैं क्युकी ये सारी योजनायें और प्रोग्राम आखिर में लोगों द्वारा ही चलाये जाते हैं, ऐसे लोग जो ख़ास तौर पर इन योजनाओं के लिए ही नियुक्त किये गए हैं. जिनपर इन कार्यक्रमों को चलने की ज़िम्मेदारी होती है. ये उनका दायित्व है की ये सारी योजनाए उन लोगों तक पहुचे जिनको इनकी ज़रुरत है. लेकिन इतना कुछ करने के बाद भी जो सेवाएँ इन लोगों तक पहुचती हैं उसका आंकड़ा है सौ में से सिर्फ दस (10 out of 100)."


गाँव सोरभूमि, ओडिशा
मौसमी एक 10 साल की बच्ची है जिसके दो छोटे भाई है. मौसमी सर्व शिक्षा अभियान के तहत एक स्कूल में पढाई करती है जिसमे उसे फीस नहीं देनी होती है और समय समय पर छात्रवृत्ती या वजीफा भी मिलता है. उसके पिता कारपेंटर के तौर पर एक दिहाड़ी मजदूर हैं.​​​ उनकी रोज़ की कमाई पर ही घर का खर्चा निर्भर करता है.​ मौसमी की माँ सारे घर की देखभाल करती है.

एक ​दिन अचानक एक दुर्घटना में मौसमी के पिता के शरीर का दांयाँ हिस्से को लकवा मार जाता है. उनका इलाज एक सरकारी अस्पताल में निःशुल्क होता है मगर अस्पताल से छुट्टी होने के बाद महंगी दवाइयों का खर्चा उठाने के लिए मौसमी की माँ घरों में काम करना शुरू करती है जिससे उसको महीने के तौर पर कुछ रुपये मिल जाते हैं.

उनका परिवार एक बहुत बुरे दौर से गुज़र रहा है, यहाँ तक की मौसमी के पास नै कॉपी और पेंसिल भी नहीं है जिसकी उसे बहुत ज़रुरत है और वो पिछले साल की कॉपी पेंसिल से ही काम चला रही है. वो अपने स्कूल के एडमिन से अपने वजीफे के बारे में बार बार पूछती है मगर वो हर बार यही जवाब देते हैं की उसका एक आदमी वजीफे का पता लगाने जाता है मगर कुछ पता नहीं चल रहा है​. मौसमी अपने घर की हालत देख कर बहुत परेशान है. एक तरफ उसके पिता की दावा का खर्चा और दूसरी तरफ उसकी माँ दिन रात काम कर रही है.

एक ​दोपहर मौसमी रोज़ की तरह अपने भाइयों को पढ़ाने के लिए ​बुलाती है मगर फिर उन्दोनो को बोल देती है की वापस जाओ और खेलो. उसके जाने के बाद मौसमी घर के दरवाज़े बंद करती है और खुद को आग लगा लेती है.

YouTube: https://www.youtube.com/watch?v=nM9aPYdZWy8

SonyLIV: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-415-september-12-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/09/crime-patrol-14-year-old-orissa.html



Read More

Posted On: Friday, September 12, 2014

Twisted Intenssion: Underprivileged Minor molested, attacked and abducted (Episode 410 on 29 Aug 2014)

Twisted Intenssion
उलटे इरादे


10 year old Jyoti Halsar belongs to a underprivileged family. She goes to school on rickshaw and a rickshaw puller Girish Chauhan has became friendly to her. Mostly he goes her school on Girish rickshaw. Jyoti's father Jagdish Halsar has became suspicious of his minor daughter Jyoti has become friendly with Girish. He warns her to make distance from Girish. Jagdish also use to showoff that he has come from lower cast (underprivileged people) family and takes advantage of provisions the constitution of India provides for protection of underprivileged populous.

Again a day Jagdish see her on Girish's rickshaw. After sometimes he brings Jyoti a police station and tells police that Girish and his mates molested Jyoti. Police brings her to that hostel where the incident took place and asks her to identify the guys.

Police arrests Girish and puts him behind the​​ bars. Girishs is clearly saying he is not involved in this. Few days after this Jagdish again reaches police station and informs police that Jyoti is now being attacked by Girish's brother in the market. He also shows the injuries on Jyoti's leg.

Few days after this attack, Jyoti disappears. Jagdish lodges a complain that Jyoti is now being kidnapped by Girish's family.

10 साल की ज्योति हलसर अपने स्कूल रिक्शे से आना जाना करती है. एक रिक्शे वाले गिरीश चौहान से उसकी अच्छी जान-पहचान हो गई सो वो अधिकतर उसी के रिक्शे पर स्कूल आती जाती है. उसके पिता जगदीश हलसर को ये बिलकुल भी पसंद नहीं है और इसके लिए वो ज्योति को कई बार टोकता भी है. जगदीश हलसर इस बात का बार बार दिखावा करता है की वो निचली जाति का है और हर कोई उसको उसकी जाति की वजह से दबाना चाहता है.

एक दिन एक बार फिर जगदीश ज्योति को गिरीश के रिक्शे पर देख लेता है. उसके कुछ समय बाद वो ज्योति को पुलिस ठाणे ले कर जाता है और वहां पुलिस को बताता है की गिरीश और उसके कुछ दोस्तों ने मिल कर ज्योति का शारीरिक शोषण किया है. पुलिस ज्योति को गिरीश के हॉस्टल ले जाती है जहाँ और उसको सारे लडको की पहचान करने को बोलती है.

पुलिस गिरीश को गिरफ्तार भी करती है जबकि गिरीश ये साफ़ तौर पर कह रहा है की उसने ऐसा कुछ नहीं किया है. इस घटना के कुछ दिन बाद जगदीश हलसर एक बार फिर ज्योति को पुलिस स्टेशन लेकर जाता है और पुलिस को उसके पैर में लगी चोट को दिखा कर बताता है की गिरीश के घरवालों ज्योती पर राह चलते हमला किया है. इस घटना के कुछ दिन बाद ज्योति गायब हो जाती है और जगदीश पुलिस को बोलता है की गिरीश के घर वालों ने ज्योति को गायब करवा दिया है.

पुलिस जब तफ्तीश करना शुरू करती है तो सच्चाई कुछ और ही सामने आती है...

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/09/crime-patrol-uttar-pradesh-10-year-old.html



Read More

Posted On: Tuesday, September 9, 2014

Discontented: Murder of retired FIC manager and his grand daughter (Episode 412 on 5th August 2014)

​​
Discontented
असंतुष्ट


Sarita (real name Reena and played by Swati Tarar) is a divorcee who got separated after death of her 3 months old daughter. She divorced her husband because her mother-in-law was blaming her for this death. On the other hand Jagdish Sethi (real name Hitesh played by Mazher Sayed), who lives with his father Kulbhushan Sethi (real name Narinder Kumar Anand and played by Shakti Singh) and is a father of a ​7 year old girl Prerna (real name Areva). His ​father and friends are forcing him to get re-marry for sake of his daughter and himself. His friend tells him about Sarita, who is a divorcee and also wiling to get re-marry. Jagdish meets Sarita and they agrees to get marry. After their marriage they starts living together in Jagdish's home. Prerna who was earlier living with her nana-nani, is now living with Jagdish and Sarita.

Everything is going good but an evening after returning from market, Sarita sees smoke is coming from her home. Confused and scared Sarita calls her neighbors to come with her. After opening the doors, they are shocked to see dead bodies of Kulbhushan and Prerna.
​​
20​14, ​लुधियाना
Narindar Kumar and Rewa
सरिता धीरेन्द्र की पत्नी है जिसने बेटी की मृत्यु के बाद ​अपने पति से तलाक ले लिया था क्युकी उसकी सास उस​को ​इस मृत्यु का जिम्मेदार मानती थी। दूसरी तरफ जगदीश सेठी जो की एक बच्ची प्रेरणा का पिता है और उसकी पत्नी​ दिव्या की मृत्यु हो चुकी है। उसकी बेटी अपने नाना-नानी के यहाँ रहती है। जगदीश अपने पिता कुलभूषण सेठी के साथ रहता है. जगदीश का दोस्त और पिता उस​ ​पर दूसरी शादी करने का दबाव डालते हैं जिससे की उसकी जिंदगी भी ठीक से
कट सके और बेटी प्रेरणा को भी एक माँ का प्यार मिल सके। दोस्त के कहने पर जगदीश सरिता से मिलता है। दोनों एक दुसरे से शादी करने को राजी हो जाते है और शादी के बाद सरिता जगदीश के घर आकर रहने लगती है. जगदीश अपनी बेटी प्रेरणा को भी ​अपने घर ले आता है। सब कुछ ​अच्छे से चल रहा है मगर एक दिन शाम चार बजे मार्किट से वापस आने के बाद सरिता देखती है की उसके घर से धुंआ निकल रहा है। वो डर जाती है और पडोसी को को तुरंत बुला कर लाती है। घर का दरवाज़ा खोलने पर वो देखती है की उसके ससुर के कमरे में ससुर कुलभूषण और बेटी प्रेरणा की लाश बेड पर पड़ी हैं।

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/09/crime-patrollovers-get-death-for.html



Read More

Posted On: Monday, September 8, 2014

In The Name Of Love: Lovers gets death penalty for killing their entire family (Episode 413, 414 on 6th, 7th Sep 2014)

In The Name Of Love
प्यार के नाम


2008, Lucknow
Farukh (real name Saleem) falls in love with Noori (real name Shabnam). He proposes her and waits for her reply. Noori also in love with him and agrees with it. They start meeting and decides to get married soon. A day she tells her father Ismail​ (real name Shaukat Khaton)​ that she loves Farukh and wants to marry him. His father shouts at her and slaps her. He warns Noori not to think again about him otherwise she would have to pay for it. He also forcibly stops her from doing the job.

A day Noori's boss calls Ismail and asks him about Noori why she is not coming to the office from ​the last few days. Ismail tells him that due to some family issue she can not continue her job and she will not come office. Her boss forces him to send her for the next few days because there are few clients to entertained by Noori only. Ismail allows Noori to attend office for the next few days but don​'​t ever think to meet Farukh.

Noori again has a chance to meet him. They start meeting again and meets each other for the next few days. Farukh also gives her a cell phone and tells her not to disclose anyone about this phone. During their meets, Noori gets pregnant. She still does not tell anything to their parent and plans something very shocking with him to eliminate everyone between them.
VIDEO
Watch the video to know more about the case

2008, लखनऊ
वेल्डिंग का काम करने वाले एक युवक फारुख को प्यार हो जाता है एक आईटी कंपनी में काम करने वाली नूरी से। वो उसके सामने अपने प्यार का प्रस्ताव रखता है और इंतज़ार करता है नूरी के जवाब का। नूरी उसका ये प्रस्ताव मान लेती है. दोनों के बीच मुलाकाते बढ़ने लगती है और एक दिन नूरी अपने अब्बू इस्माइल से बोलती है की वो फारुख से प्यार करती है और उससे शादी करना चाहती है। इस्माइल उसको मारता है और उसको धमकी देता है की आगे से वो फारुख से किसी भी तरह का कोई नाता न रखे। वो उसकी नौकरी भी छुडवा देता है। नूरी घर में बंद हो जाती है मगर एक दिन उसके बॉस का फ़ोन उसके अब्बू को जाता है। बॉस उसके अब्बू से उसके बार में पूछता है और अब्बू इस्माइल ये बोल देता है की कुछ निजी मामलों की वजह से नूरी अब नौकरी नहीं करेगी। बॉस जोर देता है की उसको कुछ दिन के लिए नूरी की ज़रुरत है किसी ज़रूरी काम के लिए वो अगर इस्माइल उसको आने दे तो काम अच्छे से हो सकेगा। इस्माइल नूरी को जाने की इजाज़त देता है और ये धमकी भी देता है की वो फारुख से मिलने की सोचे भी न।

नूरी को वापस फारुख से मिलने का मौका मिल जाता है। इनदोनो के मिलने का सिलसिला काफी दिनों तक चलता रहता है और इसी बीच नूरी प्रेग्नेंट हो जाती है। इसके बाद भी वो अपने घर पर कुछ नहीं बताती है और फारुख के साथ मिलकर अपने परिवार को रास्ते से हटाने का एक घिनोना षड़यंत्र रचती है।

YouTube:
Part 1: https://www.youtube.com/watch?v=RKAuPGL-SkA
Part 2: https://www.youtube.com/watch?v=KvQZKmE3O-k

SonyLiv:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-413-september-6-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-414-september-7-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/09/crime-patrollovers-get-death-for.html



Read More

Posted On: Monday, September 1, 2014

Banished: Boycotted kids forced to live in a graveyard near their parent's graves (Episode 411 on 31st Aug 2014)

Banished
बहिष्कृत


Four kids of a village in Varanasi are living in a graveyard near their parent’s graves. They have their own home still villages forced then to live there after the death of their mother and father. Their real uncle is also responsible for their shifting to the graveyard. Why the innocent kids are living there? What crime did they make, villagers boycotted them!

The incident comes into light when a block-level government official Deepti who is related to the population census, visits that village and observes that four kids who are alive but their names are not there in the voter list. She comes to know that their parents died of AIDS and they are forced to live near their parent’s graveyard. Villagers threw then to the graveyard because they are afraid of being caught by the same disease. Villager thinks that this epidemic disease will spread over the entire village and everyone will die. Deepti is also shocked to know that those children never went through any medical test for HIV but villager directly boycotted them. It's just their thinking that their father-mother was HIV positive, so they will also be.

Deepti tells this story to her son Ashish who is a generalist. Ashish visits that village and meets those kids. Eldest kid Rehan explains to him how they were boycotted by their uncle and villagers. Ashish publishes this news in a newspaper. Everyone, including state government, shocks to know the story.

बनारस के एक गाँव में चार बच्चे एक कब्रिस्तान में अपने माँ-बाप की कब्र के पास रहने को मजबूर हैं. उनको गाँव वालों से ज़बरदस्ती वहां पर रहने को मजबूर किया है जबकि उनका अपना घर है. उनको वहां भेजने के फैसले में उनके चाचा का भी हाथ है. आखिरकार वो लोग वहां क्यों रह रहे हैं? उन्होंने ऐसा क्या किया है की गाँव वालों ने उनको वहां रहने पर मजबूर कर दिया?

बात मीडिया और सरकार से सामने तब आती है जब उनके बार में एक ब्लाक लेवल की जनगणना से जुडी कार्यकर्ता दीप्ति उस गाँव में वोटर्स का विवरण लेने आती है. उसको पता चलता है की एक परिवार जिसमे माँ-बाप की मौत हो चुकी है, उनके चार बच्चे एक कब्रिस्तान में अपने अम्मी-अब्बू की कब्र के पास रहते हैं. वो जब पता करती है तो पता चलता है की उन लोगों के माँ-बाप की मौत एड्स की वजह से हुई थी. और इसी वजह से उनके बच्चों को भी गाँव वालों ने घर से निकल दिया गया क्यों की सबको डर था की ये खतरनाक बीमारी सारे गाँव में फ़ैल जाएगी और सबसे चौकाने वाली बात ये सामने आती है की इन बच्चों का कोई मेडिकल टेस्ट नहीं करवाया गया है और चूँकि उनके माँ-बाप को एड्स था, इस वजह से गाँव वालों को यकीन है की ये बीमारी माँ-बाप से बच्चों में भी आई ही होगी.

दीप्ति को ये जानने के बाद ताज्जुब होता है और वो ये बात अपने पत्रकार बेटे आशीष को बताती है. उसका बेटा उन बच्चों से मिलने जाता है और फिर उसके बाद एक आर्टिकल न्यूज़ पेपर में निकलता है. खबर मीडिया में आने के बाद हडकंप मच जाता है.

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/09/crime-patrol-five-children-who-were.html


Read More