Posted On: Friday, December 26, 2014

An Escaped Convict: Lucknow triple murder case (Episode 450, 451 on 26th, 28th Dec 2014)

An Escaped Convict
फरार मुजरिम


A factory owner and few workers are shocked to see dead bodies of three persons in factory compound. Dead bodies belongs to two youngsters (real name Riyaz, Ibrahim) and a middle aged woman (real name Zainab ). When they call police, police finds a 6-7 year old kid also at the same place hiding behind a machine. That kid is in trauma and they brings him to hospital. After some time the kid tells that his name is Parvez (real name Saddam).

Investigation reveals that a factory watchman Afzal Baig (real name Rashid alias Zakir and played by Rishi Khurana) is missing who had joined the factory three months back. He was residing here with his wife Anjum (real name Shakeela alias Bitta)who belongs to Moradabad.

After publishing victim's photos to the news papers police gets a call from a man named Laxman. He tell police that this all would be commited by Farhan Qureshi who is a history sheeter. Anjum belongs to same village where Laxman comes from. He also tells police that Anjum was having affair with a criminal Farhan and had run away with him. Later he was wondering to see her here in Lucknow with another man Afzal.

लखनऊ की एक फैक्ट्री में तीन लाशें मिलती हैं जिनमे से दो पुरुष हैं और एक अधेड़ उम्र की महिला है. फैक्ट्री वाले पुलिस को बुलाते हैं. पुलिस को उसी जगह पर छिपा हुआ एक बच्चा भी मिलता है जो की एक मशीन के पीछे छिपा है और उसने सब कुछ देखा हुआ है. वो बहुत सहमा हुआ है और बड़ी मुश्किल से अपना नाम परवेज़ बताता है.

फैक्ट्री के लोगों के हिसाब से ये तीनो लाशें और वो बच्चा अनजाने हैं और फैक्ट्री का दरबान अफज़ल गायब है. पुलिस के हिसाब से ये अफज़ल ही उनका मेन टारगेट है. पुलिस इन सब फोटो अखबार में छाप्वाती है और इसके बाद पुलिस को एक फ़ोन आता है जिसमे एक आदमी ये बताता है की ये ये सब फरहान नाम के आदमी का किया धरा है. पुलिस किसी तरह उस आदमी तक पहुच जाती है और उसका नाम लक्ष्मण है. वो बताता है की उसने अफज़ल की बीवी अंजुम को कुछ दिन पहले यहाँ देखा था जो की उसके ही गाँव की है और फरहान नाम के गुंडे के साथ भाग गई थी और अब अफज़ल के साथ रह रही थी. उसको ये शक है की अंजुम ने फरहान को दिखा देकर अफज़ल से शादी करी तभी फरहान में इनसब लोगों का खून कर दिया होगा.

Based on a triple murder case of Kanpur, Uttar Pradesh.
YouTube:
Part 1: http://youtu.be/76nZ368tvS0
Part 2: http://youtu.be/FfNo2KQ-oXk

SonyLIV:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-450-26th-december-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-451-28th-december-2014-farar-mujrim

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/12/crime-patrol-main-accused-in-triple.html



Read More

Posted On: Tuesday, December 23, 2014

Crime Patrol's Most Well Known Starcast List 5


The list contains profiles of Simran Sharma, Sabina Jat, Simran Khanna, Puneet Kumar Channa, Shakti Singh, Dhanashri Khadgaonkar, Dolphin Dubey, Aleeza Khan, Shriya Popat and Sushant Kandya

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12
Crime Patrol Actresses List Videos

Simran Sharma

Cute and sexy Simran Sharma played role of dancer Nitya in her first Crime Patrol Episode. She mostly seen in Crime Patrol Dial 100 Episodes. Simran hails from Himachal Pradesh and has also won title of Miss Himachal Pradesh...Visit Profile.




Read More

Crime Patrol's Most Well Known Starcast List 4



The list contains profiles of Meenakshi Arya, Dhruvee Haldankar, Raquel Rebello, Abhishek Khandekar, Shruti Kanwar, Ruchi Tripathi, Annie Sekhon, Annie Sekhon, Pyumori Mehta, Pankaj Berry and Ekta Methai

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12
Crime Patrol Actresses List Videos

Meenakshi Arya

Actress Meenakshi Arya belongs to Ganga Nagar, Rajasthan. As a bollywood actress she started her career in 2012 with horror movie 2 Nights in Soul Valley and after that she continued with TV serials and commercial ads. In 2013 she played role of a Vampire in Life OK's serial...Visit Profile.


Read More

Posted On: Monday, December 22, 2014

Irreconcilable Differences: Murder of Uttar Pradesh Baahubali Mohan Saini (Episode 448, 449 on 20th, 21st Dec 2014)


द्वन्द
Irreconcilable Differences



Year 2010. 
Day of marriage of Vaishali Saini (played by Raquel Rabello), who is niece of one of U.P.’s bahubali (Strong man) Mohan Saini. Everything is going well and girl side people are waiting for Baraat. Vaishali’s mother and aunt are bringing her to stage but suddenly she says that she want to go to the washroom. They brings her back to her room and she locks room form inside and takes poison. Her parents brings her to hospital but doctor declares that she has passed away.

It has been four years since the incident. Vaishali’s father and uncle are involved in the business of selling bricks. Also, Mohan Saini is the strongest person in the city. A day Mohan and one of his business partners are discussing something, suddenly two men come to the office and start firing on Mohan with their Desi Katta. Their third companion is waiting for them outside the office. After committing crime both run away with their third partner. Saini’s security guard tries to shoot them but his gun is jam.



​सन 2010. 
उत्तर प्रदेश के एक शहर में शहर के एक बाहुबली मोहन सैनी की भतीजी वैशाली सैनी की शादी ​का दिन है। शादी की तैयारियां पूरी हैं और बारात का इंतज़ार हो रहा है. वैशाली को बाहर लाया जा रहा है मगर वो अचानक टॉयलेट जाने को बोलती है तो उसकी माँ उसे वापस कमरे में ले जाती हैं। वो कमरा बंद करती है और आत्महत्या कर लेती है। इस बात को चार साल हो चुके हैं. वैशाली के पिता और चाचा का ईंटों का बहुत बड़े स्तर पर बिज़नेस है। एक शाम जब मोहन सैनी अपने ऑफिस में अपने बिज़नेस पार्टनर के बातचीत कर रहे हैं तभी दो लोग अंदर घुसते हैं और देसी कट्टों से मोहन सैनी पर गोली चला कर भाग जाते हैं। उनका तीसरा साथी बहार बाइक पर उन्दोनो का इंतज़ार कर रहा है, तीनो एक ही बाइक पर सवार होकर निकल लेते हैं. सैनी का सिक्योरिटी गॉर्ड उनपर फायर करने का प्रयास करता है मगर उसकी गन जाम हो जाती है।

YouTube:
Part 1: http://www.youtube.com/watch?v=ju8uq0xVeQw
Part 2: http://www.youtube.com/watch?v=YDYmVSjohbQ

SonyLiv:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-448-20th-december-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-449-21st-december-2014




Read More

Posted On: Friday, December 19, 2014

Innocence Trampled: Jitendra brings back her daughter Pari after seven years (Episode 447 on 19th Dec 2014)

Innocence Trampled
निर्दयी


Eight year old Pari lives with her Nana-Nani (Grand father and Granny) in Dehradun. Her mother passed away when she was just 1 year old. According to her Nana-Nani that was a murder committed by her father Jitendra but in police record it was a suicide case. And for this case Jitendra had spent six months in a jail.

Its been seven years. Suddenly a day Jitendra comes their home and asks Pari’s grand father and granny that he has forgotten past things and now he want her daughter back. He is now married with another woman Sonali who will take good care of her. After much consideration they gives allows Pari to go with him.

After pari has gone, they tries several times to talk to her but Jitendra is not picking their call anymore. After two weeks he calls Jitendra from a PCO. Jitendra does not talk to him well. He tells him that Pari is good and he is enjoying her life here in Delhi. He does not tell his address but he tells that he lives somewhere in Greater Kailash II. Pari’s Nana is still not satisfied with him. He decides to go Delhi and after reaching Delhi he searches for Jitendra and Pari in entire Great Kailash area. After two days he does not find any clue about them so he comes back to their home in Dehradun.

After few days of this he gets a call from Delhi, R.K Puram police station that her grand daughter Pari is injured and is admitted in a hospital so he should reach Delhi as soon as possible.

परी अपने नाना नानी के साथ देहरादून में रहती है। जब वो एक साल की थी तब उसकी माँ की मृत्यु हो गई थी। कहा जाता है की उसकी माँ ने आत्महत्या की थी और उसके पीछे पूरी ज़िम्मेदारी उसके पापा जीतेन्द्र की थी। आज उस बात को सात साल हो चुके हैं और परी अब आठ साल की है। एक दिन अचानक जीतेन्द्र परी के नाना-नानी के घर आता है और वो बोलता है की वो परी को अपने साथ ले जाना चाहता है। नाना-नानी को समझ नहीं आता है की इतने साल बाद वो परी से मिलने क्यों आया है।

काफी सोचने समझने के बाद वो लोग परी को जीतेन्द्र के साथ भेज देते हैं। परी के जाने के बाद उसके नाना कई बार उससे बात करने की कोशिश करते हैं मगर जीतेन्द्र फ़ोन नहीं उठता है। दो हफ्ते बीत जाते हैं तो वो एक पीसीओ से जीतेन्द्र को फ़ोन करते हैं। जीतेन्द्र गुस्से में बोलता है की परी बिलकुल ठीक है और उसका स्कूल में एडमिशन करवा दिया गया है। जीतेन्द्र उनको अपना पता भी नहीं बताता है और ये कह देता है कि वो ग्रेटर कैलाश 2 में रहता है।

परी के नाना देहरादून से दिल्ली आते हैं और पूरे ग्रेटर कैलाश में पारी का पता ढूंढते हैं. दो दिन तक ढूंढने के बाद भी उन्हें परी का पता नहीं मिलता है तो वो वापस लौट जाते हैं।

कुछ दिन बाद उन्हें दिल्ली के आरके पुरम थाने से फ़ोन पहुचता है की परी की हालत बहुत ख़राब है और वो अस्पताल में भर्ती है.

Based on Bangalore incident. Satyanarayan Singh, a plastic utensils trader told police that he was provoked into hitting his daughter Neha as she didn't answer questions during revision. Police arrested Satyanarayan and his mother Padma Bai. Police suspects that Padma Bai provoked Satyanarayan to commit this crime. Neha was daughter of Satyanarayan from her first wife Asha Singh who commited suicide in 2006. Satyanarayan was acquitted in Dowry harassment and murder case of his wife. Later he married again and having a two year old daughter from her second wife.

YouTube: http://www.youtube.com/watch?v=WzOEHore90k
SonyLiv: 

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/12/crime-patrol-man-kills-8-year-old.html



Read More

Posted On: Saturday, December 13, 2014

Multiple Threats: Double Murder, Headless Bodies of Somesh and Meenu found (Episode 445/446 on 13/14 Dec 2014)


Multiple Threats
चौतरफा खतरा
Reganpur,
Dr. Pankaj Chopra, wardboy Somesh Shukla and nurse Meenu Jha (played by Jia Mustafa) are working in Dr. Saklani's hospital. Both Meenu and Somesh are very close to Dr. Chopra because they had previously worked together in another hospital and after that hospital was closed, on Dr. Chopra’s recommendations MD Saklani hired rest two also. Meenu leaves for some work with a Dr. Chopra. When Somesh gets information about their departure, he also takes leave from Dr. Saklani and moves from hospital.
Next day a villager finds a dead body inside a sailcloth bag. He informs police and police finds a male headless body inside that bag. They also finds another headless body of a woman at the same place and that body is also headless. Now police starts looking for their heads and they finds them inside a pond near the bodies were found. Postmortem reports confirms that these heads belongs to same bodies. They starts looking for any missing complain related to couple and finally they gets confirmation that these bodies are belongs to a ward boy Somesh and nurse Meenu who were married and were working in a same hospital.
udham naga, uttarakhand, vijay pal gangwar, nisha sharma, dehradun
Police was shocked to know that they were not actually married while they were sharing same room and were living like a married couple. Somesh was married but his wife was living with his parents at his native place while Meenu was a divorcee.

Now police starts their investigation with Meenu's Ex-Husband and also they are looking for that missing senior doctor who was with Meenu when she left form the hospital.

रेगनपुर,
सोमेश शुक्ला और मीनू झा एक ही अस्पताल में वार्डबॉय और नर्स की पोस्ट पर कार्यरत हैं. मीनू और उसके सीनियर डॉक्टर छुट्टी लेकर साथ में निकलते हैं. दूसरी तरफ जब सोमेश को उनकी छुट्टी के बारे में पता चलता है है तो वो भी छुट्टी लेता है.

अगले दिन गाँव के एक आदमी को सुबह एक बोरे में एक लाश दिखती है. वो पुलिस को बुलाता है और तब पता चलता है की ये लाश किसी आदमी की है और उसका सर गायब है. उसी जगह पर पुलिस को एक और लाश मिलती है जो की किसी लड़की की है. उसका भी सर गायब है. पुलिस गोताखोरों को बुला कर पास के तालाब में इनके सर ढूंढवाना शुरू करती है. तालाब के अन्दर दोनों सर मिलते हैं. पुलिस को शक है की ये डबल मर्डर है या डबल-डबल मर्डर है. पोस्टमॉर्टेम पर पता चलता है की ये दोनों लाशों के सर और धड़ मैच कर रहे हैं. पुलिस रेगंनपुर की सारी मिस्सिंग कोम्प्लैंस तलाशती है और घूम फिर के उन्हें पता चलता है की ये लाशें वार्डबॉय सोमेश और मीनू की हैं.

सोमेश के घरवाले उसके गायब होने की मिसिंग कंप्लेन दर्ज करवा चुके थे. पुलिस को ये जान कर ताज्जुब होता है की सोमेश और मीनू अस्पताल में पत्नी-पत्नी के तरह रहते थे जब की वो दोनों शादी शुदा थे. सोमेश की पत्नी सोमेश के गाँव में उसके परिवार के साथ रहती थी जबकि मीनू एक तलाकशुदा है.

पुलिस अब मीनू के पति से पूछताछ करती है और मीनू के साथ गायब हुए सीनियर डॉक्टर का पता लगाना भी शुरू करती है.

Incident took place in September, 2014 at Udham Singh Nagar, Uttarakhand. Deceased Vijay Pal Gangwar was working as a compounder in a private hospital while woman was identified as Nisha Sharma who was working as a nurse in same hospital. They both hails from Bareilly, Uttar Pradesh. Duo’s dismembered bodies were found near the Nagar Sagar Dam in Udham Singh Nagar, about 270 km from Dehradun.

YouTube:
Part 1: www.youtube.com/watch?v=7ZRbT_-k9lw
Part 2: www.youtube.com/watch?v=E-l9yxfHW3k

SonyLiv:
Part 1: www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-446-december-14-2014
Part 2: www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-445-december-13-2014

Here is the Inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/12/crime-patrol-dismembered-body-found-in.html

Read More

Posted On: Friday, December 12, 2014

Wilful Blindness: 70 year old Eknath Tawde murdered by his son Prasad Tawde (Episode 444 on 12 Nov 2014)

Wilful Blindness
देखी-अनदेखी


Retired Eknath Tawde hires a taxi toward his brother’s home. He has some injury on his head because driver is watching him pressing his head by his hand. Once taxi reaches destination, taxi driver asks him to get down of the taxi but Eknath does not respond. He notices that Eknath is unconscious so he calls police. Police brings him to hospital where doctor tells that he had severe head injury and has passed away.

Police traces and calls his brother Ramakant with help of Eknath’s mobile phone. He tells police that Eknath’s son Prasad Tawde attacked him on his head and after this he talked to Ramakanth and told that he is reaching his home. Police calls Prasad but he is in an intoxicated state and does not pick call. When police reaches Eknath’s home, door of the home are locked and their neighbor tells police that in the morning itself police already has taken Prasad with them. When police asks another police station then they comes to know that Prasad’s fiancee Ketki lodged an FIR of blackmailing against both of them. Prasad was blackmailing her over some private photos. According to Ketki, Prasad has already extorted a huge amount from her and now he was again trying to get more money. He has warned Ketki that if she do not arrange money for him he will upload her private photos to internet.

Drunken Prasad is not in condition of giving any statement. Police brings him to other police station with them and tries to ask why he killed his father.

बुजुर्ग एकनाथ तावडे रास्ते में एक टैक्सी रोकते हैं और उसमे बैठ जाते हैं. उनके सर में कोई चोट लगी है जिसकी वजह से वो अपने सर को बार बार दबा रहे हैं और टैक्सी ड्राईवर इस चीज पे गौर कर रहा है. जब वो अपने गंतव्य पर पहुचते हैं तो टैक्सी वाला उनको उतरने को बोलता है मगर कोई जवाब नहीं आता है. टैक्सी वाला उनको हिलाने डुलने की कोशिश करता है मगर बुज़ुर्ग कोई जवाब नहीं देता. वो पुलिस को फोंन करता है. पुलिस आती है और टैक्सी ड्राईवर और बुज़ुर्ग को अस्पताल ले जाती है. अस्पताल में डॉक्टर बताता है की उनके सर में सीरियस चोट लगी थी जिसकी वजह से उनकी मृत्यु हो चुकी है.


पुलिस उनके मोबाइल फ़ोन की मदद से उनके भाई रमाकांत को फ़ोन करती है और बुलाती है. वो बताते हैं की उनको उनके बेटे प्रसाद तावड़े ने सर पे चोट मारी थी और उसके बाद वो टैक्सी से अपने भाई के घर आ रहे थे तभी उनकी मौत हुई. पुलिस उनके घर पर जाकर पता करती है तो पता चलता है की उस इलाके की पुलिस पहले से ही उनके बेटे को थाणे ले जा चुकी है. पुलिस जब उस एरिया के थाने पहुचती है तो पता चलता है की प्रसाद की मंगेतर केतकी ने उसके और उसके बाप एकनाथ के खिलाफ कंप्लेंन दर्ज कराइ थी की वो दोनों बाप बेटा उसको पैसे के लिए ब्लैकमेल कर रहे हैं. प्रसाद उससे काफी रुपये पहले ही ऐंठ चुका है, अब उसको और रुपये चाहिए. अगर उसको पैसे नहीं मिलेंगे तो वो उसके मोबाइल में सेव केतकी की कुछ आपत्तिजनक फोटो इन्टरनेट पर डाल देगा.

प्रसाद बुरी तरह से नशे में धुत है. इतना धुत की वो न तो बयान देने की हालत में है न की सीधा खड़ा होने की हालत में. पुलिस अब उसको को अपने साथ थाने ले जाती है.

YouTube: https://www.youtube.com/watch?v=EZG8FC0Vpis

SonyLiv: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-444-december-12-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/12/crime-patrol-thane-man-kills-father-who.html



Read More

Posted On: Saturday, December 6, 2014

Conspiracy Unearthed: Chain snaching gang investigation turns to a murder case (Episode 442, 443 on 6th, 7th Dec 2014)


Conspiracy Unearthed
पर्दाफाश


Kolhapur is struck with terror by a chain snatcher gang. They are doing their activity fearlessly in public. Till now police is not able to trace them and after number of cases police increases their patrolling in the city.

Two bikers flee after an incident. A police inspector is trying to chase them but he fails. Later same police inspector finds two guys Shekhar and Prasad are harassing a Bhelpuri seller. Police inspector thinks they guys might come from the same gang so they arrest them for inquiry. After some questioning police separate them and start questioning again. Shekhar tells police that he is just a student and they both were just making fun of that peddler. He also tells police that Prasad has left studies and he does not do anything. Now police trap Prasad. He tells him that Shekhar has told everything about him, so now it's his turn, to tell the truth. Scared Prasad tells police that he is innocent while Shekhar came back to Kolhapur a few days back after committing a murder in Pune. It was totally shocking news for Police so now police starts interrogating Shekhar.


Shekhar tells police that he was called by a hospital wardboy Sanjay Daage to comminate some person in Pune. Sanjay was called by another companion Nagesh and Nagesh was called by his friend Kunal.

Police stats arresting all of them and then investigation for a chain snatching gang turns into a murder case in Pune.

कोल्हापुर शहर में चेन स्नेचेर (चेन छिनने वाली) गैंग का आतंक है. ये लोग पिछले कई दिन से सरेआम इन घटनाओ को अंजाम दे रहे हैं. पुलिस पूरी तरह से इन लोगों को पकड़ पाने में नाकाम है. इसी के चलते पुलिस अपनी सतर्कता बढाती है. पुलिस वाले सादी ड्रेस में पूरे शहर में बिछे हुए हैं. इसी बीच दो बाईकर एक घटना को अंजाम देकर भाग रहे हैं जिनका पीछा एक पुलिस वाला करता है मगर पकड़ नहीं पता है. इसी घटना के बाद वही पुलिस वाला 2 लड़के शेखर और प्रसाद को एक भेलपूरी वाले को परेशान करते देखता है. वो 2 लड़के उस भेलपूरी वाले से हफ्ता वसूलना चाहते हैं. पुलिस उन दोनों को शक की बिनाह पर पुलिस स्टेशन ले जाती है. काफी देर तक धमकाने के बाद पुलिस उन्दोनो को अलग अलग ले जाती है और बातों में फ़साने की कोशिश करती है. शेखर बताता है की वो एक स्टूडेंट है और अपना आईडी कार्ड भी दिखता है. वो बताता है की प्रसाद पढाई नहीं करता है और 1 साल पहले कॉलेज छोड़ चूका है. दूसरी तरफ पुलिस जब प्रसाद से सख्ती से पूछताछ करती है तो वो बोल देता है की वो एक सीधा सादा इंसान है जब की शेखर पुणे में एक काण्ड कर के आया है और वो पुणे गया था एक मर्डर करने.

पुलिस चौंक जाती है की वो क्या बोल रहा है. अब पुलिस वाले शेखर से और सख्ती से पूछताछ करते हैं तो वो शेखर बताता है की उसको संजय नाम के एक वार्डबॉय ने बुलाया था किसी को धमकाने के लिए और संजय को नागेश नाम के आदमी ने बुलाया था और नागेश को कुणाल ने बुलाया था. पुलिस एक एक कर के सभी को गिरफ्त में लेती है और तब एक मर्डर का खुलासा होता है.

YouTube:
Part 1: https://www.youtube.com/watch?v=6ZyxtAciGoI
Part 2: https://www.youtube.com/watch?v=VUd2QALFHqA

SonyLiv:
Part 1: Conspiracy Unearthed On Sony Live Part 1
Part 2: Conspiracy Unearthed On Sony Live Part 2

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/12/crime-patrol-suspects-held-for-robbery.html

Read More

Posted On: Friday, December 5, 2014

Backstabbing: Kavita found hanging on a tree (Episode 441 on 5th Nov 2014)

दगाबाजी
Dagabazi


A security guard finds body of a girl hanging from tree in the garden. After filing complain, police finds a suicide note near the body which says girl was in love with a guy Sudhir who spoiled her life and she is committing suicide. Police also finds Sudhir’s call details from Kavita’s mobile.

Sudhir is brother of Kavita’s friend Shonali. During interrogation Sudhir tells police that his sister Shonali does not have any mobile so she uses his mobile to talk to someone. Police also sends suicide note to a expert who informs police that writing on the letter is different from Kavita’s writing. On the other hand Kavita’s postmortem report reveals that she was 2 months pregnant.

कविता की लाश पुलिस को एक पुराने दार्शनिक जगह की एक टूटी फूटी इमारत में एक पेड़ से लटकी पाई जाती है. पुलिस को लाश के साथ एक सुसाइड नोट भी मिलता है जिसपर लिखा है कि सुधीर नाम के एक लड़के ने कविता की जिंदगी ख़राब कर दी है जिसकी वजह से वो आत्महत्या कर रही है. इसके अलावा पुलिस को कविता के मोबाइल से सुधीर और शोनाली के बीच हुई कॉल्स भी मिलती हैं. पुलिस पता करती है तो पता चलता है की सुधीर कविता की एक दोस्त शोनाली का भाई है.

पुलिस उससे पूछताछ करती है मगर वो बताता है की शोनाली के पास मोबाइल न होने की वजह से शोनाली उसका फ़ोन इस्तेमाल करती थी. पुलिस कविता के लिखे हुआ सुसाइड नोट को एक्सपर्ट के पास भेजती है जहाँ ये पता चलता है की कविता की राइटिंग और सुसाइड नोट में लिखी राइटिंग अलग अलग है. दूसरी तरफ कविता की पोस्टमॉर्टेम रिपोर्ट ये बताती है की उसकी मौत के समय वो दो महीने गर्भवती थी.

Based on July, 2014 case of Thane, Maharashtra. A 17 year old girl was found hanging from a hotel room’s ceiling fan. In primary investigation the case was looking like a suicide case but later girl’s mobile phone records focused on a murder case. Girl was in love with a married man Shankar Kashinath Bhogade from Jawahar in Paighar, Thane (rural).

YouTube: http://youtu.be/Q8yqv3isANc

SonyLive: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-441-december-5-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/12/crime-patrol-man-says-killed-paramour.html


Read More

Posted On: Monday, December 1, 2014

Reports Unverfied: Fake medical report labeled Nilesh HIV Positive (Episode 438 on 28th Nov 2014)


निलेश की तबियत काफी दिन से ख़राब चल रही है. जब वो ब्लड टेस्ट करवाता है तो पता चलता है की वो एच.आई.वी पॉजिटिव है. आइये देखे क्राइम पट्रोल के ये केस किस पर आधारित है...
Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/12/crime-patrol-malad-man-says-laboratory.html

Read More

Unleashed Predators: Delhi 2010, Dhaulakuan gang rape case (Episode 439, 440 on 29th, 30th Nov 2014)


Unleashed Predators
आवारा दरिंदे


​Rebeca (played by Richa Soni) is a ​divorcee and also mother of a girl Angel. After her divorce she starts living with her parents in Himachal Pradesh. She is not well educated but has great confidence and good communication skills. She is willing to do a job so that she can take good care of her daughter and her parents. She contacts her friend Ruby who is a BPO employee and lives in Delhi. Ruby arranges interview call for her and after reaching Delhi she attends interview and qualifies it. Being an employee in a US based outsourcing company, she works in night shifts. She starts living with Ruby in her flat. As all night shift companies does, they are also provided with cab facility which drops them at their doorsteps. Though their flat is at a congested area, their cab drops them at turn of their street and moves.

In the office she comes closer to a friend who falls in love with her. She proposes her but she directly denies it. There is also a tea vendor at turn of their flat who daily watches them in the mid night coming from office. He daily says Hi-Hello to Ruby. He also does same with Rebica also, but she does not give any response to him.

A night they both get delayed with returning from their office because their driver gets delayed in reaching. When their cabs leaves from the office, fours goons in a tempo who hails from Haryana starts following them. Rebeca and Ruby's cab stops at the turn of their street. They both gets downs from the cab and they cabs moves away. As cab moves, all three goons get down from their tempo and takes on Rebeca and Ruby. Few people sleeping on the footpath tries defending them but on of the four men starts showing them a gun. In the meantime Ruby gets chance to scape from the situation while they brings Rebeca with them. They puts Rebeca in the back side of the tempo and runs away.

​Rebeca played by Richa Soni
Ruby played by Sarika Dhillon
Lead Cop played by Darshan Dave

Based on Delhi's well known Dhaula Kuan Gang Rape Case

रेबेका एक तलाकशुदा लड़की है और एक बच्ची की माँ है. वो अपने पति से तलाक ले चुकी है और माता पिता के साथ अपने घर हिमाचल प्रदेश में रहती है. उसकी शैक्षिक योग्यता बहुत नहीं है मगर वो एक महत्वाकांक्षी लड़की है जो की अपने दम पर कुछ करना चाहती है. अपनी दिल्ली की एक दोस्त रूबी की मदद से वो दिल्ली में एक कॉलसेंटर में इंटरव्यू के लिए अप्लाई करती है. उस इंटरव्यू में उसका सेलेक्शन होता है और वो अपनी नौकरी शुरू करती है. उसकी नौकरी नाईट शिफ्ट की है और वो अपनी दोस्त रूबी के साथ ही रहती है. काल सेंटर का ड्राईवर उनको उनके घर तक नहीं छोड़ पता है क्युकी उनका घर एक गली में है और उसकी कार उस गली के अन्दर नहीं जा सकती है.

ऑफिस में रेबेका का दोस्त उसे प्रोपोज़ करता है मगर रेबेका मना कर देती है. घर की गली के नुक्कड़ पर एक चाय वाला है जिससे रूबी का रोजाना आते जाते दुआ सलाम होता है. वो रोज रबेका को भी दुआ सलाम करता है मगर रेबेका कोई जवाब नहीं देती है. एक रात दोनों को ऑफिस से लौटने में काफी देर हो जाती है क्युकी कार का ड्राईवर पहुचने में देर कर देता है. जब वो लोग ऑफिस से निकलती हैं तो उसकी कार के पीछे एक और टेम्पो लग जाता है जिसमे हरियाणा के कुछ गुंडे हैं. रेबेका की कार उनकी गली के बाहर रूकती है. वो दोनो कार से निचे उतरती है और कार चली जाती है. कार के जाते ही पीछे के टेम्पो से वो चारों लोग उतरते हैं और रूबी और रेबेका को अपने कब्ज़े में ले लेते हैं. वही फूटपाथ पर सोये हुए कुछ लोग उठकर शोर मचाने की कोशिश करते हैं वो उन आदमियों में से एक आदमी बन्दूक निकाल लेता है. रूबी किसी तरह से भागने में कामयाब हो जाती है मगर रेबेका को वो लोग टेम्पो के पीछे डाल कर ले जाते हैं.

YouTube:
Part 1: https://www.youtube.com/watch?v=TjgVwcVkKx8
Part 2: https://www.youtube.com/watch?v=rZqO2yYwAR0

SonyLiv:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-439-november-29-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-440-november-30-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/12/crime-patrol-2010-dhaula-kuan-case.html



Read More

Posted On: Sunday, November 23, 2014

Trouble Shooting: Attack on a teacher Girdhar Bisht (Episode 436, 437 on 22nd, 23rd Nov 2014)


Trouble Shooting
मुसीबत का हल

Girdhar Bisht hails from Bindampur Village and he is a school teacher at Dehradoon. He likes to spend his holidays at home. Girdhar's family is a joint family where besides Girdhar and his wife, his brother and his family lives. His brother has two daughters. Elder one is Preeti (real name Shwetha Chandrashekar Haarigency, 22 and played by Vinita Joshi Thakkar) and younger one's name is Nootan (real name Sushma Chandrashekar Haarigency and played by Sabina Jat). Girdhar's only son lives abroad. Preeti is was not good in studies and she is a college dropout. She also has affair with Ajit Jogi (real name Ravi Shankar Naukudakar, 22 and played by Saheem Khan) who is a history sheeter. In police records he has been involve in few burglary cases. Preeti's family is completely against their relation. During all this family decides to send Preeti with his uncle Girhar Bisht but Preeti cameback after some time.

A day while travelling from his hostel to home, two men on bike opened shot him from close range but before getting unconscious he calls hospital. After sometimes ambulance comes and brings Girdhar with them. Police call his family on basis of his ID card found from the spot.

There was another story with Preeti when she was studying in college. A guy name Johny Garg was fallen in love with her and he wanted to marry her. Near everyone in the college was aware of Johny's feelings about Preeti.

गिरधर बिष्ठ देहरादून के एक स्कूल में टीचर है जो की बिन्दमपुर गाँव से सम्बन्ध रखते हैं. अपनी नौकरी के चलते वो छुट्टियों में अपने घर आते जाते हैं. घर पर उनकी पत्नी और उनके अलावा उनका भाई और उसका परिवार रहता है. गिरधर बिष्ठ एक एक बेटा है जो की देश से बाहर रहता है. उनके भाई की दो बेटियां हैं. बड़ी का नाम प्रीती और छोटी का नाम नूतन है. प्रीती कुछ बिगडैल टाइप की है जिसका चोरी चाकरी करने वाले एक छोटे मोटे अपराधी से चक्कर है जो की उसके घर वालों को बिलकुल भी पसंद नहीं है और इसके चलते वो उसको उसके ताऊ गिरधर के साथ देहरादून रहने के लिए भेज देते हैं मगर कुछ समय बाद प्रीती वापस आ जाती है.
Ajit Gaur, Bindampur, Chirag Mehra, Girdhar Bisht, Johnny, Musibat ka hal, No14, Preeti, Sabina Jat, Saheem Khan, Trouble shooting, Uttarakhand, Vinita Joshi Thakkar, dehradun, nissar khan
कॉलेज में छुट्टी होने पर गिरधर एक दिन अपने स्कूटर से देहरादून से अपने घर के लिए जा रहे थे की अचानक एक बाइक पर सवार दो लोगों में से एक उनपर गोलियां चालाता है. गिरधर बिष्ठ को गोलियां लगती हैं और वो सड़क पर बुरी तरह से गिर पड़ते हैं. बेहोश होते होते वो एम्बुलेंस को फ़ोन कर देते हैं. कुछ समय बाद एम्बुलेंस आ जाती है और उनको अस्पताल के जाती है. उसके आईडी कार्ड के आधार पर उनके घर पर सूचित किया जाता है.

इन सब के अलावा करीब दो साल पहले जब प्रीती कॉलेज में पढ़ती थी तब जानी गर्ग नाम एक लड़का उस पर जान देता था. पूरे कॉलेज में सभी को पता था की जानी प्रीती को प्यार करता है मगर प्रीती उसको बिलकुल भी भाव नहीं देती थी.

YouTube:
Part 1: youtu.be/zWoO1zIo6gI
Part 2: youtu.be/NX6291tk4wM

SonyLiv:
Part 1: Not Available
Part 2: www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-437-november-23-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/12/crime-patrol-2-sisters-3-others-held.html


Read More

Posted On: Saturday, November 22, 2014

Close to the Heart: Seven year old kid Vikky goes missing (Episode 435 on 21st November 2014)


Close to Heart
दिल के करीब
Vikky is a 7 year old naughty kid who likes to play seek and hide with his mother. A day he goes missing while playing with a neigbhor's son Rajdeep. Her mother thinks he is again playing some game but he really goes disappear. Mother informs his father Dalpreet and he starts searching the kid. He also files an police complain about Vikky's missing. Police starts search him and activates his informers also. During the whole incident Dalpreet finds one shoe of vikky.

विक्की एक सात साल का शरारती बच्चा है. लुका-छिपी का खेल उसे पसंद है और इसी को लेकर वो कई बार अपनी मम्मी को परेशान करता रहता है. एक दिन अचानक जब तो घर के बहार पड़ोस के बच्चे राजदीप के साथ खेल रहा है तभी तो गायब हो जाता है. उसकी माँ को लगता है की वो मज़ाक कर रहा है मगर वो सच में गायब हो जाता है. विक्की के पिता दलप्रीत उसको ढूंढना शुरू करते हैं मगर वो नहीं मिलता. उसके गायब होने की सूचना पुलिस को भी देते हैं और पुलिस उसको ढूंढना शुरू करती है. पुलिस अपने खबरियों को भी काम पे लगाती है. इसी बीच एक खेत के पास दलप्रीत को विक्की के एक पैर का जूता मिलता है.
Bhumika Chheda

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/11/crime-patrol-6-year-old-boy-killed-to.html

Search Tags: Vikky,Rajdeep,Puneet Channa,Gulshan Panday,Dalpreet,Rachna,Sushant Saini,Lakhbeer,Sangrur,Sehaj Singh,Jaspreet Kaur,Amandip Singh,Narvair Singh,Fateh Singh

Read More

Posted On: Tuesday, November 18, 2014

Shootout: Jamshedpur serial murders and shootouts (Episode 433, 434 on 15th, 16th November 2014)




City is under terror of sudden shootouts. Four people are involved in this and are not traceable by police. Only wealthy persons are their target and most strange thing, that they runs away immediately after firing without taking any of victim’s belongings. 2 are already dead in these shootouts and police is completely failed in tracing them.

Balraj is one out of these 4. While he is at home often he stands in front of a mirror and starts talking to himself. A day while he is sitting in a hotel with his companions, a senior police officer comes to him and gives him some money. After few days police get an unknown call from a lady that one of the shootout gang is one of you. Her hint is about a policeman but police is still unable to understand who that can be!

JAMSHEDPUR July 27, 2014
शहर में अँधाधुंध शूटआउट हो रहे हैं. चार आदमी हैं जो इसको अंजाम दे रहे हैं मगर पुलिस इनकी पहुच से बहुत दूर है. ये चार लोग किसी न किसी बड़े अमीर आदमी को ही निशाना बनाते हैं और कमाल की बात ये हैं की सिर्फ गोलियां बरसा कर भाग जाते हैं. इनके शूटआउट में 2 लोगों की मृत्यु भी हो चुकी है. पुलिस हर तरह से इनकों खोजने की कोशिश कर रही है मगर कोई मार्ग नज़र नहीं आरहा है. इन चारों में से एक बलराज अक्सक अपने घर में आईने के सामने खड़े होकर अपने आप से ही बात करता रहता है. एक दिन बलराज अपने बाकी साथियों के साथ बैठा है तभी पुलिस का एक सीनियर ऑफिसर वहां से गुज़रते हुए उसको कुछ रूपए थमा जाता है.

कुछ दिन बाद पुलिस को एक गुमनाम फ़ोन आता है, फ़ोन पे औरत बोलती है की शूटआउट करने वाला आप में से ही कोई है. उसका इशारा पुलिस की तरफ है मगर पुलिस अब भी ये समझने में नाकाम है की ये कौन हो सकता है.

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/11/crime-patrol-psychopathic-killer.html


Read More

Posted On: Friday, November 14, 2014

Unbridled Desires: Vinayak kills mother, wife and daughter (Episode 432 on 14th November 2014)


Unbridled Desires
बेलगाम ख्वाहिशें


Team leader in a Call Center Vinayak Shinde is father of a cute daughter and liv with his wife and mother. All the members of the family are very happy with their life including Vinayak. A day I suddenly meets him very old friend. His friend tell him that he has his own work then while he is leaving Vinayak looks at his car which is very costly and big. Now Vinayak is curious how he managed it. Vinayak asks him what does he do so he is managing this big vehicle, his friend explains him that he invests money in share market and earns from there. He tell Vinayak that he is doing well.

He gives him a number of a stockbroker and also explains to him how to invest and earn from the share market. Now Vinayak also starts investing money in share market. He earns well in few months so now he decides to quit from his job. After he quits, he is totally dependent on the share market. He also gifts a scooty to his wife and buys a big new car.

After 2 years share market falls badly and Vinayak loses a huge amount.

Accused Sagar Madhav Gaikwad
विनायक शिंदे एक कॉल सेंटर में टीम लीडर है. उसके घर में उसके अलावा उसकी पत्नी, माँ और एक छोटी बेटी रहते हैं. अपने छोटे से परिवार में काफी खुश है. एक दिन वो अपने एक बहुत पुराने दोस्त से मिलता है. उसका दोस्त बताता है की उसका खुद का काम-धंधा है. फिर वो विनायक को अपनी कार में ले ले जाता है जो की एक बहुत ही महंगी कार होती है. विनायक के अन्दर उत्सुकता जगती है की वो आखिर ऐसा कौन सा छोटा सा काम काम करता है जिससे वो इतनी मेहेंगी कार खरीद सका है! उसका दोस्त बताता है की वो शेयर मार्किट में पैसा लगता है और उसी की बदौलत वो अच्छा कमा-खा रहा है.
विनायक उससे पूछता है की शेयर मार्किट में पैसे लगाने और कमाने का तरीका क्या होता है वो उसका दोस्त उसे एक स्टॉक ब्रोकर का नंबर देता है. विनायक भी खुद ही घर से शेयर मार्किट में पैसा लगाना शुरू कर देता है. वो कुछ ही महीनो में काफी अच्छी कमाई कर लेता है और इसके बाद वो अपनी नौकरी से इस्तीफ़ा दे देता है. विनायक अब पूरी तरह से शेयर परकेत पर ही निर्भर हो जाता है. इस सबके बाद वो अपनी पत्नी को स्कूटी गिफ्ट करता है और एक मंहगी कार भी खरीद लेता है. मगर करीब 2 साल बाद शेयर मार्किट में अचानक मंदी आती है और विनायक को लाखों का नुक्सान होना शुरू हो जाता है.

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/12/crime-patrol-shocking-unable-to-pay-rs.html



Read More

Posted On: Wednesday, November 12, 2014

Parkstreet Kolkata Gang Rape Case: Vicitim Suzette Jordan revealed her identity




कोलकाता पार्क स्ट्रीट सामूहिक बलात्कार पीड़ित सुज़ैट जॉर्डन का 13 मार्च, 2015 निधन हो गया. 40 वर्षीय सुज़ैट दो बेटियों की एक माँ थी जो कि पिछले तीन दिनों से अस्पताल में थी. वह मेनिंगो-एन-सेफेलाइटिस नाम की बीमारी से पीड़ित थी.

मेनिंगो-एन-सेफेलाइटिस अक्सर वायरल संक्रमण से बल्कि अन्य रोगजनक जीवों द्वारा और कभी-कभी अन्य स्थितियों, जैसे जहर, ऑटोइम्यून विकार की वजह से मस्तिष्क पैरेन्काइमा की सूजन की बीमारी है

40 year old Kolkata Park Street Gang Rape victim Suzette Jordan passed away on March 13, 2015. A single mother of two daughters was in the hospital from last three days. She dies of a disease called Meningoencephalitis.

Meningoencephalitis is inflammation of the brain parenchyma, often caused by viral infections but also by other pathogenic organisms and occasionally by other conditions, eg toxins, autoimmune disorders.

फ़रवरी 2012 की उस रात ​सुज़ैट जॉर्डन ​अपनी कुछ दोस्तों के साथ कोलकाता के एक फाइव स्टार होटल के एक नाईट क्लब में गई थी, और उसी रात उसको एक कार से निचे फेक दिया गया. वो घायल थी, उसकी हालत ख़राब थी, उसके कपडे फटे हुए थे. मगर जल्दी ही उसके साथ हुई ये वीभत्स घटना ने राजनीतिक रूप ले लिया. यहाँ तक की बंगाल के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ये तक कह डाला की ये एक झूठी, मनघडंत घटना है. मंत्रियों ने कार्यवाही करने के बजाये जॉर्डन के चरित्र पर ऊँगली उठाना शुरू कर दिया. उनके हिसाब से जॉर्डन कैसी माँ है जो आधी रात को घर से बाहर थी.… !!


​करीब पंद्रह महीने तक जॉर्डन एक परछाई के रूप में जानी गई जिसका कोई नाम नहीं था और जिसको हर कोई पार्क स्ट्रीट पीड़िता के नाम से ही जानता था. मगर वो लोग जो उसके करीबी थे उसकी परछाई से भी उसे पहचान सकते थे की असल में वो कौन है. "मेरे कर्ली बाल भी मेरी पहचान थे. कभी राह चलते कोई अजनबी मिलता था तो मेरे बालों से मुझे पहचान कर पूछता था 'तुम पार्क स्ट्रीट वाली पीड़िता हो?' मै घबरा जाती थी. ऐसा लगने लगा था की मेरा खुद का अस्तित्व खत्म होता जा रहा है.", जॉर्डन बताती है.

"आखिरकार एक दिन मैंने ये फैसला किया की बहुत हो गया. मेरे साथ बुरा हुआ, बहुत बुरा हुआ मगर मै अभी ज़िंदा हूँ और लड़ना चाहती हूँ. मै जैसी हूँ वैसे ही लड़ूंगी, न की किसी धुंधली परछाई में रह कर."

ये उसी घटना के दोहरने जैसा था
पार्क स्ट्रीट पीड़िता से वापस सुज़ैट जॉर्डन बनना और भी ज़्यादा घातक था. जॉर्डन याद करती है "घटना के कुछ दिन बाद की हालत जब उसे बिस्तर से उठ कर टॉयलेट तक जाने में अपने पापा का सहारा लेना पड़ता था. मै 37 साल की थी और ये सब मुझे और लज्जित करता था."


वो वही त्रासदी फिर से याद करती है जब वो इस घटना ऍफ़.आई.आर. दर्ज करवाने गयी थी और पुलिस स्टेशन में सिर्फ पुरुष कर्मचारी ही थे. "वो मेरे ऊपर हंस रहे थे. उन्होंने मेरे साथ घटी घटना को गंभीरता से नहीं लिया." वो याद करती है की एक पुलिस वाला जो उस पर कसीदे कस रहा था जॉर्डन के बियर पीने और डिस्को में जाने को लेकर. जॉर्डन का दिल दहल जाता है जब वो उसके साथ हुए मेडिकल टेस्ट्स के बारे सोचती है. बिना कपड़ो के खड़ा रहना, जख्मों का छुआ जाना, तरह तरह के टेस्टस झेलना और स्वेब टेस्टिंग.

वो जब कभी भी ऐसी ही किसी घटना के बारे में सुनती है तो उसे आपबीती याद आ जाती है. "ये सब मुझे पागल कर जाता है. मै दर्द से बुरी तरह से कराह रही थी. ऐसी बेहोशी सी हालत थी की मै अपना शरीर हिला ही नहीं पा रही थी."

"जानने वाले और अजनबी सभी के एक जैसे विचार थे मुझे लेकर. नेताओं ने तो मुझे पेशवर बोल डाला. मुझे ये तक कहा गया कि ये घटना फिक्स थी जो की किसी गलतीवश गतल दिशा में चली गयी." जॉर्डन के केस की तुलना निर्भया के केस के साथ उलटी तरह से करी गयी- बैड विक्टिम vs गुड विक्टिम. मेरी बेटी जब सुबह स्कूल के लिए निकलती थी तो कुछलोग उसे घूरते हुए भद्दे कमेंट करते थे."

चरित्र को लेकर भद्दी टिप्पणिया
"मै 11 साल से सिंगल मदर हूँ. बजाये इसके की लोग मेरे द्वारा निभाए गए माँ और बाप की ज़िम्मेदारी को लेकर लोग मेरी प्रशंसा करें, लोग मुझे कलंक कहते हैं. ओह, वो सिंगल मदर हैं...!! उसके पति ने उसको छोड़ दिया! वो सच में ही पेशेवर होगी." जॉर्डन का कहना है की लोगों को खुद पता नहीं होता की वो क्या बोल रहे हैं. "आप मुझे पेशेवर कह रहे हो जबकि आप मुझे जानते भी नहीं हो."

जॉर्डन का अपनी पहचान को सबके सामने लाने का निर्णय उसके ट्रायल में तेजी लाने जैसा था. "एक वकील ने बोला की मै न्यायलय की पवित्रता को भंग कर रही हूँ. मगर जब कोर्ट के दरवाज़े खुलते हैं, जब दोषी की पूरी फॅमिली बाहर होती है और वो लोग मेरी फोटो अपने मोबाइल से खीचते हैं तब मेरी पवित्रता भंग नहीं होती?"

इस घटना के बाद जॉर्डन की फॅमिली ही उसका कवच बनी रही. उसकी छोटी से बेटी ने ही उसको साहस बंधाया की ये मत सोचो की दुनिया क्या कह रही है. उसकी 76 की दादी ने उसको प्रोत्साहन दिया की वो पुलिस में कंप्लेंन करे और एन.जी.ओ स्वयं ने उसका साथ दिया. मगर ऐसी परिस्थितियों में भावुकता का साथ भी कम पड़ता है.

जॉर्डन जब भी किसी इंटरव्यू के लिए जाती है और जब इंटरव्यू लेने वाला उसके सीवी में NGO का रिफरेन्स देखता है तो वापस दोबारा कॉल नहीं करता है. "आजतक कभी किसी ने मुझे दोबारा कॉल ही नहीं किया", जॉर्डन बताती है. "क्या मै कोई काम नहीं कर सकती? क्या मुझे कुछ नहीं आता है? सिर्फ इस वजह से की मै उस रात नाईट क्लब में गई थी? अगर नाईट क्लब इतने बुरे होते हैं तो उनको बंद कर दो! मैंने कितनी एंटी-डिप्रेशन और स्लीपिंग पिल्स लेना शुरू कर दिया था. हर रात भयावह सपने लेकर आती थी. मै नीद से चिल्ला कर उठ जाती थी. मै अपना ही नुकसान कर रही थी इतनी दवाएं खा कर. अगर मेरे माँ-बाप न होते, अगर मेरे बच्चे मेरा साथ न देते तो मै मर ही जाती."

वापस कोई नहीं पूछता
महिला कार्यकर्ता संतश्री चौधरी ने भी कोशिश करी की जॉर्डन को नौकरी दिलवा सके. उनके अनुसार, "मेरे जो भी कॉन्टेक्ट्स हैं कोलकाता में उसके बाद किसी की नौकरी लगवाना मेरे लिए नहीं बड़ी बात नहीं है. महिला कार्यकर्ता के रूप में मुझे 20 साल हो चुके हैं. मै महिलाओं का सशक्तिकरण करती हूँ उन्हें नौकरी दिलवा कर." उन्होंने कभी भी जॉर्डन की पहचान को किसी से छिपाया नहीं और शायद यही वजह थी की किसी भी कंपनी ने उसे दोबारा कॉल नहीं किया. "वो सभी कहते हैं की वो जॉर्डन को कॉल करेंगे. हमलोग इंतज़ार करते हैं की जॉर्डन को कॉल आयेगी मगर नहीं. कहने को ये लोग मेरे बहुत अच्छे दोस्त हैं."


आखिरकार चौधरी ने जॉर्डन को एक हेल्पलाइन Surviver For Victims of Social Injustice के लिए नियुक्त किया. उसकी सैलरी मामूली सी है. "मुझे अभी भी इंतज़ार है की सुज़ैट कोई कॉल मिलेगी जिससे उसे 60,000/- तक की तनखा मिलेगी क्यों वो इसके योग्य है." चौधरी का ये भी कहना है की वो चाहती तो जॉर्डन के लिए एक चैरिटी भी कर सकती थी जिसमे अपने हर जानने वाले से वो 1000/- तक ले सकती थी मगर उन्हें जॉर्डन को काम पे लगाना ज्यादा उचित लगा. अब उनके अनुसार जॉर्डन अच्छा काम कर रही है और लोगों की मदद कर रही है.

कुछ महीनो पहले बरसात के काम्धुनी नाम के एक गाँव का एक 20 साल का लड़की जो की अपने अपने कॉलेज से घर जा रही थी, एक गैंग के द्वारा अटैक का शिकार हुई. बाद में उसकी मृत्यु भी हो गई. जॉर्डन वहां चौधरी के साथ पीड़ित के परिवार से मिलने गयी थी मगर वो उस युवक की माँ से बात करने की हिम्मत नहीं जुटा पाई. कुछ दिन बाद महिला कार्यकर्ताओं द्वारा प्रोटेस्ट किया गया जिसमे चौधरी के कहने पर जॉर्डन ने भी हिस्सा लिया.

चौधरी कहती हैं, "मैंने उसको बोला की तुम्हे रोज़ घर से सुज़ैट की तरह निकलना चाहिए न की एक पीडिता की तरह. तुम एक मिसाल हो न की एक पीड़िता. जिन्होंने ये सब किया उनको छिपना चाहिए न की तुम्हे." इस प्रोटेस्ट के दौरान ही जॉर्डन सबके सामने खुल कर आई थी. जॉर्डन उस दिन 300-400 महिलाओं के साथ प्रोटेस्ट पे थी जिनमे से ज़्यादातर उसकी कहानी पहले से जानती थी और ये सब में और भी जोश ला रहा था."मुझे ऐसा लग रहा था की मुझसे कहीं ज्यादा जॉर्डन तैयार है. हम जब पार्क स्ट्रीट से निकले और जब जॉर्डन ने कहा 'हल्ला बोल', ऐसा लगा कुछ अलग ही प्रतीत हो रहा है", चौधरी बताती हैं.

जॉर्डन अब जिंदगी को साधारण रूप से जीने की कोशिश कर रही है. वो ज़िन्दगी की छोटी छोटी खुशियों से फिर के काफी कुछ सीख रही है. परिवार के लिए खाना बनाना, अपनी प्यारी सी बिल्ली के साथ खेलना और अपने पौधों की देखभाल करना उसे अब अच्छा लगता है. जॉर्डन कहती है, "मुझे डिस्को अच्छे लगते हैं. मुझे डांस अच्छा लगता है मगर मै उस दिन के बाद से कभी भी वहां वापस नहीं गई. मेरा मन करता है की मै पार्टी में जाऊं, वैसे ही ड्रेसअप होने का मन करता है मगर बहुत डर लगता है."


ये पूछने पर की क्या वो चाहती है की जिन नेताओं ने उसको लेकर भद्दी बातें करी थी वो माफ़ी मांगे, जॉर्डन कहती है की उसे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. "मेरे मन में उन लोगों के लिए कोई द्वेष नहीं है. मुझे नहीं पता उन्होंने क्या सोच कर ये सब बोला. वो अगर मुझसे माफ़ी मांगना भी चाहते हैं तो मुझे न्याय दिलवाने में मेरी मदद करे. मेरी न सही, मगर हर वो औरत जो मेरे जैसे हालातों से गुज़रती है उसको न्याय दिलाएं".

रेस्टोरेंट में जाने से रोका गया 
सितम्बर, 2014 में सुज़ैट के साथ एक और चौकाने वाली घटना घटी जब उसे कोलकाता के एक मशहूर रेस्टोरेंट में इस वजह से जाने से रोक दिया क्यों की बैंक मैनेजर ने उसे पहचान लिया था की वो पार्क स्ट्रीट केस वाली पीड़िता है. दूसरी तरफ रेस्टोरेंट के मैनेजर दीप्तेन बनर्जी का कहना ये था की उसने जॉर्डन को इस वजह से मना किया क्यों की उसके रेस्टोरेंट में आने से रेस्टोरेंट में हलचल मच सकती थी. मैनेजर के अनुसार सुज़ैट पहले भी अलग अलग लोगों के साथ वहां जा चुकी थी और काफी हंगामा कर चुकी थी और उसके पास इसकी वीडियो फुटेज भी है तभी उसने जॉर्डन को अंदर आने से मना कर दिया. दूसरी तरफ जॉर्डन का कहना ये था की मैनेजर की बातें झूठ हैं , वो पहले सिर्फ एक बार ही इस रेस्टोरेंट में आई है.

जॉर्डन ने अपने साथ हुए इस वीभत्स हादसे को आमिर खान के शो सत्यमेव जयते में भी व्यक्त किया था.

क्राइम पेट्रोल द्वारा ये केस प्रस्तुत किया है. देखने के लिए इस पोस्ट पर जाए:
http://crimepatroldastak.blogspot.com/2012/07/crime-patrol-dastak-37-year-old-rita.html

Read More

Posted On: Saturday, November 8, 2014

Double Corssed: Businessman Vijay Bakshi's body found inside Bed Box (Episode 430, 431 on 8th & 9th Nov 2014)


Double Crossed
डबल क्रॉस्ड


Foul smell is coming out of a society flat from last two days in Ghaziabad UP. A man living near that flats informs police about this. He tells them that owner of the flat lives somewhere outside India and this flat was given on rent through a broker Jagdish.

Police call broker and he tells that he allotted that flat to a man named Arvind Shukla on rent. He arranges the key of the flat to the police. Entering the flat police finds the dead body of an aged man inside a bed-box. Police send decease's photo to broker Jagdish but he confirms that this body is not Arvind Shukla. Police call Arvind Shukla but his number is switched off. Though it is a blind murder case, police publish deceased photos to newspaper for identification.

A lady in Mumbai named Sunita identifies the body. She calls her friend Kavita Sharma that police found dead body of Vijay Bakshi. Kavita Sharma is divorced wife of Vijay Bakshi who got divorced 2 years before. She lives with his daughter Archana (played by Shriya Popat) and runs a Gift Shop in Mumbai. Neither Sunita nor Kavita calls to police that they know the person who died. Daughter Archana also does not take an interest in the matter.

Later police get a call from a property consultant Sandeep Ahuja who informs the police that he knows whose body is that. He tells them that deceased Vijay Bakshi was a wealthy businessman and they have worked together for 4-5 months. Through Ahuja police reach Kavita also but she directly denies of taking any responsibility of the case. She also tells that she didn't even take any compensation from Bakshi while getting a divorce. Police tell Kavita that her daughter Archana is nominated in most of the properties of Bakshi.

Further investigation reveals that this murder was conspired by Arvind Shukla, Shoaib, Ejaaz, Satish Gupta and a call girl Rupali Sethi...
Anuj Nayak, Gulshan Panday, kajal sharma, Pawan Chopra, Raaj Singh, Rutwij Vaidya, Sandeep Ahuja, Satish Gupta, Sharat Sonu, Shriya Popat, sohail, Soni Kiran, sunita, Urvashi Sharma, uttar pradesh, Vijay Bakshi,
Shriya Popat

गाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश के एक सोसाइटी फ्लैट से किसी चीज की सड़ने की दुर्गन्ध आ रही है. उसी फ्लैट के पास वाले फ्लैट का एक निवासी पुलिस को फ़ोन कर के बताता है की उसके पास के फ्लैट से पिछले 2 दिन से बदबू आरही है. वो पुलिस को बताता है की फ्लैट का मालिक तो विदेश में रहता है मगर फ्लैट एक ब्रोकर जगदीश ने किराए पर किसी को दिलवाया था.

पुलिस ब्रोकर को कॉल करती है तो वो बताता है की वो फ्लैट अरविन्द शुक्ला नाम के एक शख्स को उसने किराये पर दिलवाया था. वो पुलिस तक उस फ्लैट की चाभी पहुचवाता है. अन्दर जाने पर पुलिस को एक डबलबेड के अन्दर एक आदमी की लाश मिलती है. ब्रोकर बोलता है की ये लाश अरविन्द शुक्ला की नहीं है. पुलिस अरविन्द शुक्ला को फ़ोन लगाती है मगर उसका फ़ोन स्विचऑफ है. फ़िलहाल पुलिस के लिए ये लाश लावारिस है सो वो उसकी फोटो न्यूज़ पेपर्स में देते हैं.

मुंबई में रहने वाली कविता शर्मा की दोस्त सुनीता उस फोटो को पहचान लेती है और कविता को फ़ोन कर के बताती है की विजय बख्शी की लाश मिली है पुलिस को. कविता शर्मा विजय बख्शी की तलाकशुदा पत्नी है जिनका दो साल पहले तलाक हुआ था. कविता अपनी बेटी अर्चना के साथ रहती है और एक गिफ्ट शॉप चलाती है. कविता ये खबर मिलने के बाद भी पुलिस को कॉल नहीं करती है और अपनी बेटी को बताती है की उसके पिता की मौत हो गई है. बेटी अर्चना भी इसमें कोई इंटरेस्ट नहीं लेती है और कहती है की जो शख्स उनके लिए पहले से ही मारा हुआ है उसका जीने या मरने से उसे कोई फर्क नहीं पड़ता.

इसके बाद पुलिस को संदीप आहूजा नाम के एक प्रॉपर्टी कंसलटेंट का फ़ोन जाता है जो बताता है की वो इस लाश को पहचानता है, ये विजय बख्शी की लाश है, वो पुलिस को बताता है विजय बख्शी एक बहुत पैसे वाला प्रॉपर्टी कंसलटेंट है और उसने कुछ 4-5 महीने बख्शी के साथ काम किया हुआ है इसलिए वो उसे पहचानता है. आहूजा के माध्यम से पुलिस कविता तक भी पहुचती है मगर कविता साफ़ मन करती है की पिछले 2 साल से उसका बख्शी से कोई ताल्लुक नहीं है, यहाँ तक की उसने तलाक लेते टाइम किसी तरह की कोई अल्लुम्नी भी नहीं मांगी थी. पुलिस कविता को बताती है की बख्शी ने अपनी ज़्यादातर प्रॉपर्टी में उनकी बेटी अर्चना को नॉमनी बनाया हुआ था.

पुलिस तफ्तीश आगे बढती है तो पता चलता है की इस साजिश में अरविंद शुक्ला के अलावा एजाज़, सतीश गुप्ता और रुपाली नाम की एक कॉल गर्ल संलिप्त है.......

YouTube:
Part 1: https://www.youtube.com/watch?v=iIsN6vESxTU
Part 2: https://www.youtube.com/watch?v=twfgrXldIDM

SonyLiv:
Part 1: www.sonyliv.com...Ep-430---Double-Crossed---1
Part 2: www.sonyliv.com...Ep-431---Double-Crossed---2

Here is the inside story of the case....
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/11/crime-patrol-70-year-olds-body-found-in.html
Search Tags: K K Chopra, Rocky, Tughlaqabad, Rajan, Govindpuri, Bareilly, Komal, Arif, DDA Flat, Kalka Ji, ATM, PIN, Archana, Arvind Shukla, Ejaz, Bakshi

Read More