Posted On: Sunday, May 25, 2014

Kings and Pawns: Supari killing of Country Liquor Don Anand Pillai (Episode 372, 373, 374 on 23rd, 24th & 25th May 2014)


Kings and Pawns
बादशाह और प्यादे



During 1972, Anand Pillai (played by Kannan Arunachalam) was a watch mechanic and Venkatesh Nayar (played by Navin Tyagi) was his best friend. He was attracted by the trucks moving around a country liquor shop. Courageous Anand talks to the owner of the shop Shashidharan. Shashidharan likes him and gives him a job at her shop.

Time flows and Shashidharan announces himself retired and gives entire responsibility to Anand. Anand Pillai is now a key holder of the business. Anand gets marry to Parvati and later he blessed with three sons Govind, Arvind and Vasudev. Being a big don of the area he has become an arrogant person. He fights with Venkat after which Venkat decides to do business alone.

After a few years, a few more persons come to the same business. One is Kasim Kureshi and another one is Jacob Kuruville. To teach them a lesson, Anand sends two of his guys to join Kasim and Jacob's business. Finally, Anand succeeds in throwing them out of their area. Now he worrying after seeing Venkat's growing business.

Anand's eldest son Govind leaves his business because he has been targeted by enemies of her father Anand. He joins Kasim and Anand is really shocked to know this. Later Govind comes back to her father.

2006
Anand's youngest son Vasudevan is about to get marry and in this marriage Anand want to invite all of his earlier fellows. Kasim, Venkat and Jacob attends the marriage. After one week of marriage four persons comes to Anand's home and kills him.
Kanan Arunachalam and Naveen Tyagi

सन 1972,
आनंद पिल्लई एक घड़ी मकैनिक था. वेंकटेश नायर आनंद का सबसे करीबी दोस्त था. गाँव के एक देशी शराब के ठेके के बहार आने वाली गाड़ियाँ आनंद को आकर्षित करती थी. हिम्मत कर के आनंद उस ठेके के मालिक शशिधरन से नौकरी के लिए बोलता है. शशिधरन को उसका आत्मविश्वास पसंद आता है और वो उसके अपने ठेके पर नौकरी दे देता है.

शशिधरन का विश्वास हासिल कर के वो शशिधरन का पूरा कारोबार सँभालने लगता है. समय बीतता है और आनंद पिल्लई की शादी पार्वती से होती है. अब आनंद के तीन बेटे हैं, गोविन्द, अरविन्द और वासुदेव. सारा कारोबार पाने के बाद आनंद काफी घमंडी भी हो जाता है और अपने सबसे जिगरी दोस्त वेंकट से भी झगडा कर लेता है.
Accused Santosh Kumar
or
Venkat Nayar

साल बीतते हैं और इस धंधे में और भी खिलाडी उतारते हैं. एक का नाम है कासिम कुरैशी और दूसरा है जैकब कुरुविल्ले. आनंद से ये प्रतिस्पर्धा सही नहीं जाती और वो अपने ख़ास आदमियों को उन दोनों के गिरोह में भेजता है मुखबिरी के लिए. आनंद जैकब और कासिम को अपने एरिया से निकलने में सफल होता है मगर वेंकट, जो की अपना कारोबार खुद शुरू कर चुका है, उसकी उन्नति देख कर आनंद चिंता में है.

आनंद का बड़ा बेटा गोविन्द आनंद से अलग हो जाता है क्यों की उस पर उसके पिता की दुश्मनियों को लेकर हमला हो चुका है. मगर आनंद को चौकाने वाली बात ये पता चलती है की गोविन्द ने कासिम के साथ काम करना शुरू कर दिया है मगर बाद में वो वापस भी आ जाता है.

सन 2006,
आनंद पिल्लई के छोटे बेटे वासुदेवन की शादी का समय आता है. वो इस शादी में अपने पुराने प्रतिद्वंदियों को भी बुलाता है. आनंद वेंकटेश नायर. कासिम कुरैशी, जैकब कुरुविल्ले की तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ाना चाहता है मगर इसी दौरान शादी के माहोल में एक सुपारी हत्या का साया भी मंडराता है. शादी के एक हफ्ते बाद चार हत्यारे आनंद पिल्लई के घर पहुच कर उसपर 6 गोलियां दागते हैं. आनंद की तुरंत मौत हो जाती है.

आनंद पिल्लई की हत्या उसी दिन (6 अप्रैल, 2006) हुई थी जिस दिन कोच्ची में भारत और इंग्लैंड का वन डे इंटरनेशनल क्रिकेट मैच था. इस हत्या की वजह से पुलिस की सरगर्मी और ज्यादा बढ़ गई थी उस एरिया में.

Anand Pillai - V A Mohan aka Mithila Mohan
Venkat Nayar - Santosh Kumar
Adiraj - Sadanandam
Nagarajan - Thampi
Jacob - Martin
Kasim - Rafi
Govind - Manoj
Supari Killers - Pandayan, Madivanan and Uppali from Tamilnadu

The police have interrogated around 110 witnesses in the case.

YouTube:
Part 1: https://www.youtube.com/watch?v=I1RCXhn2cQ8
Part 2: https://www.youtube.com/watch?v=WiSASajOZQk
Part 3: http://www.youtube.com/watch?v=zRwDBad145w

SonyLiv:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-372-may-23-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-373-may-24-2014
Part 3: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-374-may-25-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/05/mithila-mohan-murder-case-cracked-after.html



Search Tags: Kochi, V A Mohanan, Mithila Mohan, Santhosh Kumar, Thrissur, murder case solved after seven years, April 6, 2006, Kaloor, Driver Anwar, Crime Branch, Kannan, Thampi, Martin, Sadanandam, Rafi, Thiruvananthapuram, Manoj, Maneesh, Mohan Raj, murder,

Read More

Posted On: Monday, May 19, 2014

The Missing Family: Kanchan goes missing with her two daughters (Episode 370, 372 on 17th 18th May 2014)

The Missing Family
एक लापता परिवार


कंचन एक विधवा है जिसके पति का देहांत पांच साल पहले हो गया था. वो अपनी बेटियों स्वाति और नीना के साथ वेस्ट बंगाल रहती है. उसके पिता उत्तर प्रदेश में परेशान हैं क्योँ की 2 दिन से उसकी उसके पिता से कोई बात नहीं हो पा रही है क्यों की कंचन का मोबाइल बंद है. वो फ़ोन पर कंचन के मिस्सिंग होने की कम्प्लेन पुलिस को करते हैं मगर पुलिस उनपर दबाव डालती है की उन्हें वहां पहुच कर ही शिकायत दर्ज करनी होगी.

कंचन के पिता अपने बेटे के साथ बंगाल पहुचते हैं. वो पुलिस को बताते हैं की कंचन को हामिद नाम का एक आदमी परेशान कर रहा था. कंचन से उससे ही buy-and-rent system के तहत मकान ख़रीदा था जिसमे उसने 15 लाख रुपये एडवांस दिए थे और अगले 2 साल तक उसे 2000 किराया हामिद को देते रहना था. ये प्रथा सिर्फ उसी एरिया में पाई जाती है. हामिद ने कंचन को ये भी बोला था की मकान जब उसे दुबारा बेचना हो तो वो पहले प्रार्थमिकता हामिद को ही देगी. अब हामिद उस मकान को वापस 40 लाख में खरीदना चाहता था मगर कंचन उसे बेच नहीं रही थी क्यों की उसे मकान की और ज्यादा कीमत मिल रही थी.

कंचन के पिता को शक है की हामिद को ही पता है की कंचन कहाँ गायब है. पुलिस हामिद से पूछताछ करती है. हामिद अपने साथ वहां के लोकल MLA को लेकर आता है. वो लोग पुलिस को ये समझा देते हैं की कंचन अपनी दोनों बेटियों के साथ एक ड्राईवर राजू के साथ भाग गई है. पुलिस यही बात बार बार कंचन के पिता और भाई से बोल कर मामले को रफादफा करने की फ़िराक में है मगर कंचन के पिता वहां के DCP से मिलते हैं जो इस मामले को क्राइम ब्रांच को सौप देते हैं.

Kanchan is a widow who lives with her daughters Swati and Neena in West Bengal, while his father lives in Uttar Pradesh. Kanchan's father was passed away five years back so she alone is taking responsibility of her daughters.

Kanchan's father is worring because he is not able to connect with her from last 2 days. Kanchan's mobile is swiched off. He calls Kanchan's local police and try to file a complain on phone but police says that he has to come Bengal to raise complain.

He reaches Bengal and tells police that a man named Hamid was sterring Kanchan. The home in which kanchan was living with her daughters was baught under a unique buy-and-rent system in which he gave 15 lac rupees to Hamid and had to pay 2000/- every month till next 2 years as rent. Hamid also told her that after 2 years if she wants to buy the property, she will first prefer Hamid for the buyback. Now Hamid was willing to buy the home in 40 lac but Kanchan was trying to sell it to someone else in more than 40 lac.

Kanchan's father is telling police that Hamid knows where her daughter's family is missing. Police calls Hamid for investigation and Hamid reaches there with local MLA. They tells police that Kanchan was having affair with a driver Raju and she flees with him only. Police is now trying to dismiss the case by telling same thing to Kanchan's father but Kanchan's father meet DCP and DCP orders crime branch to investigate the case.

YouTube:
Part 1: http://youtu.be/sF4kBnxgcKs
Part 2: http://youtu.be/BY_OxeGTq50

SonyLiv:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-370-may-17-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-371-may-18-2014

Below is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/05/crime-patrol-missing-woman-daughters.html


Other keywords: a missing family, kanchan is missing with two daughters, a missing family india, lady goes missing in property dispute, Pushpa Singh, Pradipti Singh, Aradhana Singh, Sikandar, Kolkata, Ghazipur, Uttar Pradesh, Ekbalpur, Iqbalpur, Mohd Amin, Mohd Hamza, woman with daughter killed for property


Read More

Posted On: Saturday, May 17, 2014

Inheritance: A family land disputes ended with 6 murders (Episode 369 on 16th May 2014)

Inheritance
उत्तराधिकारी


Father of Arjun and Raju Chauhan gives his fertilized land to their mother becuase his both sons does not do anything and the is scared that if he gave his land to them, they will sell it. Both boys are very angry on it. After their father expires, for their mother it is very hard to manage home. She puts the land on pledge and gets some money. After some times she is not able to get back her land so she decides to sell it.

Arjun and Raju are not agree with this and they kills their mother for land. They spents few months in jail then they comes out on bail. They still have no work so elder brother Arjun asks Raju to get some work in Lucknow. Raju travels to Lucknow and works as a daily wage earner while Arjun stays in the village and taking care of their land.

Time spents and Raju starts realizing that Arjun is making him fool. In the meantime Arjun sells Raju's land without asking him.

Based on May, 2013 case of Bulandshahar, Uttar Pradesh.

अर्जुन चौहान और राजू चौहान भाई हैं जिनके पिता मरते समय अपने खेत अपनी पत्नी के नाम लिख जाते हैं. वो खेत पत्नी के नाम इसलिए लिख जाते हैं क्यों की उन्हें डर है की उनके निकम्मे लड़के खेत को बेच देंगे. इस बात से दोनों लड़के बहुत क्रोधित हैं. कोई काम धाम न होने की वजह से घर का खर्चा किसी तरह से चल रहा है. तंगी के कारण उनकी माँ खेत का एक हिस्सा गिरवी रख कर कुछ पैसे जमा करती है.

बाद में वो उस हिस्से को बेचना चाहती है क्यों की उसके पास खेत बचाने को रुपये नहीं हैं. अर्जुन और राजू उसको ऐसा नहीं करने देते हैं और अपनी माँ का सरेआम खून कर देते हैं. दोनों को जेल होती है मगर दोनों जमानत पर एक के बाद एक बाहर आ जाते हैं. दोनों के पास अब भी कोई काम नहीं है सो बड़ा भाई अर्जुन राजू को लखनऊ जाकर कमाई-धमाई करने को बोलता है और खुद गाँव में रह कर खेती बाड़ी करता है.

धीरे धीरे राजू को ये आभास होता है की उसका बड़ा भाई उसको धोखा दे रहा है. इसी बीच अर्जुन राजू के हिस्से का खेत उससे बिना पूछे बेच देता है.

SonyLiv: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-369-may-16-2014

YouTube: https://www.youtube.com/watch?v=hCeq_QXBlwM

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/05/crime-patrol-5-dead-as-man-goes-on.html



Read More

Posted On: Monday, May 12, 2014

Kaleidoscope: Minor girl Farah forced to marry with maternal brother Nasir by her mother Fauzia (Episode 358, 359 on 10th, 11th May 2014)

KALEIDOSCOPE
कलाईडोस्कोप
(एक जटिल परिस्थिति)


Delhi, 2008
Farah is a minor girl who is born and brought up in a slum area of Delhi. She starts taking study classes with the help of a volunteer group who is under supervision of Prithivi (played by Jatin Shah). Other than Prithvi Vineet, Ajit, Prachi are also members of this group who helps kids like Farah.

Suhasini Das (real name Linkan Subudhi) is girl from Bhubaneswar (Odisha) who gets a job offer from Delhi. She comes to Delhi to join the company. She is very happy and enjoying hi-tech and advance life of Delhi. But she is also willing to do something big in her life with the job.

His colleague Vineet brings her to his volunteer group. Suhasini is happy to see all activities by them and joins them in teaching poor people. Later Prithvi gets job transfer to Chandigarh so he makes Suhasini the supervisor of the group. During her work towards this group she gets in touch with Farah, who is a innocent girl seems to have a bright future.

Everything is going well but in 2012 Farah tells Suhasini that her mother Fauzia is forcing her to get marry with her maternal brother Nasir (real name Siraj). She does not want to marry him because she want to study more. She also tells that Fauzia is having relations with Nasir. Suhasini goes to meet Fauzia and his father and tells them not to do this because this is illegal since Farah is minor.

After one week of this matter, Fauzia and his family moves from Delhi. Suhasini gets call from Farah that her mother brought her to her maternal uncle’s home (Nasir’s father) and next day she will get marry with Nasir. She asks for help from Suhasini.

दिल्ली, 2008
दिल्ली के एक स्वयंसेवी संगठन की मदद से फराह नाम की एक बच्ची स्कूल जाना शुरू करती है. ये संगठन कुछ नौकरी पेशा लोगों के द्वारा चलाया जा रहा है. पृथ्वी, विनीत, अजित और प्राची इस संगठन के सदस्य हैं जो की फराह जैसे बच्चों की मदद करते है.

दिल्ली से दूर भुवनेश्वर में रहने वाली सुहासिनी दस को दिल्ली से एक नौकरी का ऑफर आता है. वो दिल्ली आकार वो नौकरी ज्वाइन करती है. वो दिल्ली की हाई-टेक जिंदगी में काफी खुश है. एक दिन उसका साथी विनीत उसे अपने वालंटियर दोस्तों से मिलवाता है जो की उन बच्चों को पढ़ने का काम करते है. सुहासिनी को ये काम बहुत अच्चा लगता है और वो भी ये ग्रुप ज्वाइन कर लेती है. कुछ समय बाद जब पृथ्वी का ट्रान्सफर चंडीगढ़ हो जाता है तो सुहासिनी को इस ग्रुप का सुपरवाइजर बना दिया जाता है.
Real face behind Suhasini - Linkan Subudhi
सबकुछ अच्छा चल रहा है मगर 2012 में फराह सुहासिनी को बताती है की उसकी माँ फौजिया उसकी शादी उसके ममेरे भाई नासिर से करवाना चाहती है. फराह सुहासिनी को ये भी बताती है की नासिर और फौजिया के बीच सम्बन्ध हैं. सुहासिनी इस निकाह का इसका विरोध करती है और फौजिया को ऐसा न करने के लिए बोलती है.

इस बात के एक हफ्ते के अन्दर फौजिया और उसका परिवार दिल्ली से निकल जाते है. फराह सुहासिनी को फ़ोन कर के बताती है की वो इस समय बिहार में उसके मामा यानि नासिर के पिता के यहाँ है और उसकी माँ उसे नासिर से शादी करने के लिए यहाँ लेकर आई है. फराह ये शादी नहीं करना चाहती है और वो अभी आगे पढना चाहती है.

YouTube:
Part 1: http://www.youtube.com/watch?v=sx31UIHkDd0
Part 2: http://www.youtube.com/watch?v=brZsC6E5i14

SonyLiv:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-367-may-10-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-368-may-11-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/05/crime-patrol-6-year-old-girl-in.html


Thank you Deepali Chadha Verma for bringing me real story behind this case. Keep up good work.
Other Tags: Linkan Subudhi, CSC Noida, Software Engineer, IT Company, Siraj, Head Injuries

Read More

Posted On: Saturday, May 10, 2014

Fraud Baba: Godaman Mukund's plan to bring dead minor girl to life (Episode 366 on 9th May 2014)



9 साल की स्मृति को उसके माँ-बाप मुकुंद बाबा को सौंप देते हैं. मुकुंद बाबा एक माना हुआ बाबा है. लोग उसे भगवन का अवतार मानते हैं और स्मृति के माँ-बाप मुकुंद बाबा के प्रचंड भक्त हैं, वो लोग सबको ये नहीं बताते हैं की स्मृति बाबा के पास है. वो सबको बताते हैं की स्मृति अपनी नानी के यहाँ गई है. स्मृति दो भाइयों की अकेली बहन है और उसका एक भाई उससे बड़ा और दूसरा उससे छोटा है.

Sadashivappa Nemagouda aka Baba Mukund
करीब 6 महीने बाद स्मृति वापस अपने घर आती है. उसकी दोस्त प्रियानी उसे वापस पाकर बहुत खुश है मगर कुछ दिन बाद वो वापस चली जाती है.

उधर मुकुंद बाबा का एक विज्ञापन लोगों को टीवी और पर्चों में लिखा मिलता है की मुकुंद बाबा कोई बड़ा चमत्कार करने वाला है जिसमे वो एक लड़की को पहले तो चिता पर जलाएगा बाद में वापस उसे जिंदा कर देगा. पुलिस तक भी ये खबर पहुचती है और पुलिस बाबा को धर दबोचती है. पुलिस बाबा से ये उगलवाना चाहती है की आखिर वो किस लड़की को जलने और जिंदा करने की बात कर रहा है.

ये एपिसोड उत्तरी कर्नाटक के ज़ुन्जर्वाद गाँव की एक घटना पर आधारित है. पुलिस के तफ्तीश के दौरान काफी सारी बाते खुल कर सामने आई की आरोपी बाबा के ऊपर पहले से ही कई आरोप हैं. बाबा के ऊपर 2013 के दौरान एक दुष्कर्म का आरोप भी लगा था. 2010 में इसने आत्महत्या के बाद जीवित रहने का ढोंग रचा था.

YouTube: https://www.youtube.com/watch?v=HfcmiByZ3Sg

SonyLiv: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-366-may-9-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/05/crime-patrol-india-girl-rescued-from.html



Read More

Posted On: Saturday, May 3, 2014

Repeat Offenders: What we learned after Nirbhaya case! Now Shakti Mill, Mumbai Case (Episode 363, 364 on 3rd, 4th May 2013)

आदतन अपराधी
Repeat Offenders


22 August, 2013,
Shakti Mill, Mumbai

This case is also known as Shakti Mill case was held on 22 August. Victim of the case was a 24 year old photojournalist in a english magazine who was assaulted by 5 men including one juvenile at deserted Shakti Mill compound. Shakti Mill is situated at Mahalaxmi Area of South Mumbai.

Victim was on a assignment with his male colleague on that day. Her colleague first badly beaten with belt then they tied him with the same belt. They brought girl to a different place and sexually assaulted her.

In the meanwhile she was getting calls from her mother but they forced her to tell her that everything is fine. Later they switched off her phone and continued assaulting her. Also they put a broken bottle of beer at her neck and forced her not to scream otherwise they will kill her. During the incident they shot some photos of her and warned her not to tell this to police otherwise they will make these photos public.

Shakti Mill, Mumbai
Following the assault the men brought her back to her colleague. The brought survivor and her friend to the railway track. On reaching the tracks, they asked survivor and her colleague to walk forward towards Mahalaxmi Station, while they moved towards Lower Parel Station. When the criminal left, she informed her office colleague that she had been assaulted by five men. After their colleague came, they hailed a taxi and went to Jaslok Hospital. She called her mother also who reached hospital. After the survivor reached hospital she narrated the doctor what happened to her and immediately admitted.

On 26th August she gave her first statement to the police and got discharged on 27 August.

One more case was registered on 31st July, 2013 where a 19 year old girl was assaulted by five men at Shakti Mill. She was a telephone operator by profession. Three among five men were common in both the cases. In this case also the boy was tied and was beaten badly and girl was assaulted.

After the case registered, police arrested around 20 people and with in 65 hours they got three accused. Case was registered against total seven people and three out of these seven were common in both the cases. Two out of these seven are under 18.

Accused 22 August Incident: Vijay Jadhav, Mohd Kasim Hafiz Sheik aka Kasim Bengali, Salim Ansari, Siraj Rehman and a minor.

Accused 31 July Incident: Vijay Jadhav, Mohd Kasim Hafiz Sheik aka Kasim Bengali, Salim Ansari, Mohd Ashfak Sheik and a minor.

During initial investigation police was unable to trace Shiraz Rehman but later he was found in Thane jail.

On 19 September, 2013 police filed a 600 page chargesheet in a metropolitan court. The report on minor accused are given to the Juvenile Court. They were charged under 376(d) for assault, 377 for unnatural offense, 120(b) for criminal conspiracy, 34 for common intention and 201 for destruction of evidence.

On 14th April, 2013 Mumbai Session court awarded death penalty to three of them who were involved in both the cases.

Controversial Comments:
"Women needed to pay attention to their clothes to avoid such type of attacks. Women should not be too influenced by television"
Naresh Agarwal
Samajwadi Party leader and Rajya Sabha MP

“Should these guys be punished with hanging? They are boys, they make mistakes"
Mulayam Singh Yadav
Politician, Samajwadi Party

Victim Played by Arshima Thapar

22 अगस्त, 2013
इस केस को शक्ति मिल केस के नाम से भी जाना जा रहा है. ये काण्ड एक इंग्लिश पत्रिका की फोटो जर्नलिस्ट पर पांच युवकों द्वारा किया गया था. इन पांच लोगों में से एक नाबालिग है. शक्ति मिल एक खँडहर है जो की दक्षिणी मुंबई के महालक्ष्मी इलाके में है. पीडिता उसे दिन अपने एक सहकर्मी के साथ एक असाइनमेंट पर गई थी. दोषियों ने पहले तो उसके सहकर्मी को बेल्ट से मारा उसके बाद बेल्ट से ही बांध कर पीडिता के साथ दुष्कर्म किया.

जब उसके साथ दुष्कर्म हो रहा था उसी समय उसके मोबाइल फ़ोन पर उसकी माँ की कॉल भी आरही थी. दोषियों ने पहले तो उस पर दबाव दल की वो बोल दे की सब कुछ ठीक है मगर अगली बार फिर से कॉल आने पर उससे मोबाइल छीन कर उसे ऑफ कर दिया.

बियर की एक टूटी बोतल से उनलोगों ने पीडिता को धमकाया की अगर उसने ज़रा सी भी आवाज़ निकाली तो ये बोलत उसकी गर्दन में घुसेड देंगे. इस दौरान उसके कुछ फोटो भी लिए गए और उसको धमकाया गया की अगर पुलिस को कुछ भी बताया तो ये फोटोज इन्टरनेट पर डाल दी जाएँगी.

लड़की के साथ दुष्कर्म करने के बाद वो उसे उसके सहकर्मी के पास वापस ले आये और फिर दोनों को पकड़ कर रेलवे ट्रैक के पास ले गए. वहां ले जाने के बाद उन दोनो महालक्ष्मी स्टेशन की तरफ जाने को कहा और पाँचों लोग लोअर परेल की तरफ बढ़ गए. दूर जाने के बाद दोनों ने अपने बाकी सहकर्मियों से बोल कर अपने बॉस को फ़ोन किया और बताया की उसके साथ सामूहिक बलात्कार हुआ है. सहकर्मियों के आने के बाद दोनों को जसलोक हॉस्पिटल ले जाया गया जहाँ पर पीडिता ने सारी आपबीती डॉक्टर को सुनाई. उसकी माँ को भी अस्पताल बुला लिया गया. उनका इलाज तुरंत शुरू हो गया.

पीडिता ने अपना पहला स्टेटमेंट पुलिस को 27 अगस्त को दिया और 28 अगस्त को उसे डिस्चार्ज कर दिया गया.

इस वारदात के अलावा 31 जुलाई को भी पुलिस थाणे में ऐसा ही एक केस दर्ज हुआ था जिसमे 19 साल की एक टेलीफोन ऑपरेटर के साथ पांच लोगों ने शक्ति मिल में ही दुष्कर्म किया था. इन पांच लोगों में से तीन लोग दोनों ही केस में संलिप्त थे. इस केस में भी लड़की के साथ जो लड़का था उसे बांध कर मारा गया था और लड़की के साथ दुष्कर्म किया गया था.

केस रजिस्टर होने के बाद पुलिस ने 20 लोगों को हिरासत में लिया और 65 घंटे के अन्दर तीन दोषियों को गिरफ्तार कर लिया. कुल सात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ जिनमे से तीन दोनों ही केसे में संलिप्त थे. इन लोगों में दो नाबालिग हैं.

22 अगस्त को हुई वारदात में संलिप्त दोषियों के नाम हैं: विजय जाधव, मोहम्मद कासिम हाफिज शेख उर्फ़ कासिम बंगाली, सलीम अंसारी, सिराज रहमान खान और एक नाबालिग.

31 जुलाई को हुई वारदात में संलिप्त दोषियों के नाम हैं: विजय जाधव, मोहम्मद कासिम हाफिज शेख उर्फ़ कासिम बंगाली, सलीम अंसारी, मोहम्मद अशफाक शेख और एक नाबालिग.

शिराज रहमान को पुलिस ढूंढ नहीं पाई थी मगर बाद में वो ठाणे जेल में मिला.

19 सितम्बर, 2013 को पुलिस ने चार दुष्कर्मियों की खिलाफ 600 पेज की चार्जशीट दर्ज की. नाबालिग दोषी के खिलाफ कार्यवाही जुविनाइल कोर्ट के अंतर्गत होगी. इन चारों को भारतीय दंड संहिता की धरा 376d, 377 अमानवीय व्यवहार, 120b आपराधिक षड़यंत्र, 34 कॉमन इंटेंशन और 201 तथ्यों को छिपाना, के तहत चार्ज किया गया है.

4 अप्रैल 2014 को मुंबई सेशन कोर्ट ने इनमे से तीन दोषी जो की दोनों ही वारदातों में संलिप्त थे, को मृत्युदंड की सजा सुनाई है.

विवादास्पद टिप्पणी:
“इस तरह की वारदातों से बचने के लिए लड़कियों को अपने कपड़ों पर ध्यान देना चाहिए, और टीवी से ज़्यादा  प्रभावित नहीं होना चाहिए."
नरेश अग्रवाल 
समाजवादी पार्टी. सांसद, राज्यसभा

“लड़कों से गलती हो जाती है. इसके लिए फांसी पर नहीं चढ़ाना चाहिए.”
मुलायन सिंह यादव
समाजवादी पार्टी नेता.
YouTube:
Part 1: https://www.youtube.com/watch?v=BBmre2iF0GM
Part 2: http://www.youtube.com/watch?v=3fULmJMoCdo

SonyLIV:
Part 1: http://www.sonyliv.com/Repeat-Offenders-Part-I
Part 2: http://www.sonyliv.com/Repeat-Offenders-Part-II



Read More

Spying Games: Vinod spies his wife Aradhna to get divorce (Episode 363 on 2nd May 2014)

Spying Games
जासूसी का खेल


Based on a dowry harassment cases. Story starts a man is spying at a lady. That lady name is Aradhna and that man is sent by his husband Vinod Oswal.

Story goes flashback. Aradhna is a housewife from a small family. His father marriage her with a rich Oswal family without any kind of demand/dowry. Though Vinod’s parents never asked Aradhna’s family, they did not give any dowry. Vinod’s parents are saying at least they should have given some money or goods to their daughter.

Time passes, Vinod and Aradhna blessed with a girl. Aradhna’s mother father comes to meet her but they do not bring anything with them to gift Vinod’s parents. Vinod’s parents forces him to put pressure on Aradhna to bring some money from her home but Aradhna is against this. No one is favouring her in the home. Vinod starts harassing her. He beats her and finally Aradhna raises dowry case against them.

कहानी शुरू होती है एक महिला की जासूसी से। एक आदमी आराधना नाम की महिला की जासूसी कर रहा है। आराधना विनोद ओसवाल की पत्नी है और ये जासूसी विनोद ही करवा रहा है।

कहानी फ्लैशबैक में जाती है। आराधना एक गृहणी है और एक छोटे परिवार से है. आराधना की शादी एक बड़े परिवार से होती है. शादी में विनोद के घर वालों की किसी भी तरह की कोई मांग नहीं होती है। मांग न होने की वजह से आराधना के घर वाले दहेज़ में कुछ भी नहीं देते हैं जिसकी वजह से विनोद की माँ हर वक़्त आराधना पर ताने कसती रहती है की कुछ माँगा नहीं तो कुछ दिया भी नहीं उसके घर वालों ने.

समय बीतता है। आराधना एक बच्ची की माँ बनती है। उससे मिलने आराधना के घर वाले भी आते हैं मगर विनोद की माँ ये देख कर गुस्से में है की वो लोग हमेशा खाली हाथ ही क्यों आते हैं। विनोद की माँ विनोद पर ये दबाव डालना शुरू करती है की वो आराधना को अपने घर से रूपए-पैसे लाने को बोले, मगर आराधना इसका विरोध करती है। घर का कोई भी सदस्य आराधना का पक्ष नहीं ले रहा है। विनोद उस पर हाथ उठाना शुरू कर देता है। इन सब से तंग आकार आखिरकार आराधना अपने ससुराल वालों के खिलाफ दहेज़ का केस दर्ज कर देती है।

YouTube: http://www.youtube.com/watch?v=2VKi9HP4W2Q

SonyLIV: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-363-may-2-2014



Read More