Posted On: Sunday, June 1, 2014

Swindled: Fake police raids Surendra's home and extort 5 lac rupees (Episode 375 on 30th May 2014)


Swindled
जालसाज़ी
Surendra Dalvi (real name Yashwant Ramchandra Chalke and played by Mazher Sayed) is a chartered accountant (CA) who is doing his own business of preparing documents related to housing societies and properties. He is honest towards his work and ignores any illegal activity. Javed (real name Abdul Hameed Shaikh and played by Gyanendra Tripathi) is his secretary who helps him in the work.
A morning Surendra is waiting for Javed while Javed's cell phone is switched off. While he is waiting for him, three police officers come with Javed and raids his home. They tell Surendra that they got few fake property-related documents from Javed who were made by Surendra so they are raiding his home. Surendra is saying that he never made any forged documents. Javed is saying that whatever he is doing, he is doing under Surendra only and he is not involved in this.

 On Surendra's request, police ask 4 lac rupees from Surendra to avoid the arrest. Surendra brings them to an ATM and gives 40,000 rupees from his savings account. Police go with Javed after taking the money. Later in the night, Surendra gets a call from Javed and he tells that he is still police custody and they are asking 8 lac rupees to release him. Javed sends his father to Surendra's home. Javed's father requests Surendra to help him. Surendra takes a loan of 5 lac from the market gives that to his father.

After few days when Surendra goes to Javed's home to take back his 5 lac, Javed clearly says that he will not give a single penny because he went through all this matter because of Surendra.

सुरेन्द्र दलवी एक चार्टर्ड अकाउंटेंट है जो की प्रॉपर्टी और हाउसिंग सोसाइटीज से सम्बंधित कागज़ बनता है. वो ईमानदारी से अपना काम करता है और गैरकानूनी काम करने से साफ़ अलग रहता है. उसके ऑफिस में उसका सेक्रेटरी जावेद है जो की काम-काज में उसकी मदद करता है.

एक सुबह सुरेन्द्र अपने घर पर जावेद का इंतज़ार कर रहा है मगर वो आता नहीं है, साथ ही उसका मोबाइल भी बंद है. काफी देर इंतज़ार करने के बाद सुरेन्द्र के घर तीन पुलिस वाले जावेद को पकड़ के लेकर आते हैं और सुरेन्द्र को बोलते हैं की जावेद जो की सुरेन्द्र के साथ काम करता है, के पास से प्रॉपर्टी के जाली कागज़ मिले हैं. वो सुरेन्द्र को पुलिस स्टेशन के जाने की बात करते हैं जबकि सुरेन्द्र कह रहा है की उसका कोई भी कागज़ जाली नहीं है. जावेद भी बोल रहा है की वो तो जो भी करता था सुरेन्द्र के कहने पर करता था और उसका इसमें कोई हाथ नहीं है.

पुलिस मामले को दबाने के लिए चार लाख रुपये की मांग करती है. सुरेन्द्र के पास 40,000 रुपये हैं जो की वो एटीएम से निकल कर दे देता है. पुलिस जावेद को लेकर चली जाती है. रात में जावेद का फ़ोन आता है की पुलिस वालो ने उसे अभी तक पकड़ के रखा है और वो उससे आठ लाख की मांग कर रहे हैं. जावेद अपने पिता को सुरेन्द्र के घर रूपए का इन्तेजाम करने भेजता है. जावेद का पिता सुरेन्द्र के सामने गिदगिड़ाता है और कहता है की पाई पाई चूका देगा। सुरेन्द्र मार्किट से लोन उठा कर पांच लाख का इंतजाम करता है और जावेद को छुड़वाता है मगर बाद में जसब वो पांच लाख वापस मांगने जावेद के घर जाता है तो जावेद साफ माना कर देता है और बोलता है की वो सुरेन्द्र की ही वजह से फसा था इसलिए कोई रूपए नहीं देगा.

YouTube: 
www.youtube.com/watch?v=6srU60IGr5w

SonyLiv: 
www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-375-may-30-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/06/crime-patrol-man-hired-fake-cops-to.html
Search Tags: fake police looted chartered accountant, fake police raids chartered accountant, Mankhurd, National Crime Investigation Bureau, NCIB, Abdul Hameed Shaikh, Yashwant Ramchandra Chalke, Mozim Shaikh, Rashid Shaikh, Naeem Makdum, Azharuddin Tamboli, Sujeet Lokhande, Wahida Shaikh

No comments:

Post a Comment