Posted On: Sunday, January 26, 2014

Hostage: Assam's brave girl Gunjan Sharma's traumatic experience about a hijack (Episode 334 on 25 Jan 2014)

Hostage
बंधक


Assam, Guwahati, Dec 2013
That was the day when a school bus with 11 kids was hijacked by a gunman. Other than small kids there was a 8th class girl inside the bus named Gunjan Sharma (Rajni Pathak). Hijacker forced driver on gunpoint to drive bus as much faster he can and turn towards Nagaland. Later he tried to kidnap a small girl but Gunjan insisted kidnapper to bring her instead of that small girl. Gunman took her alone and let others go. Next day Gunjan was found at dibrugarh (Bihubhor), near Nagaland border. She reported herself at a police station there. The gunman hijacked the bus after he escaped from a quarrel between some people of simalguri.

After Gunjan's shown bravery, Assam's chief minister Tarun Gogoi announced an award of 2 lac to her. Now Simalguri residents demanding the state police to recommened her name for National Award of Bravery.

Gunjan is daughter of a businessman and class 8th student at Kendriya Vidyalaya, Nazira. Narrating her trauma Gunjan told police that that gunman stuffed her pistol into her mouth to keep her mouth shut when police and other resident were calling her name to find her.

Gunjan Sharma, Brave girl of Assam

गुंजन केंद्रीय विद्यालय, नजीरा में पढ़ती है. वो अपने गाँव से स्कूल छोटे बच्चों की स्कूल बस में जाती है जो की उसे अच्छा भी लगता है. उसके पिता एक व्यापारी हैं. एक दिन स्कूल से घर वापस आते हुए अचानक उसकी बस में एक आदमी २ पिस्तौल के साथ घुस जाता है. बस में कुल 11 बच्चे हैं जिनमे से एक गुंजन है. वो उन सभी को बंधक बनाता है और ड्राइवर को धमकता है की वो बस को तेजी से चलता हुआ नागालैंड की तरफ ले कर चले. आगे पुलिस चेक भी मिलता है जो की उसी अपराधी की तलाश में हैं. ड्राइवर तेज़ी के साथ बस निकाल ले जाता है मगर आगे चल कर वो चालाकी के साथ बस को एक गड्ढे में फसा देता है. वहां पर वो आदमी बस में से एक छोटी बच्ची को उठा कर निकलने लगता है तो गुंजन उससे बोलती है की वो इस छोटी बच्ची को छोड़ दे और उसे अपने साथ ले चले.

वो अपराधी गुंजन को अपने साथ ले जाता है. वो हुंजन के साथ एक घने जंगल में छिपता है. पुलिस उन दोनों को ढूंढती हुई जंगल में पहुचती है. वो आदमी गुंजन के मुह में अपनी पिस्तौल डाल देता है और उसको चेतावनी देता है की वो अपने मुह से कोई आवाज़ न निकाले.

YouTube: http://www.youtube.com/watch?v=WJmLHHWowdM

SonyLiv: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-334-january-25-2014


Read More

Posted On: Saturday, January 25, 2014

Unforeseen Enemy: Jasmin's trouble after he fills a customer satisfaction feedback survey form (Episode 333 on 24th Jan )



Jasmin (played by Prinal Oberoi) is pregnant. She is a resident of Pune and is mother of daughter Amreen. Her husband Farhan is a businessman. Jasmin’s mobile phone is missing whom she left at the dining table while going to take bath. In the mean time her known Nadeem comes to her home but goes back when she was taking bath. She asks her daughter Amreen if she knows where her mobile has gone.

She hunts for her mobile in the market with her daughter but did not get that back. She tell this to Farhan. Farhan tell her not to worry and he brings a new mobile phone for her with the same number.

After getting her mobile back she calls her mother-in-law and few other persons. They all shouted at her for some reason. She is unable to understand this that whats wrong with these people. At last one of her friend call her and tell her that she got a call from Nadeem. Nadeem was telling that Jasmin is in relation with him and she is having his baby in his womb. Jasmin knows that these all are just fasle allegations.

Now Jasmin can understand that her mobile was stolen by Nadeem while she was taking bath tath day. She calls Nadeem. She shouts at him then Nadeem tells her that he wants 10 lac rupee from her otherwise he will tell all these things to Farhan.

Nadeem was employee of a Local Survey company whose job was to call people and offer peoples with attractive things who put their phone numbers in the feedback survey forms.

Is it safe for women to put their mobile/phone number in a customer satisfaction of a local survey form? You will think twice after knowing about this case.. Filling out an innocuous feedback form on long distance train from Mumbai to Lucknow led to a lot of misery for this Kandivali 30 year old housewife. After filling the form she got call from the guy. In form she wrote her name and contact number. The accused, Syyed Mohd Mansuri liked her writing and was willing to meet her. Later on he visited her home also. During his last visit her stole her mobile phone.

Mansuri dialed some people from phone’s contact list and told them that woman is having extra-marital affair with him. After then he was blackmailing him for 5 lac rupees.

जास्मिन पुणे में रहती है. उसकी एक बच्ची अमरीन है. उसका पति फरहान एक व्यापारी है. जास्मिन प्रेग्नेन्ट है. जब वो नहा रही होती है तब उसके घर कि घंटी बजती है. वो अमरीन को बोलती है कि देखे कि दरवाज़े पर कौन है. आफरीन बताती है कि नदीम अंकल थे मगर आप नहा रही थी सो वो वापस लौट गए. उसके बाद जास्मिन अपना मोबाइल ढूंढती है पर वो उसको नहीं मिलता है. वो फरहान को बताती है और फिर मार्केट ढूंढने निकलती है. उसेक मार्किट में भी अपना मोबइल नहीं मिलता है. बाद में फरहान उसे एक नया मोबाइल उसी नंबर के साथ लाकर दे देता है.

मोबाइल मिलने के बाद जास्मिन जब अपने कुछ रिश्तेदारों और दोस्तों को फ़ोन करती है तो सब उससे बहुत अजीब तरह से बात करते हैं. जास्मिन को समझ नहीं आ रहा है कि ये सब क्या हो रहा है. बाद में उसकी एक दोस्त उसे बताती है कि उसको नदीम नाम के एक शख्स का फ़ोन आया था और वो जास्मिन और अपने बारे में अनाप-शनाप बक रहा था. वो बोल रहा था कि जास्मिन और उसके बिच अवैध सम्बन्ध है और जास्मिन के पेट में जो बच्चा है वो उसका है. जास्मिन अचंभित है ये सब सुन कर और अब उसे समझ आता है कि उसका मोबाइल नदीम ने ही चुराया है. वो अभी तक ये नहीं समझ पा रही है कि नदीम ये सब क्यों कर रहा है जबकि उसका नदीम से दूर दूर तक कोई नाता नहीं है.

वो नदीम को फ़ोन करती है तो नदीम उससे १० लाख रुपये कि मांग करता है और बोलता है कि अगर वो उसे १० लाख पुए नहीं देगी तो वो ये सब बातें फरहान को बता देगा.

YouTube: www.youtube.com/watch?v=xltyDa0U7yQ

SonyLiv: www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-333-january-24-2014
ये एपिसोड दिसंबर में घटी मुम्बई कि एक सत्य घटना पर आधारित है. पीड़िता कांदिवली मुम्बई कि रहने वाली है जिसने कुछ महीने मुम्बई से लखनऊ जाते समय ट्रैन में एक कस्टमर सतिसफ़ैशन सर्वे फ़ार्म भरा था. उस फॉर्म में उसने अपना नाम और नंबर लिखा था. फॉर्म भरने के कुछ दिन बाद उसे सैयद मोहम्मद मंसूरी ने काल किया. मंसूरी को उसकी राइटिंग पसंद आ गई थी और तभी वो पीड़िता से मिलना चाहता था. उसने धीरे धीरे पीड़िता से जान पहचान भी बधाई और एक बार रिज़र्वेशन के टिकट देने उसके घर भी गया.



Read More

Posted On: Wednesday, January 22, 2014

Personal Wealth: Police tracks down kidnappers within 12 hours of kidnapping (Episode 332 on18th January 2014)



This question puts a question to today’s society, we should share our personal wealth with the people around us! Or a woman should share her family’s of his husband’s wealth with her friends?

Sahil’s younger bother Piyush get kidnapped while he is returning from a mobile shop. He went that mobile shop to recharge his mom’s cell phone. After 30 mins when his mom asks Sahil about Piyush but he also does not know about him. He calls his husband Narendra and Narendra files FIR. After two hours of kidnapping Narendra gets call from kidnappers who asks him a ransom of rup 1.5 crore.

Police starts investigation and tracks down the kidnapper with in 12 hours of kidnapping. Before trapping culprits, Narendra gets a call from Piyush through a unknown number. Piyush tell him that he is in a car parking and talking through parking guy’s mobile phone.

Police is sure that the kidnapping was done by a very close of Narendra and family who knows some crucial informations about them.


ये केस इस बात कि जागरूकता व्यक्त करता है कि क्या हम लोगो को अपनी आर्थिक स्थिति कि बातें हमें जानने वालों के साथ साझा करनी चाहिए या नहीं? और ख़ास कर कि औरतों को जिनके अंदर जलन कि भावना कुछ ज़यादा ही होती है!

नरेंद्र एक व्यपारी है. साहिल और पीयूष उसके दो बेटे हैं. साहिल कि माँ साहिल को बोलती है कि वो उसका मोबाइल रिचार्ज करवा दे. चूँकि साहिल टीवी देखने में मगन है, वो ये काम पीयूष पर डाल देता है. आधे घंटे तक पीयूष लौटता नहीं है तो उसकी माँ चिंतित हो जाती है और साहिल को पीयूष को खोजने के लिए भेजती है. साहिल उसे कई जगह ढूँढता है मगर वो नहीं मिलता है. घबरा कर वो नरेंद्र को फ़ोन करती है.

दो घंटे बाद एक फ़ोन आता है जिससे ये व्यक्त होता है कि पीयूष का अपहरण हुआ है. अपहरणकर्ता डेढ़ करोड़ रुपये कि मांग करता है जब कि नरेंद्र के पास इतना रूपया है ही नहीं।

नरेंद्र ऍफ़ं.आई.आर.दर्ज करता है. पुलिस अपना काम शुरू करती है और बारह घंटे के अंदर अपहरणकर्ता पकड़े जाते हैं,

कौन थे ये अपहरणकर्ता?
इन्होने एक साधारण से व्यपारी से डेढ़ करोड़ जैसी बड़ी रकम क्यों मांगी?

क्या उन्हें पता था कि नरेंद्र के पास इतना रुपया है?
YouTube: http://www.youtube.com/watch?v=xMnKFPS4qrs

SonyLiv: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-332-january-18-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/01/crime-patrol-boy-11-abducted-for-rs-15.html



Read More

Posted On: Friday, January 17, 2014

Circle of curruption: A mysterious murder and a medical college admission (Episode 331 on 17 Jan 2013)

Circle of curruption
भ्रष्टाचार की कड़ियाँ


August, 2013
Corruption: Corruption in school and college admission system where a parent is ready to pay bribe of millions for their kids admission.

A family woh wants to see their daughter as doctor but her daughter is not able to qualify medical entrance exam. Now father plans to get her admitted through bribe. For this he gets in contact with Yuddhveer Singh Rawat, who is ex PRO of Himchal Pradesh Kabinet minister Harak Singh Rawat. Yuddhveer assures that her daughter will must get admission in Sri Guru Ram Rai Institute of Medical and Health Scineces. Yuddhveer talks to admission co-ordination Sudha Patwal and the deal fixes with 5 lac rupees.

In the mean time police finds body of Yuddhveer. Police also finds a draft with the body in favour of Sri Guru Ram Rai Institute of Medical and Health Scineces.


ये केस खुलासा करता है स्कूल एंड कॉलेजों में चल रहे अवैध दाखिलों का जिसमे अविभावक को अपने बच्चे के एडमिशन के लिए मोटी घूस देनी पड़ती है. इस तरह का भ्रष्टाचार सिर्फ यहीं तक ही सिमित नहीं है, मामला बिगड़ने पर इसका अंजाम कुछ भी हो सकता है.

एक परिवार जो अपनी बच्ची को डॉक्टर बनाना चाहता है मगर उसकी बेटी एम् बी बी एस का एक्जाम पास नहीं कर पाती है तो पिता कॉलेज में घूस देकर बेटी का दाखिला करवाने का प्लान बनता है. और इस प्लान के लिए वो एक हाई प्रोफाइल आदमी युद्धवीर सिंह रावत (कैलाश राजवंश) जो की कभी हिमाचल प्रदेश के कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत का जन संपर्क अधिकारी (पि.आर.ओ) था, से मिलता है. युद्धवीर उसे आश्वासन देता है की उसकी बेटी का एडमिशन वो श्री गुरु राम राय इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल एंड हेल्थ साइंसेस में करवा देगा. युद्धवीर कॉलेज की एडमिशन कार्यकर्ता सुधा पटवाल (रचना शुक्ला) से से बात करता है और सौदा १५ लाख में तय होता है.

इसी दौरान युद्धवीर सिंह मारा जाता है और उसी लाश के साथ पुलिस को श्री गुरु राम राय इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल एंड हेल्थ साइंसेस के नाम का एक ड्राफ्ट मिलता है.

YouTube: https://www.youtube.com/watch?v=LLXxZLX3stE&feature=youtu.be

SonyLiv: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-331-january-17-2014

here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/01/crime-patrol-uttarakhand-bjp-demands.html



Read More

Posted On: Saturday, January 11, 2014

A Crime Revisited: Gudiya, a five year old gild kidnapped an molested (Episode 329, 330 on 10, 11 jan 2014)


A Crime Revisited
एक और अपराध
15 April, Gandhinagar, New Delhi
Gudiya, a 5-year old minor girl was kidnapped by a neighbor for near 40 hours. The guys attacked her many time during these 40 hours. On 17th Apr 2013, she was rescued when some people heard she is crying somewhere. She was critical when they found her. A 200 ml bottle and candles were found in her organs.

During the whole incident, police did not write any FIR, even when Gudiya's uncle called them that she was kept inside a home and crying. When they called police, police responded that if they can hear the voice then rescue her themselves!
When the police did not support, her father called Aam Aadmi Party (AAP). After conscious efforts of AAP, police agreed to write FIR within 2 hours of getting the call. Later police arrested the duo Pradeep and Manoj from their native in Bihar. Later Gudiya's father and uncle told media and they were offered 2000 bribe by Delhi Police to keep the case unfold.

Police explained that Gudiya was kidnapped during the evening of 5th Apr 2013. They tied her on a doss with rope and attacked her. Police also found dozens of video clips on their mobile phone. Manoj and Pradeep attacked Gudiya, in the same manner, as shown in the video clips.

Police captured Monoj first and he told them that he did this crime with his friend Pradeep. After getting news from media, Pradeep got altered and was changing his positions very carefully with changing his SIM cards. Police caught him finally in Lakhisarai of Darbhanga.

The whole night of 18 Apr 2013, people performed in front of Delhi Police headquarters and asked for the resignation of Delhi Police Commissioner Neeraj Kumar.

During the tenure of the previous government of the Indian National Congress in Delhi, was badly failed against increasing the crime rate against females. Delhi's former chief minister Sheila Dixit used to accuse Delhi Police of these crimes because Delhi Police does not come under Delhi Government and Delhi Police is not under the control of her government.

Aam Aadmi Party's job was commendable in this case. Before becoming chief minister of Delhi, Arvind Kejriwal was always saying that while they not in power they can bring Delhi Police on track then after getting the power they know how to control them.

Because of his different way of work, Arvind is in the spotlight since he has become Chief Minister. People of Delhi have high expectations with him.
१५ अप्रैल, २०१३, पूर्वी गाँधी नगर, नई दिल्ली
गुडिया, एक 5 साल की बच्ची जिसको उसके पडोसी ने अपहरण किया था. उसने उसको अपने फ्लैट में बंधक बना कर कई बार दुष्कर्म किया. 17 तारीख को जब कुछ लोगों ने बच्ची के रोने की आवाज़ सुनी तो उसे आज़ाद कराया गया. बच्ची जब मिली तब उसकी हालत बहुत ही नाज़ुक थी. उसके अंग में 200 मिली की बोतल और मोमबत्तियों के टुकड़े मिले थे.

चौकाने वाली बात ये थे की बच्ची की आवाज़ सुने जाने के बाद भी पुलिस ने किसी भी तरह की कोई सहायता नहीं करी. ये कह कर टाल दिया की जब बच्ची की आवाज़ सुनाई दे रही है तो दरवाज़ा तोड़ कर उसे खुद निकाल लो. गुडिया के पिता जब केस दर्ज करने थाने गए तो पुलिस ने मामले को रफा दफा करने की कोशिश करी और गुडिया के पिता को 2000 रुपये की पेशकश की.

पुलिस द्वारा सहायता न मिलने पर गुडिया के पिता ने आम आदमी पार्टी के कार्यालय फ़ोन किया. उसके बाद आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं के सजग प्रयास की वजह से पुलिस ने ऍफ़ आई आर लिखी और दबाव बढ़ने पर दो दुष्कर्मियों, मनोज व प्रदीप को बिहार से धर दबोचा.

पुलिस सूत्रों ने बताया की मनोज व प्रदीप ने गुडिया का अपहरण 15 की शाम को किया था. उन्होंने बच्ची को चारपाई पर रस्सी से बांध दिया. उनदोनों के मोबाइल में दर्जनों अश्लील क्लिप्स मिली और उन दोनो ने उन्ही क्लिप्स के अनुसार ही नशे की हालत में बच्ची से दुष्कर्म किया.

मनोज ने पूछताछ के दौरान बताया की इस घटना में उसका दोस्त प्रदीप भी उसके साथ था और बाद में उसने सारा दोष प्रदीप पर ही डाल दिया. पुलिस ने मनोज को पहले गिरफ्तार किया था और मनोज की गिरफ़्तारी की खबर मीडिया में फैलने के बाद प्रदीप अलर्ट हो गया था और बहुत चालाकी से अपनी लोकेशन एंड सिम कार्ड बदल रहा था. पुलिस ने उसकी तलाश मुजफ्फरपुर, दरभंगा समेत कई जगहों पर की और आख़िरकार वो दरभंगा के लखीसराय से गिरफ्तार हुआ.

प्रदर्शनकारी 18 की पूरी रात पुलिस मुख्यालय के बहार जमा रहे और पुलिस कमिश्नर नीरज कुमार ने इस्तीफे की मांग की. इसके अलावा प्रदर्शनकारियों ने एम्स, राजपथ, रेस कोर्स, और जनपथ पर भी प्रदर्शन किया.

गौरतलब है की दिल्ली की पिछली सरकार दिल्ली में बढ़ रहे महिलाओं के प्रति बढ़ रहे दुष्कर्मो के आगे बुरी तरह से नाकाम रही थी. दिल्ली ली पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित हर बार इन दुष्कर्मो के ठीकरा दिल्ली पुलिस पे थोपती आई थी क्योंकि दिल्ली पुलिस दिल्ली सरकार के अंतर्गत नहीं आती और दिल्ली पुलिस पर दिल्ली सरकार का कोई जोर नहीं चल सकता है.

गुडिया का केस में आम आदमी पार्टी का अनुदान सराहनीय रहा. दिल्ली केतत्कालीन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पहले से ही कहते आ रहे थे की अगर वो और उनकी पार्टी सरकार हाथ में न होने पर अगर दिल्ली पुलिस को ठिकाने पर ला सकती है तो सत्ता हाथ में आने के बाद तो उनको ठीक कर ही देगी. अरविंद केजरीवाल के मुख्यमंत्री बनने के बाद से लगातार अपने अलग ढंग से काम करने के तरीकों को लेकर चर्चा में रहे. दिल्ली की आम जनता को उनसे बहुत उम्मीदे हैं.

SonyLive:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-329-january-10-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-330-january-11-2014

YouTube:
Part 1: http://www.youtube.com/watch?v=pmtesvo8nMA
Part 2: http://www.youtube.com/watch?v=uzVrTZktQhw

Read More

Posted On: Monday, January 6, 2014

Hiding the truth: Innocent girl Pooja becomes HIV positive becasue her father hide some truth (Episode 327, 328 on 3rd, 4th Jan 2014)

Hiding the truth


Anit is widow and mother of three who's eldest daughter Pooja is frequently falling ill. Anita is worried and brings her to a doctor. After few checkups doctor is shocked to see that Pooja is HIV positive. Doctor is trying to know how Pooja is HIV positive and what is her case history. Doctor asks Anita to go for a blood test along with her rest two kids.

Their blood test reveals that Anita is also HIV positive but her rest 2 kids a re safe. Doctor asks Anita to get information about her husband's death because earlier she was saying that her husband died of heat attack. If is husband was HIV positive, then probably the disease transferred from her husband to her then to Pooja.

Now anita is trying to find out the truth.


अनीता तीन बच्चो कि माँ है और उसके पति कि मृत्यू बहुत पहले हो चुकी है. उसकी सबसे बड़ी बेटी का नाम पूजा है जो कि बहुत जल्दी जल्दी जल्दी बीमार पद जाती है. कुछ चेक-अप के बाद डॉक्टर ये देख कर अचंभित रेह जाती है कि पूजा एच. आई. वी से पीड़ित है. अब डॉक्टर ये जानना चाहती है कि पूजा को एड्स कैसे हुआ और उसकी बिमारी का मूल कारण क्या है। डॉक्टर अनीता और उसके बाकी दोनों बच्चो को भी ब्लूड टेस्ट के लिए बोलती है.

उनके ब्लूड टेस्ट के बाद पता चलता है कि अनीता के बाकी दोनों बच्चे तो स्वस्थ हैं मगर अनीता भी एच. आई. वी से पीड़ित है. अनीता ने डॉक्टर को बताया था कि उसके पति कि मृत्यु ह्रदय रोग कि वजह से हुई थी मगर डॉक्टर उससे कहती हैं कि उसके मृत्यु कि सही वजह पता करे. अगर उसके पति एच. आई. वी से पीड़ित था तो ये बीमारी उसको उसके पति से ही ट्रांसफर हुई है.

अब अनीता ये पता लगाने के लिए अपने ससुराल जाती है और अपनी सास से पूछताछ करती है.
YouTube:
Part 1: http://www.youtube.com/watch?v=b17XiUUAACw
Part 2: http://www.youtube.com/watch?v=Ohi3iiUQ0ug

SonyLIV:
Part 1: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-327-january-3-2014
Part 2: http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-328-january-4-2014



Read More

Posted On: Saturday, January 4, 2014

Web of crime: Malad police solves suitcase murder case (Episode 326 on 28 Dec 2013)

A web of crime
गुनाह का जाल


Saira is mother of Shoib and Majid. His father Qadir Niaz (real name Alam Ansari) is his step father from whom she want some money for her husband Altaf's bail. Altaf is in jail under a case of chain snatching. Her father denies so she reaches her mother. Her mother also tells here that she does not have so much money. Altaf forces her to get the money any how. She talk with someone in the night and leaves her home. Next morning two person finds a blooded suitcase near a nallah. They calls police and police finds a body of 32-34 year old man stuffed into that suitcase. The deceased was injured on head and neck by a sharp object. Investigation reveals that he is Saira'a father.


YouTube:
http://youtu.be/HU7jrRmsP8Q

SonyLIV:
http://www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-326-december-28-2013

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/01/crime-patrol-two-nabbed-in-suitcase.html



Read More