Posted On: Sunday, November 23, 2014

Trouble Shooting: Attack on a teacher Girdhar Bisht (Episode 436, 437 on 22nd, 23rd Nov 2014)


Trouble Shooting
मुसीबत का हल

Girdhar Bisht hails from Bindampur Village and he is a school teacher at Dehradoon. He likes to spend his holidays at home. Girdhar's family is a joint family where besides Girdhar and his wife, his brother and his family lives. His brother has two daughters. Elder one is Preeti (real name Shwetha Chandrashekar Haarigency, 22 and played by Vinita Joshi Thakkar) and younger one's name is Nootan (real name Sushma Chandrashekar Haarigency and played by Sabina Jat). Girdhar's only son lives abroad. Preeti is was not good in studies and she is a college dropout. She also has affair with Ajit Jogi (real name Ravi Shankar Naukudakar, 22 and played by Saheem Khan) who is a history sheeter. In police records he has been involve in few burglary cases. Preeti's family is completely against their relation. During all this family decides to send Preeti with his uncle Girhar Bisht but Preeti cameback after some time.

A day while travelling from his hostel to home, two men on bike opened shot him from close range but before getting unconscious he calls hospital. After sometimes ambulance comes and brings Girdhar with them. Police call his family on basis of his ID card found from the spot.

There was another story with Preeti when she was studying in college. A guy name Johny Garg was fallen in love with her and he wanted to marry her. Near everyone in the college was aware of Johny's feelings about Preeti.

गिरधर बिष्ठ देहरादून के एक स्कूल में टीचर है जो की बिन्दमपुर गाँव से सम्बन्ध रखते हैं. अपनी नौकरी के चलते वो छुट्टियों में अपने घर आते जाते हैं. घर पर उनकी पत्नी और उनके अलावा उनका भाई और उसका परिवार रहता है. गिरधर बिष्ठ एक एक बेटा है जो की देश से बाहर रहता है. उनके भाई की दो बेटियां हैं. बड़ी का नाम प्रीती और छोटी का नाम नूतन है. प्रीती कुछ बिगडैल टाइप की है जिसका चोरी चाकरी करने वाले एक छोटे मोटे अपराधी से चक्कर है जो की उसके घर वालों को बिलकुल भी पसंद नहीं है और इसके चलते वो उसको उसके ताऊ गिरधर के साथ देहरादून रहने के लिए भेज देते हैं मगर कुछ समय बाद प्रीती वापस आ जाती है.
Ajit Gaur, Bindampur, Chirag Mehra, Girdhar Bisht, Johnny, Musibat ka hal, No14, Preeti, Sabina Jat, Saheem Khan, Trouble shooting, Uttarakhand, Vinita Joshi Thakkar, dehradun, nissar khan
कॉलेज में छुट्टी होने पर गिरधर एक दिन अपने स्कूटर से देहरादून से अपने घर के लिए जा रहे थे की अचानक एक बाइक पर सवार दो लोगों में से एक उनपर गोलियां चालाता है. गिरधर बिष्ठ को गोलियां लगती हैं और वो सड़क पर बुरी तरह से गिर पड़ते हैं. बेहोश होते होते वो एम्बुलेंस को फ़ोन कर देते हैं. कुछ समय बाद एम्बुलेंस आ जाती है और उनको अस्पताल के जाती है. उसके आईडी कार्ड के आधार पर उनके घर पर सूचित किया जाता है.

इन सब के अलावा करीब दो साल पहले जब प्रीती कॉलेज में पढ़ती थी तब जानी गर्ग नाम एक लड़का उस पर जान देता था. पूरे कॉलेज में सभी को पता था की जानी प्रीती को प्यार करता है मगर प्रीती उसको बिलकुल भी भाव नहीं देती थी.

YouTube:
Part 1: youtu.be/zWoO1zIo6gI
Part 2: youtu.be/NX6291tk4wM

SonyLiv:
Part 1: Not Available
Part 2: www.sonyliv.com/watch/thriller-ep-437-november-23-2014

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/12/crime-patrol-2-sisters-3-others-held.html


Read More

Posted On: Saturday, November 22, 2014

Close to the Heart: Seven year old kid Vikky goes missing (Episode 435 on 21st November 2014)


Close to Heart
दिल के करीब
Vikky is a 7 year old naughty kid who likes to play seek and hide with his mother. A day he goes missing while playing with a neigbhor's son Rajdeep. Her mother thinks he is again playing some game but he really goes disappear. Mother informs his father Dalpreet and he starts searching the kid. He also files an police complain about Vikky's missing. Police starts search him and activates his informers also. During the whole incident Dalpreet finds one shoe of vikky.

विक्की एक सात साल का शरारती बच्चा है. लुका-छिपी का खेल उसे पसंद है और इसी को लेकर वो कई बार अपनी मम्मी को परेशान करता रहता है. एक दिन अचानक जब तो घर के बहार पड़ोस के बच्चे राजदीप के साथ खेल रहा है तभी तो गायब हो जाता है. उसकी माँ को लगता है की वो मज़ाक कर रहा है मगर वो सच में गायब हो जाता है. विक्की के पिता दलप्रीत उसको ढूंढना शुरू करते हैं मगर वो नहीं मिलता. उसके गायब होने की सूचना पुलिस को भी देते हैं और पुलिस उसको ढूंढना शुरू करती है. पुलिस अपने खबरियों को भी काम पे लगाती है. इसी बीच एक खेत के पास दलप्रीत को विक्की के एक पैर का जूता मिलता है.
Bhumika Chheda

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/11/crime-patrol-6-year-old-boy-killed-to.html

Search Tags: Vikky,Rajdeep,Puneet Channa,Gulshan Panday,Dalpreet,Rachna,Sushant Saini,Lakhbeer,Sangrur,Sehaj Singh,Jaspreet Kaur,Amandip Singh,Narvair Singh,Fateh Singh

Read More

Posted On: Tuesday, November 18, 2014

Shootout: Jamshedpur serial murders and shootouts (Episode 433, 434 on 15th, 16th November 2014)




City is under terror of sudden shootouts. Four people are involved in this and are not traceable by police. Only wealthy persons are their target and most strange thing, that they runs away immediately after firing without taking any of victim’s belongings. 2 are already dead in these shootouts and police is completely failed in tracing them.

Balraj is one out of these 4. While he is at home often he stands in front of a mirror and starts talking to himself. A day while he is sitting in a hotel with his companions, a senior police officer comes to him and gives him some money. After few days police get an unknown call from a lady that one of the shootout gang is one of you. Her hint is about a policeman but police is still unable to understand who that can be!

JAMSHEDPUR July 27, 2014
शहर में अँधाधुंध शूटआउट हो रहे हैं. चार आदमी हैं जो इसको अंजाम दे रहे हैं मगर पुलिस इनकी पहुच से बहुत दूर है. ये चार लोग किसी न किसी बड़े अमीर आदमी को ही निशाना बनाते हैं और कमाल की बात ये हैं की सिर्फ गोलियां बरसा कर भाग जाते हैं. इनके शूटआउट में 2 लोगों की मृत्यु भी हो चुकी है. पुलिस हर तरह से इनकों खोजने की कोशिश कर रही है मगर कोई मार्ग नज़र नहीं आरहा है. इन चारों में से एक बलराज अक्सक अपने घर में आईने के सामने खड़े होकर अपने आप से ही बात करता रहता है. एक दिन बलराज अपने बाकी साथियों के साथ बैठा है तभी पुलिस का एक सीनियर ऑफिसर वहां से गुज़रते हुए उसको कुछ रूपए थमा जाता है.

कुछ दिन बाद पुलिस को एक गुमनाम फ़ोन आता है, फ़ोन पे औरत बोलती है की शूटआउट करने वाला आप में से ही कोई है. उसका इशारा पुलिस की तरफ है मगर पुलिस अब भी ये समझने में नाकाम है की ये कौन हो सकता है.

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/11/crime-patrol-psychopathic-killer.html


Read More

Posted On: Friday, November 14, 2014

Unbridled Desires: Vinayak kills mother, wife and daughter (Episode 432 on 14th November 2014)


Unbridled Desires
बेलगाम ख्वाहिशें


Team leader in a Call Center Vinayak Shinde is father of a cute daughter and liv with his wife and mother. All the members of the family are very happy with their life including Vinayak. A day I suddenly meets him very old friend. His friend tell him that he has his own work then while he is leaving Vinayak looks at his car which is very costly and big. Now Vinayak is curious how he managed it. Vinayak asks him what does he do so he is managing this big vehicle, his friend explains him that he invests money in share market and earns from there. He tell Vinayak that he is doing well.

He gives him a number of a stockbroker and also explains to him how to invest and earn from the share market. Now Vinayak also starts investing money in share market. He earns well in few months so now he decides to quit from his job. After he quits, he is totally dependent on the share market. He also gifts a scooty to his wife and buys a big new car.

After 2 years share market falls badly and Vinayak loses a huge amount.

Accused Sagar Madhav Gaikwad
विनायक शिंदे एक कॉल सेंटर में टीम लीडर है. उसके घर में उसके अलावा उसकी पत्नी, माँ और एक छोटी बेटी रहते हैं. अपने छोटे से परिवार में काफी खुश है. एक दिन वो अपने एक बहुत पुराने दोस्त से मिलता है. उसका दोस्त बताता है की उसका खुद का काम-धंधा है. फिर वो विनायक को अपनी कार में ले ले जाता है जो की एक बहुत ही महंगी कार होती है. विनायक के अन्दर उत्सुकता जगती है की वो आखिर ऐसा कौन सा छोटा सा काम काम करता है जिससे वो इतनी मेहेंगी कार खरीद सका है! उसका दोस्त बताता है की वो शेयर मार्किट में पैसा लगता है और उसी की बदौलत वो अच्छा कमा-खा रहा है.
विनायक उससे पूछता है की शेयर मार्किट में पैसे लगाने और कमाने का तरीका क्या होता है वो उसका दोस्त उसे एक स्टॉक ब्रोकर का नंबर देता है. विनायक भी खुद ही घर से शेयर मार्किट में पैसा लगाना शुरू कर देता है. वो कुछ ही महीनो में काफी अच्छी कमाई कर लेता है और इसके बाद वो अपनी नौकरी से इस्तीफ़ा दे देता है. विनायक अब पूरी तरह से शेयर परकेत पर ही निर्भर हो जाता है. इस सबके बाद वो अपनी पत्नी को स्कूटी गिफ्ट करता है और एक मंहगी कार भी खरीद लेता है. मगर करीब 2 साल बाद शेयर मार्किट में अचानक मंदी आती है और विनायक को लाखों का नुक्सान होना शुरू हो जाता है.

Here is the inside story of the case:
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/12/crime-patrol-shocking-unable-to-pay-rs.html



Read More

Posted On: Wednesday, November 12, 2014

Parkstreet Kolkata Gang Rape Case: Vicitim Suzette Jordan revealed her identity




कोलकाता पार्क स्ट्रीट सामूहिक बलात्कार पीड़ित सुज़ैट जॉर्डन का 13 मार्च, 2015 निधन हो गया. 40 वर्षीय सुज़ैट दो बेटियों की एक माँ थी जो कि पिछले तीन दिनों से अस्पताल में थी. वह मेनिंगो-एन-सेफेलाइटिस नाम की बीमारी से पीड़ित थी.

मेनिंगो-एन-सेफेलाइटिस अक्सर वायरल संक्रमण से बल्कि अन्य रोगजनक जीवों द्वारा और कभी-कभी अन्य स्थितियों, जैसे जहर, ऑटोइम्यून विकार की वजह से मस्तिष्क पैरेन्काइमा की सूजन की बीमारी है

40 year old Kolkata Park Street Gang Rape victim Suzette Jordan passed away on March 13, 2015. A single mother of two daughters was in the hospital from last three days. She dies of a disease called Meningoencephalitis.

Meningoencephalitis is inflammation of the brain parenchyma, often caused by viral infections but also by other pathogenic organisms and occasionally by other conditions, eg toxins, autoimmune disorders.

फ़रवरी 2012 की उस रात ​सुज़ैट जॉर्डन ​अपनी कुछ दोस्तों के साथ कोलकाता के एक फाइव स्टार होटल के एक नाईट क्लब में गई थी, और उसी रात उसको एक कार से निचे फेक दिया गया. वो घायल थी, उसकी हालत ख़राब थी, उसके कपडे फटे हुए थे. मगर जल्दी ही उसके साथ हुई ये वीभत्स घटना ने राजनीतिक रूप ले लिया. यहाँ तक की बंगाल के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ये तक कह डाला की ये एक झूठी, मनघडंत घटना है. मंत्रियों ने कार्यवाही करने के बजाये जॉर्डन के चरित्र पर ऊँगली उठाना शुरू कर दिया. उनके हिसाब से जॉर्डन कैसी माँ है जो आधी रात को घर से बाहर थी.… !!


​करीब पंद्रह महीने तक जॉर्डन एक परछाई के रूप में जानी गई जिसका कोई नाम नहीं था और जिसको हर कोई पार्क स्ट्रीट पीड़िता के नाम से ही जानता था. मगर वो लोग जो उसके करीबी थे उसकी परछाई से भी उसे पहचान सकते थे की असल में वो कौन है. "मेरे कर्ली बाल भी मेरी पहचान थे. कभी राह चलते कोई अजनबी मिलता था तो मेरे बालों से मुझे पहचान कर पूछता था 'तुम पार्क स्ट्रीट वाली पीड़िता हो?' मै घबरा जाती थी. ऐसा लगने लगा था की मेरा खुद का अस्तित्व खत्म होता जा रहा है.", जॉर्डन बताती है.

"आखिरकार एक दिन मैंने ये फैसला किया की बहुत हो गया. मेरे साथ बुरा हुआ, बहुत बुरा हुआ मगर मै अभी ज़िंदा हूँ और लड़ना चाहती हूँ. मै जैसी हूँ वैसे ही लड़ूंगी, न की किसी धुंधली परछाई में रह कर."

ये उसी घटना के दोहरने जैसा था
पार्क स्ट्रीट पीड़िता से वापस सुज़ैट जॉर्डन बनना और भी ज़्यादा घातक था. जॉर्डन याद करती है "घटना के कुछ दिन बाद की हालत जब उसे बिस्तर से उठ कर टॉयलेट तक जाने में अपने पापा का सहारा लेना पड़ता था. मै 37 साल की थी और ये सब मुझे और लज्जित करता था."


वो वही त्रासदी फिर से याद करती है जब वो इस घटना ऍफ़.आई.आर. दर्ज करवाने गयी थी और पुलिस स्टेशन में सिर्फ पुरुष कर्मचारी ही थे. "वो मेरे ऊपर हंस रहे थे. उन्होंने मेरे साथ घटी घटना को गंभीरता से नहीं लिया." वो याद करती है की एक पुलिस वाला जो उस पर कसीदे कस रहा था जॉर्डन के बियर पीने और डिस्को में जाने को लेकर. जॉर्डन का दिल दहल जाता है जब वो उसके साथ हुए मेडिकल टेस्ट्स के बारे सोचती है. बिना कपड़ो के खड़ा रहना, जख्मों का छुआ जाना, तरह तरह के टेस्टस झेलना और स्वेब टेस्टिंग.

वो जब कभी भी ऐसी ही किसी घटना के बारे में सुनती है तो उसे आपबीती याद आ जाती है. "ये सब मुझे पागल कर जाता है. मै दर्द से बुरी तरह से कराह रही थी. ऐसी बेहोशी सी हालत थी की मै अपना शरीर हिला ही नहीं पा रही थी."

"जानने वाले और अजनबी सभी के एक जैसे विचार थे मुझे लेकर. नेताओं ने तो मुझे पेशवर बोल डाला. मुझे ये तक कहा गया कि ये घटना फिक्स थी जो की किसी गलतीवश गतल दिशा में चली गयी." जॉर्डन के केस की तुलना निर्भया के केस के साथ उलटी तरह से करी गयी- बैड विक्टिम vs गुड विक्टिम. मेरी बेटी जब सुबह स्कूल के लिए निकलती थी तो कुछलोग उसे घूरते हुए भद्दे कमेंट करते थे."

चरित्र को लेकर भद्दी टिप्पणिया
"मै 11 साल से सिंगल मदर हूँ. बजाये इसके की लोग मेरे द्वारा निभाए गए माँ और बाप की ज़िम्मेदारी को लेकर लोग मेरी प्रशंसा करें, लोग मुझे कलंक कहते हैं. ओह, वो सिंगल मदर हैं...!! उसके पति ने उसको छोड़ दिया! वो सच में ही पेशेवर होगी." जॉर्डन का कहना है की लोगों को खुद पता नहीं होता की वो क्या बोल रहे हैं. "आप मुझे पेशेवर कह रहे हो जबकि आप मुझे जानते भी नहीं हो."

जॉर्डन का अपनी पहचान को सबके सामने लाने का निर्णय उसके ट्रायल में तेजी लाने जैसा था. "एक वकील ने बोला की मै न्यायलय की पवित्रता को भंग कर रही हूँ. मगर जब कोर्ट के दरवाज़े खुलते हैं, जब दोषी की पूरी फॅमिली बाहर होती है और वो लोग मेरी फोटो अपने मोबाइल से खीचते हैं तब मेरी पवित्रता भंग नहीं होती?"

इस घटना के बाद जॉर्डन की फॅमिली ही उसका कवच बनी रही. उसकी छोटी से बेटी ने ही उसको साहस बंधाया की ये मत सोचो की दुनिया क्या कह रही है. उसकी 76 की दादी ने उसको प्रोत्साहन दिया की वो पुलिस में कंप्लेंन करे और एन.जी.ओ स्वयं ने उसका साथ दिया. मगर ऐसी परिस्थितियों में भावुकता का साथ भी कम पड़ता है.

जॉर्डन जब भी किसी इंटरव्यू के लिए जाती है और जब इंटरव्यू लेने वाला उसके सीवी में NGO का रिफरेन्स देखता है तो वापस दोबारा कॉल नहीं करता है. "आजतक कभी किसी ने मुझे दोबारा कॉल ही नहीं किया", जॉर्डन बताती है. "क्या मै कोई काम नहीं कर सकती? क्या मुझे कुछ नहीं आता है? सिर्फ इस वजह से की मै उस रात नाईट क्लब में गई थी? अगर नाईट क्लब इतने बुरे होते हैं तो उनको बंद कर दो! मैंने कितनी एंटी-डिप्रेशन और स्लीपिंग पिल्स लेना शुरू कर दिया था. हर रात भयावह सपने लेकर आती थी. मै नीद से चिल्ला कर उठ जाती थी. मै अपना ही नुकसान कर रही थी इतनी दवाएं खा कर. अगर मेरे माँ-बाप न होते, अगर मेरे बच्चे मेरा साथ न देते तो मै मर ही जाती."

वापस कोई नहीं पूछता
महिला कार्यकर्ता संतश्री चौधरी ने भी कोशिश करी की जॉर्डन को नौकरी दिलवा सके. उनके अनुसार, "मेरे जो भी कॉन्टेक्ट्स हैं कोलकाता में उसके बाद किसी की नौकरी लगवाना मेरे लिए नहीं बड़ी बात नहीं है. महिला कार्यकर्ता के रूप में मुझे 20 साल हो चुके हैं. मै महिलाओं का सशक्तिकरण करती हूँ उन्हें नौकरी दिलवा कर." उन्होंने कभी भी जॉर्डन की पहचान को किसी से छिपाया नहीं और शायद यही वजह थी की किसी भी कंपनी ने उसे दोबारा कॉल नहीं किया. "वो सभी कहते हैं की वो जॉर्डन को कॉल करेंगे. हमलोग इंतज़ार करते हैं की जॉर्डन को कॉल आयेगी मगर नहीं. कहने को ये लोग मेरे बहुत अच्छे दोस्त हैं."


आखिरकार चौधरी ने जॉर्डन को एक हेल्पलाइन Surviver For Victims of Social Injustice के लिए नियुक्त किया. उसकी सैलरी मामूली सी है. "मुझे अभी भी इंतज़ार है की सुज़ैट कोई कॉल मिलेगी जिससे उसे 60,000/- तक की तनखा मिलेगी क्यों वो इसके योग्य है." चौधरी का ये भी कहना है की वो चाहती तो जॉर्डन के लिए एक चैरिटी भी कर सकती थी जिसमे अपने हर जानने वाले से वो 1000/- तक ले सकती थी मगर उन्हें जॉर्डन को काम पे लगाना ज्यादा उचित लगा. अब उनके अनुसार जॉर्डन अच्छा काम कर रही है और लोगों की मदद कर रही है.

कुछ महीनो पहले बरसात के काम्धुनी नाम के एक गाँव का एक 20 साल का लड़की जो की अपने अपने कॉलेज से घर जा रही थी, एक गैंग के द्वारा अटैक का शिकार हुई. बाद में उसकी मृत्यु भी हो गई. जॉर्डन वहां चौधरी के साथ पीड़ित के परिवार से मिलने गयी थी मगर वो उस युवक की माँ से बात करने की हिम्मत नहीं जुटा पाई. कुछ दिन बाद महिला कार्यकर्ताओं द्वारा प्रोटेस्ट किया गया जिसमे चौधरी के कहने पर जॉर्डन ने भी हिस्सा लिया.

चौधरी कहती हैं, "मैंने उसको बोला की तुम्हे रोज़ घर से सुज़ैट की तरह निकलना चाहिए न की एक पीडिता की तरह. तुम एक मिसाल हो न की एक पीड़िता. जिन्होंने ये सब किया उनको छिपना चाहिए न की तुम्हे." इस प्रोटेस्ट के दौरान ही जॉर्डन सबके सामने खुल कर आई थी. जॉर्डन उस दिन 300-400 महिलाओं के साथ प्रोटेस्ट पे थी जिनमे से ज़्यादातर उसकी कहानी पहले से जानती थी और ये सब में और भी जोश ला रहा था."मुझे ऐसा लग रहा था की मुझसे कहीं ज्यादा जॉर्डन तैयार है. हम जब पार्क स्ट्रीट से निकले और जब जॉर्डन ने कहा 'हल्ला बोल', ऐसा लगा कुछ अलग ही प्रतीत हो रहा है", चौधरी बताती हैं.

जॉर्डन अब जिंदगी को साधारण रूप से जीने की कोशिश कर रही है. वो ज़िन्दगी की छोटी छोटी खुशियों से फिर के काफी कुछ सीख रही है. परिवार के लिए खाना बनाना, अपनी प्यारी सी बिल्ली के साथ खेलना और अपने पौधों की देखभाल करना उसे अब अच्छा लगता है. जॉर्डन कहती है, "मुझे डिस्को अच्छे लगते हैं. मुझे डांस अच्छा लगता है मगर मै उस दिन के बाद से कभी भी वहां वापस नहीं गई. मेरा मन करता है की मै पार्टी में जाऊं, वैसे ही ड्रेसअप होने का मन करता है मगर बहुत डर लगता है."


ये पूछने पर की क्या वो चाहती है की जिन नेताओं ने उसको लेकर भद्दी बातें करी थी वो माफ़ी मांगे, जॉर्डन कहती है की उसे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. "मेरे मन में उन लोगों के लिए कोई द्वेष नहीं है. मुझे नहीं पता उन्होंने क्या सोच कर ये सब बोला. वो अगर मुझसे माफ़ी मांगना भी चाहते हैं तो मुझे न्याय दिलवाने में मेरी मदद करे. मेरी न सही, मगर हर वो औरत जो मेरे जैसे हालातों से गुज़रती है उसको न्याय दिलाएं".

रेस्टोरेंट में जाने से रोका गया 
सितम्बर, 2014 में सुज़ैट के साथ एक और चौकाने वाली घटना घटी जब उसे कोलकाता के एक मशहूर रेस्टोरेंट में इस वजह से जाने से रोक दिया क्यों की बैंक मैनेजर ने उसे पहचान लिया था की वो पार्क स्ट्रीट केस वाली पीड़िता है. दूसरी तरफ रेस्टोरेंट के मैनेजर दीप्तेन बनर्जी का कहना ये था की उसने जॉर्डन को इस वजह से मना किया क्यों की उसके रेस्टोरेंट में आने से रेस्टोरेंट में हलचल मच सकती थी. मैनेजर के अनुसार सुज़ैट पहले भी अलग अलग लोगों के साथ वहां जा चुकी थी और काफी हंगामा कर चुकी थी और उसके पास इसकी वीडियो फुटेज भी है तभी उसने जॉर्डन को अंदर आने से मना कर दिया. दूसरी तरफ जॉर्डन का कहना ये था की मैनेजर की बातें झूठ हैं , वो पहले सिर्फ एक बार ही इस रेस्टोरेंट में आई है.

जॉर्डन ने अपने साथ हुए इस वीभत्स हादसे को आमिर खान के शो सत्यमेव जयते में भी व्यक्त किया था.

क्राइम पेट्रोल द्वारा ये केस प्रस्तुत किया है. देखने के लिए इस पोस्ट पर जाए:
http://crimepatroldastak.blogspot.com/2012/07/crime-patrol-dastak-37-year-old-rita.html

Read More

Posted On: Saturday, November 8, 2014

Double Corssed: Businessman Vijay Bakshi's body found inside Bed Box (Episode 430, 431 on 8th & 9th Nov 2014)


Double Crossed
डबल क्रॉस्ड


Foul smell is coming out of a society flat from last two days in Ghaziabad UP. A man living near that flats informs police about this. He tells them that owner of the flat lives somewhere outside India and this flat was given on rent through a broker Jagdish.

Police call broker and he tells that he allotted that flat to a man named Arvind Shukla on rent. He arranges the key of the flat to the police. Entering the flat police finds the dead body of an aged man inside a bed-box. Police send decease's photo to broker Jagdish but he confirms that this body is not Arvind Shukla. Police call Arvind Shukla but his number is switched off. Though it is a blind murder case, police publish deceased photos to newspaper for identification.

A lady in Mumbai named Sunita identifies the body. She calls her friend Kavita Sharma that police found dead body of Vijay Bakshi. Kavita Sharma is divorced wife of Vijay Bakshi who got divorced 2 years before. She lives with his daughter Archana (played by Shriya Popat) and runs a Gift Shop in Mumbai. Neither Sunita nor Kavita calls to police that they know the person who died. Daughter Archana also does not take an interest in the matter.

Later police get a call from a property consultant Sandeep Ahuja who informs the police that he knows whose body is that. He tells them that deceased Vijay Bakshi was a wealthy businessman and they have worked together for 4-5 months. Through Ahuja police reach Kavita also but she directly denies of taking any responsibility of the case. She also tells that she didn't even take any compensation from Bakshi while getting a divorce. Police tell Kavita that her daughter Archana is nominated in most of the properties of Bakshi.

Further investigation reveals that this murder was conspired by Arvind Shukla, Shoaib, Ejaaz, Satish Gupta and a call girl Rupali Sethi...
Anuj Nayak, Gulshan Panday, kajal sharma, Pawan Chopra, Raaj Singh, Rutwij Vaidya, Sandeep Ahuja, Satish Gupta, Sharat Sonu, Shriya Popat, sohail, Soni Kiran, sunita, Urvashi Sharma, uttar pradesh, Vijay Bakshi,
Shriya Popat

गाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश के एक सोसाइटी फ्लैट से किसी चीज की सड़ने की दुर्गन्ध आ रही है. उसी फ्लैट के पास वाले फ्लैट का एक निवासी पुलिस को फ़ोन कर के बताता है की उसके पास के फ्लैट से पिछले 2 दिन से बदबू आरही है. वो पुलिस को बताता है की फ्लैट का मालिक तो विदेश में रहता है मगर फ्लैट एक ब्रोकर जगदीश ने किराए पर किसी को दिलवाया था.

पुलिस ब्रोकर को कॉल करती है तो वो बताता है की वो फ्लैट अरविन्द शुक्ला नाम के एक शख्स को उसने किराये पर दिलवाया था. वो पुलिस तक उस फ्लैट की चाभी पहुचवाता है. अन्दर जाने पर पुलिस को एक डबलबेड के अन्दर एक आदमी की लाश मिलती है. ब्रोकर बोलता है की ये लाश अरविन्द शुक्ला की नहीं है. पुलिस अरविन्द शुक्ला को फ़ोन लगाती है मगर उसका फ़ोन स्विचऑफ है. फ़िलहाल पुलिस के लिए ये लाश लावारिस है सो वो उसकी फोटो न्यूज़ पेपर्स में देते हैं.

मुंबई में रहने वाली कविता शर्मा की दोस्त सुनीता उस फोटो को पहचान लेती है और कविता को फ़ोन कर के बताती है की विजय बख्शी की लाश मिली है पुलिस को. कविता शर्मा विजय बख्शी की तलाकशुदा पत्नी है जिनका दो साल पहले तलाक हुआ था. कविता अपनी बेटी अर्चना के साथ रहती है और एक गिफ्ट शॉप चलाती है. कविता ये खबर मिलने के बाद भी पुलिस को कॉल नहीं करती है और अपनी बेटी को बताती है की उसके पिता की मौत हो गई है. बेटी अर्चना भी इसमें कोई इंटरेस्ट नहीं लेती है और कहती है की जो शख्स उनके लिए पहले से ही मारा हुआ है उसका जीने या मरने से उसे कोई फर्क नहीं पड़ता.

इसके बाद पुलिस को संदीप आहूजा नाम के एक प्रॉपर्टी कंसलटेंट का फ़ोन जाता है जो बताता है की वो इस लाश को पहचानता है, ये विजय बख्शी की लाश है, वो पुलिस को बताता है विजय बख्शी एक बहुत पैसे वाला प्रॉपर्टी कंसलटेंट है और उसने कुछ 4-5 महीने बख्शी के साथ काम किया हुआ है इसलिए वो उसे पहचानता है. आहूजा के माध्यम से पुलिस कविता तक भी पहुचती है मगर कविता साफ़ मन करती है की पिछले 2 साल से उसका बख्शी से कोई ताल्लुक नहीं है, यहाँ तक की उसने तलाक लेते टाइम किसी तरह की कोई अल्लुम्नी भी नहीं मांगी थी. पुलिस कविता को बताती है की बख्शी ने अपनी ज़्यादातर प्रॉपर्टी में उनकी बेटी अर्चना को नॉमनी बनाया हुआ था.

पुलिस तफ्तीश आगे बढती है तो पता चलता है की इस साजिश में अरविंद शुक्ला के अलावा एजाज़, सतीश गुप्ता और रुपाली नाम की एक कॉल गर्ल संलिप्त है.......

YouTube:
Part 1: https://www.youtube.com/watch?v=iIsN6vESxTU
Part 2: https://www.youtube.com/watch?v=twfgrXldIDM

SonyLiv:
Part 1: www.sonyliv.com...Ep-430---Double-Crossed---1
Part 2: www.sonyliv.com...Ep-431---Double-Crossed---2

Here is the inside story of the case....
http://thrill-suspense.blogspot.com/2014/11/crime-patrol-70-year-olds-body-found-in.html
Search Tags: K K Chopra, Rocky, Tughlaqabad, Rajan, Govindpuri, Bareilly, Komal, Arif, DDA Flat, Kalka Ji, ATM, PIN, Archana, Arvind Shukla, Ejaz, Bakshi

Read More